Top

सीमा पर बढ़ते तनाव के चलते भारत ने यहां तैनात किये खतरनाक लड़ाकू हेलीकॉप्टर

भारत ने लेह में उंचाई वाले स्थान पर दो हल्के लड़ाकू हेलीकॉप्टर तैनात किये गये हैं। ये जानकारी एयरॉनोटिक्स लिमिटेड (एचएएल) के अधिकारियों ने दी।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 12 Aug 2020 3:55 PM GMT

सीमा पर बढ़ते तनाव के चलते भारत ने यहां तैनात किये खतरनाक लड़ाकू हेलीकॉप्टर
X
लड़ाकू हेलीकॉप्टर की फाइल फोटो
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: चीन, पाकिस्तान और नेपाल के साथ भारत के रिश्ते लगातार बिगड़ते ही जा रहे हैं। सीमा पर बढ़ते तनातनी के चलते युद्ध जैसा हालात बने हुए हैं।

इसे देखते हुए सुरक्षा के मामले में भारत कोई भी लापरवाही बरतना नहीं चाहता है। इसलिए भारत ने लेह में उंचाई वाले स्थान पर दो हल्के लड़ाकू हेलीकॉप्टर तैनात किये गये हैं। ये जानकारी एयरॉनोटिक्स लिमिटेड (एचएएल) के अधिकारियों ने दी।

उन्होंने बताया कि रात हो या दिन, ये लडाकू विमान किसी भी तरह के लक्ष्य को भेदने में समर्थ है। उसमें ऊंचाई वाले क्षेत्रों में पर्याप्त मात्रा में हथियार ले जाने की क्षमता है।

लेह के पहाड़ की फाइल फोटो लेह के पहाड़ की फाइल फोटो

ये भी पढ़ें: UP में अब हारेगा कोरोना: दुकानदारों समेत इन सभी की होगी जांच, मिला निर्देश

रक्षा खरीद परिषद ने 15 हेलीकॉप्टरों की प्रारंभिक खेप के प्रस्ताव को दी मंजूरी

एक सरकारी बयान में उनकी तरफ से कहा गया कि वायुसेना और सेना को करीब 160 ऐसे हेलीकॉप्टरों की आवश्यकता है। रक्षा खरीद परिषद ने 15 ऐसे हेलीकॉप्टरों की प्रारंभिक खेप के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है।

वहीं एचएएल के अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक आर माधवन ने कहा, हमारे हेलीकाप्टर ने ने बहुत ही कम तापमान वाले अग्रिम स्थानों पर तेज तैनाती के अपने कौशल का सफल परिचय दिया।’

एचएएल के अनुसार एलसीएच अपनी अत्याधुनिक प्रणाली और उच्च सटीक हथियारों की वजह से बहुत ही अहम हथियार प्रणाली है।

लड़ाकू हेलीकॉप्टर की फाइल फोटो लड़ाकू हेलीकॉप्टर की फाइल फोटो

ये भी पढ़ें: सुशांत केस: रिया चक्रवर्ती से ED की पूछताछ, इन सवालों के देने होंगे जवाब

उन्होंने आगे कहा कि सशस्त्र बलों की खास एवं विशिष्ट जरूरतों को पूरा करने के लिए विशेष डिजाइन के तहत विकसित यह दुनिया का सबसे हल्का लड़ाकू हेलीकॉप्टर (एलसीएच) है जो ‘आत्मनिर्भर भारत’ में एचएएल की अहम भूमिका को परिलिक्षत करता है।’’

वायुसेना उपप्रमुख एयर मार्शल हरजित सिंह अरोड़ा ने कुछ दिनों पहले एचएएल के टेस्ट पायलट विंग कमांडर (सेवानिवृत) सुभाष पी जॉन के साथ एक ऐसे अभियान में भाग लिया था और इस दौरान ऊंचाई वाले स्थान से इस हल्के लड़ाकू हेलीकॉप्टर ने उड़ान भरकर एक छद्म लक्ष्य को भेदा था।

ये भी पढ़ें: UP में अब हारेगा कोरोना: दुकानदारों समेत इन सभी की होगी जांच, मिला निर्देश

Newstrack

Newstrack

Next Story