यहां BJP कार्यकर्ता ने सरेआम खींच ली महिला डेप्युटी कलेक्टर की चोटी, देखें ये Video

मध्य प्रदेश में ऐसे ही एक प्रदर्शन के दौरान एक महिला डिप्टी कलेक्टर से बदसलूकी का मामला सामने आया है। भीड़ में किसी प्रदर्शनकारी ने महिला अधिकारी के बाल खींच दिए। अब इस पूरे मामले को लेकर बीजेपी हमलावर हो गई है।

इंदौर: देश के कई शहरों में जहां संशोधित नागरिकता कानून और NRC के विरोध में प्रदर्शन हो रहा है, वहीं कई जगहों पर इसके समर्थन में भी प्रदर्शन किया जा रहा है। बीजेपी के अलावा, आरएसएस से जुड़े भी संगठन कई राज्यों में इस कानून के समर्थन में धरना और मार्च आयोजित कर रहे हैं।

मध्य प्रदेश में ऐसे ही एक प्रदर्शन के दौरान एक महिला डिप्टी कलेक्टर से बदसलूकी का मामला सामने आया है। भीड़ में किसी प्रदर्शनकारी ने महिला अधिकारी के बाल खींच दिए। अब इस पूरे मामले को लेकर बीजेपी हमलावर हो गई है।

सीएए पर निर्मला सीतारमण ने कही ये बात, लगे हाय-हाय के नारे

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बीजेपी कार्यकर्ताओं पर बल प्रयोग का आरोप लगाते हुए कहा है कि कमलनाथ सरकार नागरिकों को दबाने के लिए अफसरों का सहारा ले रही है। कुछ अफसरों पर चाटुकारिता के नशे में सीमाएं लांघने का आरोप लगाते हुए चौहान ने उन्हें चेतावनी दी है कि वे न भूले कि कोई सरकार स्थायी नहीं होती।

रविवार को राजगढ़ में बीजेपी के कार्यकर्ता CAA के पक्ष में प्रदर्शन कर रहे थे। इस दौरान डेप्युटी कलेक्टर प्रिया वर्मा प्रदर्शनकारियों को पीटती हुईं दिखीं। वह कॉलर खींचकर प्रदर्शनकारियों को थप्पड़ लगाती दिखीं। इस दौरान उनके साथ बदसलूकी भी की गई। सामने आए विडियो में देखा जा सकता है कि किसी कार्यकर्ता ने प्रियंका वर्मा के बाल खींच लिए।

CAA समर्थन रैली में सीएम योगी ने कहा- देश का चीरहरण हो रहा है और हम…

पुलिसकर्मी पर भड़क गईं डेप्युटी कलेक्टर

अपने साथी को इस कदर पिटता देख बाकी प्रदर्शनकारियों ने प्रिया वर्मा को घेर लिया और उसे छुड़ाने लगे। इसी का फायदा उठाकर किसी ने पीछे से उनकी चोटी पकड़कर जोर से खींच ली। इसके तुरंत बाद ही पुलिसकर्मियों ने उन्हें घेर लिया और सुरक्षा घेरे में कर लिया। अपने साथ हुई इस बदसलूकी के बाद प्रिया वर्मा महिला पुलिसकर्मी को डांटती दिखाई दीं।

शिवराज सिंह चौहान ने संभाला मोर्चा

CAA के समर्थन में प्रदर्शन के दौरान बीजेपी कार्यकर्ताओं को पीटे जाने के खिलाफ खुद पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मोर्चा संभाल लिया है। उन्होंने राजगढ़ की घटना को लोकतंत्र के लिए काला दिन बताते हुए एक के बाद एक कई ट्वीट किए। उन्होंने पूछा कि क्या डेप्युटी कलेक्टर को बीजेपी कार्यकर्ताओं को पीटने का आदेश मिला था।

चाटुकारिता के नशे में सीमाएं लांघ रहे अधिकारी: शिवराज

डेप्युटी कलेक्टर के प्रदर्शनकारियों पर हाथ उठाने को लेकर मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान ने ट्विटर पर लिखा, ‘मध्यप्रदेश में ऐसे अधिकारी, जो चाटुकारिता के नशे में अपनी सीमाएं लांघ रहे हैं, उनपर कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए। कांग्रेस सरकार के साथ-साथ अब शासन-प्रशासन की मानसिकता भी हिंसक हो गई है, जिसका अहिंसक विरोध हम प्रदेशवासियों के साथ करेंगे! हिंसक मानसिकता का अहिंसक विरोध!’ उन्होंने डेप्युटी कलेक्टर प्रिया वर्मा पर गली के गुंडे-बदमाशों की तरह नागरिकों पर हमला करने का आरोप लगाया।

सामने आए विडियो में देखा जा सकता है कि प्रिया वर्मा प्रदर्शनकारियों को पकड़कर पुलिस के हवाले कर रही हैं। उन्होंने तिरंगा लिए एक प्रदर्शनकारी को पकड़कर खींचने की कोशिश की तो वह जमीन पर बैठ गया। इसके बाद उन्होंने एक और प्रदर्शनकारी का कॉलर पकड़ा और उसपर थप्पड़ बरसाने लगीं।

CAA पर कन्फ्यूज हुए कांग्रेसी नेता, बैकफुट पर आए सिब्बल