पार्टी के स्थापना दिवस पर बोले उद्धव ठाकरे, तूफान है शिवसेना

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शिवसेना के 54वें स्थापना दिवस पर जूम के माध्यम से पार्टी कार्यकर्ताओं ऑनलाइन के माध्यम से संबोधित किया। इस दौरान पार्टी प्रमुख ने गरजते हुए कहा कि शिवसेना खुद एक साइक्लोन है और हम किसी भी दूसरे साइक्लोन से नहीं डरते हैं।

Published by suman Published: June 19, 2020 | 9:57 pm

मुंबई-मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शिवसेना के 54वें स्थापना दिवस पर जूम के माध्यम से पार्टी कार्यकर्ताओं ऑनलाइन के माध्यम से संबोधित किया। इस दौरान पार्टी प्रमुख ने गरजते हुए कहा कि शिवसेना खुद एक साइक्लोन है और हम किसी भी दूसरे साइक्लोन से नहीं डरते हैं।

यह पढ़ें….सीएम ठाकरे ने किया मोदी सरकार का समर्थन, बोले -हम पीएम के साथ खड़े

इस दौरान उन्होंने कोरोना को लेकर सरकार द्वारा किये जा रहे प्रयासों को भी जनता के समक्ष पेश किया। उन्होंने बताया कि शुरुआत में महाराष्ट्र में सिर्फ 2 टेस्टिंग लैब थे, लेकिन उनकी सरकार ने इसे 2 से 100 तक पहुंचा दिया है। मौजूदा समय में चीन के साथ बदले घटनाक्रम उन्होंने कहा कि वह सर्वदलीय बैठक में प्रधानमंत्री के साथ मौजूद रहेंगें क्योंकि जब हिमालय संकट का सामना करता है, तो उसे महाराष्ट्र की सहयाद्रि की आवश्यकता होती है।

 

उद्धव ठाकरे ने कार्यकर्ताओं से ये भी कहा कि हमारे साथ राजनीति खेलने की कोशिश हुई, लेकिन हमने उसे कुचल दिया और आज बतौर मुख्यमंत्री मैं यहां बैठा हूं।  अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण की अनुमति के बारे में कहा, ‘मैं शिवनेरी (शिवाजी की जन्मभूमि) की मिट्टी को अयोध्या ले गया और इसके महज एक साल के भीतर राम मंदिर निर्माण पर फैसला आ गया और मैं सीएम भी बन गया।

यह पढ़ें….फिर जगी रथयात्रा निकलने की उम्मीद, पुनर्विचार याचिका में सुझाया गया यह तरीका

उन्होंने कहा कि कोरोना एक संकट है और शिवसेना शाखा (स्थानीय शाखाएं) अब क्लीनिक बन जाएगी। इस अवसर पर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बेटे और राज्य में मंत्री आदित्य ठाकरे ने कहा कि हमें अपनी शाखाएं न केवल महराष्ट्र में बल्कि पूरे देश में हर राज्य में खोलना चाहिए।

आज सर्वदलीय बैठक में शिवसेना के अलावा कांग्रेस, तृणमूल, बसपा, जदयू समेत 20 राजनीतिक दल मौजूद हैं। बैठक की शुरुआत में गलवान के शहीदों को श्रद्धांजलि दी गई। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने इंटेलीजेंस रिपोर्ट, सैटेलाइट इमेज को लेकर मोदी से सवाल पूछे।