×

सेना का खुलासा: पाकिस्तान का था ये खतरनाक प्लान, आतंकियों ने कबूला

 जम्मू-कश्मीर में भारतीय सेना ने लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकवादियों को गिरफ्तार कर लिया है। चिनार सेना के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल केजेएस ढिल्लन और जम्मू-कश्मीर पुलिस के एडीजी मुनीर खान ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इसकी जानकारी दी।

Vidushi Mishra
Updated on: 4 Sep 2019 7:46 AM GMT
सेना का खुलासा: पाकिस्तान का था ये खतरनाक प्लान, आतंकियों ने कबूला
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली : जम्मू-कश्मीर में भारतीय सेना ने लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकवादियों को गिरफ्तार कर लिया है। चिनार सेना के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल केजेएस ढिल्लन और जम्मू-कश्मीर पुलिस के एडीजी मुनीर खान ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इसकी जानकारी दी।

पूरी जानकारी देेते हुए दोनों सेना के अधिकारियों ने कहा- कि घाटी में पाकिस्तान की ओर से घुसपैठ की कोशिश की जा रही है। हमने दो पाकिस्तानी घुसपैठियों को गिरफ्तार किया है। यह दोनों आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा से जुड़े हुए हैं। प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान पकड़े गए आतंकी का वीडियो भी जारी किया गया।

यह भी देखें... कश्मीर का छोटा डॉन! 10 साल की उम्र में पूरी घाटी में मचाया हंगामा

आपकों बता दें कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के हटने के बाद से पाकिस्तान की तरफ से बार-बार सीजफायर और घुसपैठ की कोशिश की जा रही है। लेकिन भारतीय सेना की तैनाती की वजह से आतंकी अपने मुनसूबों को अंजाम नहीं दे पा रहे हैं।

जम्मू-कश्मीर की स्थिति

जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटने के बाद से लगभग एक महीने से पांबदी झेल रहे जम्मू-कश्मीर के प्रधान सचिव रोहित कंसल ने बताया कि घाटी के 90 % हिस्से में दिन के समय की पाबंदियां हटा दी गई है।

कंसल ने कहा कि कश्मीर घाटी में 111 पुलिस थाना क्षेत्रों में दिन के समय की पाबंदियां और 92 थाना क्षेत्रों से पूरी तरह से हटा दी गई है। जो पिछले हफ्ते के 81 थाना क्षेत्रों से अधिक है। उन्होंने कहा, ‘‘इस तरह घाटी के 90% हिस्से में दिन के समय की पाबंदियां पूरी तरह से हटा दी गई हैं।''

यह भी देखें... पाकिस्तानियों की हिंसा: अंडे, टमाटर, जूतों से हमला, निशाना थी भारतीय उच्चायोग

प्रधान सचिव ने कहा, ‘‘जम्मू और लद्दाख सभी तरह की पाबंदियों से पहले से ही पूरी तरह से मुक्त हैं। जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के 93% हिस्से आज किसी निषेधाज्ञा से पूरी तरह से मुक्त हैं।'' उन्होंने कहा कि घाटी में 26,000 से अधिक लैंडलाइन फोन काम कर रहे हैं। कंसल ने कहा, ‘‘हमने 29 और टेलीफोन एक्सचेंज खोलने का फैसला किया है। इस तरह कुल 95 एक्सचेंज में से अब 76 संचालित हो रहे हैं।''

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story