VIP भगोड़ों का खुलासा! जितने का लगाया चूना, उतने में होता देश का विकास

ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स ने जानकारी देते हुए बताया कि दोनों कारोबारियों ने उसकी मुंबई स्थित शाखा से 289 करोड़ का लोन लिया था। नोटिस के मुताबिक नीरव मोदी की कंपनी फायरस्टार इंटरनेशनल प्राइवेट लिमिटेड व फायरस्टार डायमंड प्रा. लि. ने

मुंबई: भगोड़ा साबित हो चुका हीरा कारोबारी नीरव मोदी के बारे में नई जानकारी सामने आयी है। सरकारी क्षेत्र के कर्जदाता ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स ने बताया कि भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी और मेहुल चोकसी की जोड़ी उसके भी करीब 289 करोड़ रुपये ले भागी है।
दरअसल, बैंक ने यह जानकारी ऐसे समय में दी है, जब उसका पंजाब नेशनल बैंक में विलय होने जा रहा है।

यह है पूरा मामला…

नीरव मोदी और मेहुल चोकसी द्वारा पीएनबी को 13,500 करोड़ का चूना लगाने की खबर पिछले वर्ष फरवरी में आने के बाद देश का बैंकिंग सेक्टर हिल गया था।

यह भी पढ़ें.. चंद्रयान-2: ननिहाल नहीं पहुंच पाया यान, मामा के घर पहुंचने से पहले वो 15 मिनट

इस घटना के सामने आने के 18 माह बाद ओबीसी ने अब दोनों भगोड़े कारोबारियों और उनकी कंपनियों को विलफुल डिफॉल्टर घोषित करने संबंधी नोटिस जारी किया है।

ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स ने जानकारी देते हुए बताया कि दोनों कारोबारियों ने उसकी मुंबई स्थित शाखा से 289 करोड़ का लोन लिया था। नोटिस के मुताबिक नीरव मोदी की कंपनी फायरस्टार इंटरनेशनल प्राइवेट लिमिटेड व फायरस्टार डायमंड प्रा. लि. ने ओबीसी का 60.41 करोड़ और 32.25 करोड़ का लोन नहीं लौटाया है।

यह भी पढ़ें.. चंद्रयान-2: जानें कैसे, मिशन अभी समाप्त नहीं हुआ

वहीं चोकसी की कंपनी गीतांजलि जेम्स लिमिटेड और नक्षत्र वल्र्ड लिमिटेड ने ओबीसी का 13.45 करोड़ और 59.53 करोड़ का लोन नहीं लौटाया है।

बताते चलें कि बीते साल फरवरी में घोटाला सामने आने के बाद दोनों अपने परिवार के आरोपित सदस्यों के साथ देश छोड़कर भाग गए थे।

बताया जा रहा है कि ओबीसी ने 21 मार्च, 2018 को उनके लोन को एनपीए घोषित कर दिया था। इसके बाद बैंक ने लोन की रिकवरी के लिए दोनों भगोड़े कारोबारियों की संपत्ति की पहचान शुरू कर दी थी।

ओबीसी पर सवाल…

ओबीसी द्वारा घोटाला सामने आने के लगभग 18 माह बाद लोन का ब्योरा देने पर सवाल उठाये जा रहे हैं। दोनों व्यापारियों ने कुछ दूसरे बैंकों के लोन भी नहीं लौटाए हैं।

गौरतलब है कि नीरव मोदी और मेहुल चोकसी द्वारा पीएनबी को 13,500 करोड़ का चूना लगाने के बाद विदेश भाग गये थे, उसके बाद से इन दोनों का भगोड़ा साबित कर दिया था।