×

कोरोना वायरस आपदा घोषित: केंद्र सरकार ने मरीजों के लिए किया ये बड़ा एलान

कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्र सरकार ने इसे आपदा घोषित कर दिया है। इसके साथ ही केंद्र सरकार ने इससे निपटने के लिए राज्यों को अपने आपदा फंड का खजाना खोलने की छूट दे दी है। इस घातक वायरस से अब तक दो मौत हुई है और लगभग 84 लोग संक्रमित हुए हैं। हालांकि, देश में इस वायरस से संक्रमित पाए गए 10 लोग ठीक भी हो चुके हैं।

suman
Published on: 15 March 2020 6:34 AM GMT
कोरोना वायरस आपदा घोषित: केंद्र सरकार ने मरीजों के लिए किया ये बड़ा एलान
X
modi government-Announcement of 4 lakhs-corona virus
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्र सरकार ने इसे आपदा घोषित कर दिया है। इसके साथ ही केंद्र सरकार ने इससे निपटने के लिए राज्यों को अपने आपदा फंड का खजाना खोलने की छूट दे दी है। इस घातक वायरस से अब तक दो मौत हुई है और लगभग 84 लोग संक्रमित हुए हैं। हालांकि, देश में इस वायरस से संक्रमित पाए गए 10 लोग ठीक भी हो चुके हैं।

महाराष्ट्र के बुलढाणा में एक संदिग्ध मरीज की मौत की खबर है। हालांकि, अभी उसके कोरोना से संक्रमित होने की पुष्टि नहीं हुई है, जांच रिपोर्ट का इंतजार है। गृह मंत्रालय ने स्टेट डिजास्टर रिस्पांस फंड (एसडीआरएफ) के नियमों में अहम बदलाव किया है। इसके तहत कोरोना को आपदा की श्रेणी में लाया गया है, ताकि आपदा फंड का राज्य इस चुनौती से निपटने के लिए इस्तेमाल कर सकें। हालांकि, राज्य इस आपदा फंड में मिलने वाली कुल सालाना राशि का 25 फीसद तक की राशि ही खर्च कर सकेंगे।

यह पढ़ें...पंचायत चुनाव 2020: आज तय होगा ‘गांव में किसकी सरकार’, मतदान शुरू

इलाज पर खर्च

शनिवार को जारी नोटीफिकेशन के तहत इस फंड का इस्तेमाल कोरोना से प्रभावित लोगों के रहने के लिए वैकल्पिक प्रबंधन सहित उनके खाने, कपड़े, दवाईयों आदि पर खर्च किया जा सकेगा। सरकार ने इसको लेकर जारी पहली अधिसूचना में कोरोना से होने वाली प्रत्येक मौत पर इस फंड से ही चार लाख रुपए की मुआवजा देने की घोषणा की थी। लेकिन बाद में उसे वापस ले लिया। गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों के मुख्य सचिवों को जारी पत्र में कहा है कि जरूरत पड़ने पर वो जांच के लिए और लैब या हेल्थ केयर उपकरण आदि खरीदने के लिए भी इस फंड का इस्तेमाल कर सकते हैं। स्वास्थ्यकर्मियों, नगर निगमकर्मियों, पुलिस और फायर बिग्रेड आदि को कोरोना संक्रमण की चुनौती से निपटने के लिए तैयार करने में इस फंड का इस्तेमाल किया जा सकेगा। इसके अलावा अस्पतालों को थर्मल स्कैनर, एयर प्यूरीफायर्स, वेंटीलेटर्स आदि से लैस करने में भी इस फंड का इस्तेमाल किया जा सकेगा। यह हिस्सा राज्य आपदा कोष को दिए जाने वाले सालाना फंड का 10 फीसद तक ही हो सकेगा।



गृह मंत्रालय के मुताबिक संक्रमित लोगों में केरल के 19 (जिनमें स्वस्थ हो चुके तीन मरीज शामिल हैं), दिल्ली के छह, उत्तर प्रदेश के 11, कर्नाटक के छह, महाराष्ट्र के 14, लद्दाख के तीन, जम्मू-कश्मीर के दो और राजस्थान, तेलंगाना, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, और पंजाब का एक-एक मामला शामिल है। लेकिन कुल संक्रमितों की संख्या बढ़ सकती है, क्योंकि महाराष्ट्र के स्वास्थ्य विभाग ने राज्य में पीडि़तों की संख्या 26 और तेलंगाना ने दो बताई है। संक्रमित 84 मामलों में 17 विदेशी भी शामिल हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय में विशेष सचिव संजीव कुमार ने कहा कि इन 84 लोगों के संपर्क में आए चार हजार से अधिक लोगों को निगरानी में रखा गया।

यह पढ़ें...देश के टॉप-10 स्मार्ट सिटी की लिस्ट जारी, इसमें यूपी के इन 4 शहरों ने बाजी मारी

वैश्विक महामारी

चीन में करीब तीन महीने पहले दस्तक देने वाला कोरोना वायरस अब वैश्विक महामारी बन चुका है। इस वायरस के संक्रमण से 5,000 से ज्‍यादा लोगों की मौत हो गई है जबकि दुनियाभर में 1,34,300 से ज्यादा लोग संक्रमित हैं। अकेले चीन में इस बीमारी के कारण अभी तक 3,176 लोगों की जान जा चुकी है। इस वायरस से इटली में 1,016 और ईरान में 514 लोगों की मौत हुई है। स्पेन में इस वायरस से 120 मौतें हुई हैं जबकि 4,209 लोग संक्रमित हुए हैं। दक्षिण कोरिया (67 मौत, 7,979 मामले) जबकि जापान में 675 लोग इस वायरस से संक्रमित पाए गए हैं।

suman

suman

Next Story