बिहार बाढ़: 48 घंटे में मिलेगी सहायता राशि, मैसेज से दी जाएगी जानकारी

नीतीश सरकार की ओर से प्रत्यक्ष लाभ स्थानांतरण (डीबीटी) के जरिये सूबे के करीब साढ़े तीन लाख परिवारों के खातों में 6-6 हजार रुपये की राशि ट्रांसफर की जा रही है।

बिहार: राज्य सरकार ने बाढ़ पीड़ितों को आर्थिक मदद मुहैया कराने के लिए उनके खातों में 6-6 हजार रुपये की सहायता राशि तत्काल मुहैया करायी है। नीतीश सरकार की ओर से प्रत्यक्ष लाभ स्थानांतरण (डीबीटी) के जरिये सूबे के करीब साढ़े तीन लाख परिवारों के खातों में 6-6 हजार रुपये की राशि ट्रांसफर की जा रही है।

ये भी पढ़ें…बिहार में बाढ़ बनी आफत, निगली 29 लोगों की जान, कई जिले खतरे में

48 घंटे के अंदर मिलेगी सहायता राशि

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज इसकी शुरुआत की। पहले चरण में 302329 सत्यापित परिवारों को 1,81,39,74,000 रुपये उनके बैंख खाते में भेज दिए गए हैं। ये राशि उन्हें 48 घंटे के भीतर मिल जाएगी। लाभार्थियों के खाते में राशि भेजने के बाद उन्हें मैसेज के जरिए भी सूचित किया जा रहा है। बचे हुए प्रभावित परिवारों के सत्यापन का काम पूरा किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें…बिहार में चमकी बुखार के मामले में केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल किया जवाब

इन जिलों का किया गया सत्यापन

इसके तहत मुजफ्फरपुर में 6855, अररिया में 42441, दरभंगा में 67028, किशनगंज में 3724, मधुबनी में 35222, पूर्वी चंपारण 31190, पूर्णिया में 20738, सहरसा में 4967, शिवहर में 8861, सीतामढ़ी में 77457 और सुपौल में 3846 प्रभावित परिवारों का सत्यापन किया गया और सहायता राशि भेजी गई।

33 लोगों की हो चुकी है मौत

बिहार के 12 जिलों में आयी बाढ़ के कारण अब तक 33 लोगों की मौत हो चुकी है और 26 लाख 79 हजार 936 लोग प्रभावित हुए है। आपदा प्रबंधन विभाग से मंगलवार को मिली जानकारी के मुताबिक बिहार के 12 जिलों शिवहर, सीतामढी, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, मधुबनी, दरभंगा, सहरसा, सुपौल, किशनगंज, अररिया, पूर्णिया एवं कटिहार में अब तक 33 लोगों की मौत होने के साथ 26 लाख 79 हजार 936 लोग प्रभावित हुए है।

ये जिले बाढ़ से हुए प्रभावित

बिहार में बाढ़ के कारण मरने वाले लोगों में सीतामढ़ी के 11, अररिया के नौ, शिवहर के सात, किशनगंज के चार और सुपौल दो लोग शामिल हैं। बाढ प्रभावित 12 जिलों में कुल 185 राहत शिविर चलाए जा रहे हैं, जहां 1,12,653 लोग शरण लिए हुए हैं। उनके भोजन की व्यवस्था के लिए 812 सामुदायिक रसोई चलाई जा रही हैं।

ये भी पढ़ें…बिहार के बाद अब यूपी के इस जिले में चमकी बुखार ने दी दस्तक