मंत्रिमंडल विस्तार: CM फडणवीस की 13 नए मंत्रियों वाली सोशल इंजीनियरिंग

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने रविवार को मंत्रिमंडल का दूसरा विस्तार किया। 13 नए मंत्री बनाए गए हैं, इनमें से 8 ने कैबिनेट और 5 ने राज्यमंत्री के तौर पर शपथ ली।

मुंबई: महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने रविवार को मंत्रिमंडल का दूसरा विस्तार किया। 13 नए मंत्री बनाए गए हैं, इनमें से 8 ने कैबिनेट और 5 ने राज्यमंत्री के तौर पर शपथ ली। अब फडणवीस मंत्रिमंडल में मंत्रियों की संख्या 51 हो गई है। कांग्रेस छोड़ने वाले शिर्डी के विधायक राधाकृष्ण विखे पाटिल और राकांपा से शिवसेना में आए जयदत्त क्षीरसागर को कैबिनेट मंत्री बनाया गया।

यह भी देखें… अयोध्या: उद्धव ठाकरे का बयान, मैंने कहा था पहले मंदिर फिर सरकार

भाजपा के 6 नेताओं को कैबिनेट और 4 को राज्यमंत्री बनाया गया है। वहीं, शिवसेना के कोटे से 2 को कैबिनेट में जगह दी गई। आरपीआई के कोटे से एक राज्यमंत्री मंत्रिमंडल में शामिल किया गया है। भाजपा ने इस विस्तार में करीब 4 महीने बाद (अक्टूबर-नवंबर) होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले सहयोगी दलों को साधने की कोशिश की।

कैबिनेट मंत्री

1. राधाकृष्ण विखे पाटिल- पिछले दिनों कांग्रेस छोड़ी, पहले विपक्ष के नेता थे
2. जयदत्त क्षीरसागर- राकांपा छोड़कर शिवसेना में शामिल हुए थे
3. आशीष शेलर- बांद्रा पश्चिम से भाजपा विधायक
4. संजय श्रीराम कुटे- जलगांव (जमोड) से भाजपा विधायक
5. सुरेश खाडे- मिराज से भाजपा विधायक
6. अनिल बोंडे- मोर्शी से भाजपा विधायक
7. अशोक रामजी उइके- रालेगांव से भाजपा विधायक
8. तानाजी सावंत- राकांपा छोड़कर शिवसेना में आए

यह भी देखें… भारत पाकिस्तान मैच के लिए छुट्टी की एप्लीकेशन से बिगड़ा रेलवे का शेड्यूल

राज्यमंत्री

9. योगेश सागर- चरकोप से भाजपा विधायक
10. अविनाश महातेकर- रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (आरपीआई) के नेता
11. बाला भागड़े- पुणे भाजपा के अध्यक्ष और विधायक
12. डॉ. परिणय रमेश फुके- भंडारा-गोंदिया से विधान परिषद के सदस्य और भाजपा नेता
13. अतुल मोरेश्वर सवाई- औरंगाबाद पूर्व से भाजपा विधायक

महाराष्ट्र में अब तक 38 मंत्री थे

फडणवीस सरकार में पहला मंत्रिमंडल विस्तार जून 2016 में हुआ था। दूसरे विस्तार पर चर्चा के लिए फडणवीस ने शुक्रवार देर रात शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे से मुलाकात की। अब तक महाराष्ट्र सरकार में 38 मंत्री थे। कैबिनेट का विस्तार लंबे समय से अटका हुआ था। प्रदेश की 288 विधानसभा सीटों में भाजपा के पास सबसे ज्यादा 122, शिवसेना के पास 63, कांग्रेस के पास 42 और राकांपा के पास 41 सीटें हैं।