चीन के रुख से LAC पर बढ़ा तनाव, सीमा के पास चीनी लड़ाकू विमानों ने भरी उड़ान

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने एलएसी पर परिस्थिति सामान्य होने का दावा किया था और कहा था कि दोनों देश इस मुद्दे को बातचीत के जरिए सुलझाने में सक्षम है मगर इस बयान के विपरीत चीनी सेना पीपुल्स लिबरेशन आर्मी का रुख तनाव को बढ़ाने वाला है।

अंशुमान तिवारी

नई दिल्ली। लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर चीन के आक्रामक रवैये के कारण काफी तनाव बना हुआ है। चीन का विदेश मंत्रालय भले ही एलएसी पर स्थिति सामान्य और नियंत्रण में होने का दावा करता हो मगर चीनी सेना के रुख के कारण यहां स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है। पूर्वी लद्दाख में एलएसी के समीप 30-35 किलोमीटर दूर चीनी सेना के लड़ाकू विमानों के उड़ान भरने से तनाव और बढ़ा है। सूत्रों का कहना है कि भारत चीनी सेना की हर गतिविधि पर सतर्क नजर बनाए हुए है। पूर्वी लद्दाख में होटन और गरगुंसा ठिकानों से करीब 100-150 किलोमीटर दूर चीन के लड़ाकू विमानों की तैनाती की गई है।

सीमा के काफी करीब उड़ान भर रहे चीनी विमान

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने एलएसी पर परिस्थिति सामान्य होने का दावा किया था और कहा था कि दोनों देश इस मुद्दे को बातचीत के जरिए सुलझाने में सक्षम है मगर इस बयान के विपरीत चीनी सेना पीपुल्स लिबरेशन आर्मी का रुख तनाव को बढ़ाने वाला है। जानकार सूत्रों का कहना है कि चीन ने एलएसी के पास लगभग 10 से 12 लड़ाकू विमानों का बेड़ा तैनात कर रखा है। चीनी सेना के लड़ाकू विमान भारतीय क्षेत्र के काफी करीब उड़ान भर रहा हैं।

चीनी विमानों की गतिविधि पर पैनी नजर

चीनी सेना के लड़ाकू विमानों जे- 11 और जे-7की आवाजाही पर भारत कड़ी नजर रख रहा है। सूत्रों का कहना है कि चीनी सेना के लड़ाकू विमान होटन और गरगुंसा में हवाई ठिकाने से उड़ान भर रहे हैं और लद्दाख में भारतीय क्षेत्र से 30 से 35 किलोमीटर की दूरी पर इन विमानों की उड़ान देखी गई है।

ये भी पढ़ेंः UP सहायक शिक्षक भर्ती: उम्मीदवारों को आवंटित हुआ जिला, यहां देखें पूरी लिस्ट

पाक वायुसेना भी कर रही हवाई अभ्यास

सूत्रों का कहना है की होटन बेस पर भारतीय एजेंसियां कुछ समय से निगरानी रख रही हैं क्योंकि इस इलाके में पाकिस्तानी वायुसेना भी चीनी सेना के साथ हवाई अभ्यास करने में जुटी हुई है। सूत्रों के मुताबिक अंतरराष्ट्रीय मानदंडों के अनुसार चीनी लड़ाकू विमान भारतीय क्षेत्रों से 10 किलोमीटर की दूरी पर हैं। भारत ने मई के पहले हफ्ते में इस इलाके में अपने सुखोई एमकेआई से उड़ान भरी थी।

सूत्रों का कहना है कि पिछले साहब पाकिस्तान के जेएफ-17 विमानों की आवाजाही पर भी भारत ने कड़ी निगरानी की थी। पाकिस्तान के विमानों ने पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में लद्दाख के पश्चिमी हिस्से के सामने स्कार्दू एयर बेस से उड़ान भरी थी और फिर यह विमान होटन तक पहुंचे थे। भारत ने भी पूर्वी लद्दाख अपने सैनिकों की संख्या बढ़ा दी है और खुफिया एजेंसियों के साथ चीन की हर हरकत पर नजर रखी जा रही है।

ये भी पढ़ेंः Twitter ने अपने लोगो Blue Bird को किया Black, जानिए क्या है पूरा मामला

चीन का हालात नियंत्रण में होने का दावा

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का कहना है कि भारतीय सेना देश का गर्व और गौरव बनाए रखेगी। एलएसी पर चीनी सेना की किसी भी कार्रवाई का मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि देश के सम्मान में कोई कमी नहीं आने दी जाएगी। चीन की ओर से चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने कहा कि भारत के साथ एलएसी पर हालात पूरी तरह से स्थिर और नियंत्रण योग्य है।

चीन के प्रवक्ता ने कहा कि दोनों देश इस विवाद को सुलझाने की दिशा में आपसी बातचीत और सलाह मशवरा कर रहे हैं। चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता का यह बयान रक्षा मंत्री के बयान के बाद आया है जिसमें बातचीत के जरिए विवाद को सुलझाने का दावा किया गया है।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।