सरकार का बड़ा एलान: कर्मचारियों के लिए खुशखबरी, मिलेगा दो-दो तोहफा

उल्लेखनीय है कि इस ऐलान से राज्य के 3.5 लाख कर्मचारियों और 1.5 लाख पेंशनधारकों को लाभ मिलेगा। साथ ही सरकार ने 7वें वेतन आयोग की सिफारिशों के तहत 10 प्रतिशत बकाया राशि देने का भी ऐलान किया है।

नई दिल्ली: रंगों के त्यौहार होली के पहले ओडिशा सरकार ने अपने राज्य के कर्मचारियों के लिए बड़े तोहफे का ऐलान किया है। राज्य सरकार का यह ऐलान कर्मचारियों के लिए बड़ी राहत लेकर आएगा।

बता दें कि ओडिशा की नवीन पटनायक सरकार की घोषणा के मुताबिक सरकारी कर्मचारियों को अब 5 फीसदी ज्यादा महंगाई भत्ता मिलेगा। यही नहीं पटनायक सरकार अपने कर्मचारियो को 7वें वेतन आयोग की सिफारिशों के तहत मिलने वाली राशि (बकाया राशि) का 10 फीसदी हिस्सा भी देने का एलान किया है। इससे ओडिशा सरकार के लाखों कर्मचारियों और पेंशनधारकों को लाभ होगा। जानकारी के मुताबिक यह बढ़ोतरी जनवरी 2020 से लागू होगी।

उल्लेखनीय है कि इस ऐलान से राज्य के 3.5 लाख कर्मचारियों और 1.5 लाख पेंशनधारकों को लाभ मिलेगा। साथ ही सरकार ने 7वें वेतन आयोग की सिफारिशों के तहत 10 प्रतिशत बकाया राशि देने का भी ऐलान किया है।

ये भी पढ़ें— ख़तरनाक है ट्रंप का ये समझौता, रिपोर्ट में हुआ बड़ा खुलासा

इसके पहले भी दिया था बड़ा तोहफा

बता दें कि ओडिशा की नवीन पटनायक सरकार पिछले 2 वित्त वर्षों में पेंशनधारकों का 100 फीसदी बकाया राशि जारी कर चुकी है।

यहां जानें आखिर क्‍या होता है महंगाई भत्‍ता?

दरअसल, महंगाई भत्‍ता सरकारी कर्मचारियों, पब्लिक सेक्टर के कर्मचारियों और पेंशनधारकों को मिलने वाला उनके वेतन का ही एक हिस्सा है। यह कर्मचारियों के वेतन में ही शामिल होता है। राज्य सरकारें साल में दो बार महंगाई भत्‍ते को बढ़ाती हैं।

महंगाई के प्रभाव से बचाने के लिए सरकारी कर्मचारियों को दिया जाने वाला यह भत्ता उपभोक्‍ता मूल्‍य सूचकांक से संबद्ध होता है।

यहां से हुई थी महंगाई भत्‍ता की शुरूआत

जानकारी के मुताबिक इसकी शुरुआत दूसरे विश्व युद्ध के दौरान हुई थी।

उस समय सिपाहियों को उनकी सैलरी से अलग खाने-पीने और अन्य सुविधाओं के लिए पैसे दिए जाते थे। इसमें महंगाई के आधार पर बढ़ोतरी की जाती रही है। भारत में इसकी शुरुआत 1972 में हुई थी।