अपना मुख्यमंत्री-कैबिनेट: असम के गांव की मिनिस्ट्री, ऐसे करते हैं काम

असम के दारंग जिले में गुवाहाटी से 45 किलोमीटर दूर स्थित हलदा सम्भवतः देश का एकमात्र गांव है जिसका अपना मंत्रिमंडल है जिसमें 26 मंत्री हैं और 16 विभाग हैं। इस गांव की सरकार में मुख्यमंत्री, कृषि मंत्री, वित्त मंत्री आदि भी हैं।

Published by SK Gautam Published: January 19, 2021 | 6:54 pm
assam

अपना मुख्यमंत्री-कैबिनेट: असम के गांव की मिनिस्ट्री, ऐसे करते हैं काम-(courtesy-social media)

लखनऊ। गांवों के कामकाज की देखभाल ग्राम पंचायत, पंचायत समिति, जिला परिषद करते हैं। लेकिन असम में एक ऐसा गांव है जिसका अपना खुद का मंत्रिमंडल और मुख्यमंत्री है। असम के दारंग जिले में गुवाहाटी से 45 किलोमीटर दूर स्थित हलदा सम्भवतः देश का एकमात्र गांव है जिसका अपना मंत्रिमंडल है जिसमें 26 मंत्री हैं और 16 विभाग हैं। इस गांव की सरकार में मुख्यमंत्री, कृषि मंत्री, वित्त मंत्री आदि भी हैं।

जब गठित की गई गांव की मिनिस्ट्री

2 अक्टूबर 2017 को हलदा गांव चर्चा में आया था जब जिला प्रशासन ने इसे दारंग जिले का सबसे स्वच्छ गांव घोषित किया। उसी दिन गांव की मिनिस्ट्री गठित की गई और अनेक ग्रामीणों को अलग-अलग जिम्मेदारी सौंपी गई। उद्देश्य था गांव का विकास करना।

हलदा गांव के निवासियों की इस अनोखी पहल को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी नोट किया और ट्विटर पर इस गांव की उपलब्धि के बारे में शेयर भी किया। ग्रामीणों के प्रयासों की प्रशंसा करते हुए मोदी ने लिखा कि ‘हमारी नारी शक्ति स्वच्छ भारत मिशन को बहुमूल्य गति प्रदान कर रही हैं।’

pm modi-2

 

कृषि सुधारों के लिए भी मशहूर है गांव

सिर्फ स्वच्छता ही नहीं बल्कि हलदा गांव अपने कृषि सुधारों के लिए भी मशहूर है। यहां के ग्रामीण मिट्टी, पानी, उर्वरक आदि का बेहतरीन और प्रभावी ढंग से इस्तेमाल करते हैं। यही नहीं, ये किसान विभिन्न प्रकार की फसलें उगाते हैं। इसके चलते उपज बढ़ने के साथ साथ किसानों की आय बढ़ी है।

ये भी देखें: मोदी की दाढ़ी-बाल का पश्चिम बंगाल से कनेक्शन, इसलिए रखा टैगोर जैसा लुक

हलदा के ‘चीफ मिनिस्टर’ भास्कर ज्योति दास बताते हैं कि पिछले तीन साल से गांव के किसान खेतों को जोते बगैर आलू उगा रहे हैं। ये तरीका बहुत लोकप्रिय हुआ है। एक बीघे में 35 क्विंटल आलू की उपज मिल रही है। इसके साथ साथ सरसों की खेती भी इसी तरह से की जा रही है। भास्कर दास कहते हैं कि गांव के कैबिनेट का फोकस आजीविका और टेक्नोलॉजिकल सुधारों के जरिये विकास करने पर है।

assam-3

ये भी देखें: अब सासंदो को नहीं मिलेगा खाना, 29 जनवरी से शुरू हो रहा बजट सत्र

गांव के ‘मंत्री’ निभाते हैं अपनी जिम्मेदारियों को

गांव के ‘मंत्री’ अपनी जिम्मेदारियों को बखूबी निभाते हैं और गांववालों के प्रति पूरी तरह जवाबदेही रखते हैं। हलदा गांव के लोग अपने गांव को पर्यटकों के लिए एक आकर्षक डेस्टिनेशन बनाना चाहते हैं ताकि दुनिया इससे कुछ सीख सके।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App