जम्मू में सेना ने मार गिराए 25 आतंकवादी, घाटी में अभी भी छिपे हुए हैं 250 आतंकी

जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक (DGP) दिलबाग सिंह ने शनिवार को कहा कि कश्मीर में लिस्टेड आतंकवादियों की संख्या घटकर 250 से नीचे चली गई है। इस साल के पहले दो महीनों में सुरक्षाबलों के करीब एक दर्जन अभियानों में 25 आतंकवादी मारे गए हैं।

जम्मू: जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक (DGP) दिलबाग सिंह ने शनिवार को कहा कि कश्मीर में लिस्टेड आतंकवादियों की संख्या घटकर 250 से नीचे चली गई है। इस साल के पहले दो महीनों में सुरक्षाबलों के करीब एक दर्जन अभियानों में 25 आतंकवादी मारे गए हैं।

उन्होंने यह भी कहा कि इस साल अब तक बस तीन आतंकवादियों की अंतरराष्ट्रीय सीमा पर घुसपैठ करने की पुष्टि हुई है।
डीजीपी ने कहा, ‘लिस्टेड आतंकवादियों की पहले जो संख्या थी, उसमें अब गिरावट आई है। करीब 240-250 लिस्टेड आतंकवादी घाटी में हैं। पिछले दो महीनों में घुसपैठ करने वाले तथाकथित और सत्यापित आतंकवादी तीन हैं। उनमें से एक जैश-ए-मोहम्मद का एक आतंकवादी हाल ही में त्राल में मारा गया।’

ये भी पढ़ें…जम्मू और कश्मीर: सुरक्षा बलों ने पुलवामा में तीन आतंकियों को मार गिराया

2020 में अबतक एक दर्जन सफल अभियान

डीजीपी ने कहा कि 2020 में अबतक एक दर्जन सफल अभियान हुए हैं जिनमें कश्मीर घाटी में दस और जम्मू क्षेत्र में दो हुए। उन्होंने कहा, ‘अब तक, 25 आतंकवादी इन अभियानों में मारे गये। घाटी में नौ आतंकवादी गिरफ्तार किए गए हैं जबकि जम्मू में तीन चार आतंकवाद गिरफ्त में आए। किसी न किसी रूप से आतंकवादी गतिविधियों को बढ़ावा देने और उसमें सहयोग करने को लेकर 40 से अधिक लोग गिरफ्तार किए गए हैं।’

वीपीएन के माध्यम से सोशल मीडिया के दुरुपयोग किए जाने का जिक्र करते हुए सिंह ने कहा, ‘सोशल मीडिया के दुरुपयोग ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं। हंदवारा के निवासी वसीम डार को जनभावना भड़काने के इरादे से सोशल मीडिया पर गैर जिम्मेदाराना सामग्री पोस्ट करने को लेकर गिरफ्तार किया गया। हम ऐसी घटनाओं का संज्ञान ले रहे हैं और कार्रवाई की जाएगी।’

जम्मू कश्मीर की सियासत गरमाई: अब ‘आपकी पार्टी’ मुकाबले के लिए तैयार

एसएसपी रैंक के अधिकारी को सोशल मीडिया पर धमकी

एसएसपी रैंक के अधिकारी को सोशल मीडिया पर धमकी मिलने के सवाल पर पुलिस महानिरीक्षक (कश्मीर) विजय कुमार ने कहा, ‘जिस अकाउंट से यह धमकी मिली, वह हाफिज सुहैल की है। हमने सत्यापित कर लिया है और उपयोगकर्ता का असली नाम सुहैल वाली है और वह पुलवामा के दलीपुरा का निवासी है।

हमने उसके घर की तलाशी ली है, लेकिन उसके माता-पिता ने कहा कि वह फिलहाल दुबई में है। उसके खिलाफ मामला दर्ज किया जाएगा और हम कार्रवाई करेंगे।’

कश्मीरी पंडितों के प्रस्तावित मार्च की सुरक्षा व्यवस्था के बारे में एक सवाल के जवाब में डीजीपी ने कहा, ‘पहले नागरिक प्रशासन को आदेश देने दीजिए, जब वह हो जाएगा तब हम पर्याप्त एहतियात बरतेंगे।’

उमर अब्दुल्ला की हिरासत पर SC ने जम्मू-कश्मीर प्रशासन को भेजा नोटिस