छठ पर्व पर जयपुर में धूम, यहां के सरोवरों में व्रती के लिए उचित प्रबंध

हर साल की तरह ही इस बार भी जयपुर शहर व उसके आस पास के क्षेत्रों में छठ पर्व की धूम रहेगी। सूर्य का महापर्व डाला छठ उत्सव 24 अक्टूबर नहाय खाय से शुरू होकर 27 अक्टूबर उदीयमान (उगते) सूर्य को अर्घ्य देकर समाप्त होगा।

Published by suman Published: October 31, 2019 | 11:31 pm

जयपुर: हर साल की तरह ही इस बार भी जयपुर शहर व उसके आस पास के क्षेत्रों में छठ पर्व की धूम रहेगी। सूर्य का महापर्व डाला छठ उत्सव 3 नवंबर को उदीयमान (उगते) सूर्य को अर्घ्य देकर समाप्त होगा। चार दिवसीय पर्व में पूरे शहर के सरोवरों की साफ-सफाई की व्यवस्था कर ली गई है साथ में यहां भव्य आयोजन होंगे। प्रतापनगर, आमेर मावठा और गलताजी में सबसे बड़े आयोजन होंगे।

इस अवसर पर राजस्थान मैथिल परिषद और अरुणोदय विकास समिति प्रतापनगर के संयुक्त तत्वावधान में ढेला का बास बालाजी प्रतापनगर के सरोवर में भी आयोजन होगा। 31 अक्टूबर को नहाय खाय के साथ छठ का शुभारंभ। 1 नवंबर शुक्रवार को खरना के साथ व्रती अपनी उपासना शुरू करेंगे।

महापर्व छठ के दौरान पूजा में इन बातों को ध्यान में रखें, वरना होगा नुकसान

1 नवंबर को खरना,2 नंवबर को सरोवर में सायंकालीन अर्घ्य का आयोजन होगा। साथ ही सरोवर के तट पर कल्चरल प्रोग्राम । भजन, संगीत के साथ रातभर उपासक आराधना करेंगे। 3 नवंबर  को प्रात:काल उगते हुए सूर्य को अर्घ्य देंगे।

ये सब सरोवर पर उपासकों के लिए सभी तरह की व्यवस्था की गई है। हमेशा की तरह कल्चरल प्रोग्राम में बहुत से मनोरंजक प्रोग्राम होंगे। रोशनी और सुरक्षा के उचित प्रबंध किए गए हैं।