×

बॉर्डर पर चीनी सेना अब नहीं कर पाएगी ज्यादा उछल-कूद, गलती की मिलेगी ऐसी सजा

पूर्वी लद्दाख में सीमा पर भारत और चीन के बीच पिछले पांच महीने से भी अधिक समय से टकराव की स्थिति बनी हुई है, जिससे दोनों देशों के रिश्ते बिगड़ चुके हैं। दोनों पक्षों के बीच राजनयिक एवं सैन्य स्तर पर कई दौर की वार्ता हो चुकी है।

Newstrack
Published on: 1 Nov 2020 8:21 AM GMT
बॉर्डर पर चीनी सेना अब नहीं कर पाएगी ज्यादा उछल-कूद, गलती की मिलेगी ऐसी सजा
X
उन्होंने ये भी कहा कि तीन दशकों तक दोनों देशों के बीच संबंध स्थिर रहे क्योंकि दोनों देशों ने नयी परिस्थितियों और विरासत में मिली चुनौतियों का समाधान किया।
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्लीः भारत और चीन के बीच सीमा विवाद के मसले को लेकर तनाव लगातार बढ़ता ही जा रहा है। दोनों देशों के बीच कई दौर की वार्ताएं भी हुई लेकिन कोई निष्कर्ष नहीं निकल सका।

जिसके बाद से दोनों देशों की तरफ से भारी संख्या में सेना की तैनाती कर दी है। सीमा पर हलचल तेज हो गई है। यहां पर युद्ध जैसे हालात बने हुए हैं।

भारत –चीन सीमा गतिरोध के बीच विदेश मंत्री एस जयशंकर का ताजा बयान सामने आया है जिसमें उन्होंने चीन को साफ-साफ़ ये बात बता दी है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर यथास्थिति में परिवर्तन का कोई भी एकतरफा प्रयास भारत को 'अस्वीकार्य' है।

Rajnath Singh And S jaishankar मार्क एस्पर और माइक पॉम्पियो के साथ राजनाथ सिंह और एस जयशंकर(फोटो:सोशल मीडिया)

ये भी पढ़ें…मौसम विभाग का अलर्ट: इन राज्यों में होगी भारी बारिश, यहां पड़ेगी कड़ाके की ठंड

सीमा पार से हो रहे आतंकवाद का मुकाबला करने के लिए भारत को एकजुट होना होगा

ये बात उन्होंने सरदार पटेल स्मारक व्याख्यान को सम्बोधित करते वक्त कही। भारतीय विदेश मंत्री ने कहा कि सीमा पार से हो रहे आतंकवाद का मुकाबला करने के लिए भारत को एकजुट होना होगा।

सीमावर्ती क्षेत्रों में शांतिपूर्ण माहौल ने भारत और चीन के बीच अन्य क्षेत्रों में समन्वय के विस्तार के लिए आधार उपलब्ध कराया लेकिन महामारी सामने आने के बीच संबंध तनावपूर्ण हो गए हैं।

Imran Khan, Xi Jinping And Narendra Modi भारत के पीएम नरेंद्र मोदी, पाकिस्तान के पीएम इमरान खान और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग की फोटो(सोशल मीडिया)

ये भी पढ़ें…अब वीगन बनने की बारीः लेकिन जान लें, वीगन और वेजेटेरियन का फर्क

तीन दशकों तक भारत और चीन दोनों देशों के बीच संबंध स्थिर रहे

उन्होंने ये भी कहा कि तीन दशकों तक दोनों देशों के बीच संबंध स्थिर रहे क्योंकि दोनों देशों ने नयी परिस्थितियों और विरासत में मिली चुनौतियों का समाधान किया। भारत उभरती वैश्विक व्यवस्था के विभिन्न ध्रुवों को साथ लेते हुए अपने निकट पड़ोसी देशों पर फोकस करना जारी रखेगा।

गौरतलब है कि पूर्वी लद्दाख में सीमा पर भारत और चीन के बीच पिछले पांच महीने से भी अधिक समय से टकराव की स्थिति बनी हुई है जिससे दोनों देशों के रिश्ते बिगड़ चुके हैं। दोनों पक्षों के बीच राजनयिक एवं सैन्य स्तर पर कई दौर की वार्ता हो चुकी है लेकिन तनाव को खत्म नहीं किया जा सका है।

ये भी पढ़ें…तबाही लेकर आ रहा है सुपर टायफून, फिलीपींस में अलर्ट जारी

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें

Newstrack

Newstrack

Next Story