LoC पर कमांडो तैनात: टैंक भी तैयार-अलर्ट हुई सेना, पाकिस्तान की बड़ी साजिश

जम्मू-कश्मीर से धारा-370 हटाए जाने के बाद  से पाकिस्तान की तरफ सीजफायर की घटनाएं बढ़ी है। अभी कुछ दिन पहले पाकिस्तान के सैनिकों ने कश्मीर के तंगधार और केरन सेक्टर में गोलीबारी की थी। भारतीय सैनिकों ने इस गोलीबारी के जवाब में पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर यानी पीओके में मिलिट्री ऑपरेशन को अंजाम दिया।

नई दिल्ली: पाकिस्तान कश्मीर मुददे को लेकर अभी भी नियंत्रण रेखा पर आतंकवादी गतिविधियों को लगातार अंजाम दे रहा है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, पाकिस्तान ने एलओसी की ओर कई टैंक भेजे हैं। साथ ही अपने स्पेशल फोर्स के 100 कमांडो को भी तैनात किया है।

बॉर्डर पर भारत के खिलाफ कोई नई और बड़ी साजिश

सूत्रों के मुताबिक हमारी भारतीय सेना पाकिस्तान की तरफ से किसी भी हिमाकत का मुंहतोड़ जवाब देने के लिए तैयार है। आशंका जताई जा रही है कि पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर बॉर्डर पर भारत के खिलाफ कोई नई और बड़ी साजिश रच रहा है।

ये भी देखें : राजनीति के जय-वीरु: कुछ ऐसी है इनकी अनसुनी कहानी, इतना पुराना है रिश्ता

बता दें कि इससे पहले पाकिस्तान ने गुजरात के सरक्रीक इलाके में भी एसएसजी कमांडो को तैनात किया था। इकबाल-बाजवा पोस्ट पर पाक कमांडो को तैनात किया गया है।

पीओके में मिलिट्री ऑपरेशन को अंजाम दिया

दरअसल बात यह है कि जम्मू-कश्मीर से धारा-370 हटाए जाने के बाद  से पाकिस्तान की तरफ सीजफायर की घटनाएं बढ़ी है। अभी कुछ दिन पहले पाकिस्तान के सैनिकों ने कश्मीर के तंगधार और केरन सेक्टर में गोलीबारी की थी। भारतीय सैनिकों ने इस गोलीबारी के जवाब में पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर यानी पीओके में मिलिट्री ऑपरेशन को अंजाम दिया।

इस दौरान भारतीय जवानों ने पीओके में चल रहे आतंकी कैंपों को तबाह कर दिया। बताया जा रहा है कि इस ऑपरेशन में पाकिस्तान के 10 सैनिक भी मारे गए। हालांकि, कितने आतंकी ढेर हुए हैं। इसकी कोई जानकारी नहीं दी गई है।

ये भी देखें : मांस खा रही गाय! अगर पिया दूध तो जान पर होगा खतरा, ये जानकारी हैरान कर देगी

पाकिस्तानी सैन्य ठिकानों को निशाना बनाया

बता दें कि भारतीय सेना ने पाकिस्तान की अकारण गोलीबारी के बाद जवाब में बड़ी कार्रवाई करते हुए रविवार को पीओके में नीलम घाटी में भारी हथियारों से चार आतंकवादी शिविरों और कई पाकिस्तानी सैन्य ठिकानों को निशाना बनाया था।

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने कहा था कि सुरक्षा बलों ने अथमुकाम, कुडल शाही और जुरा में आतंकवादी शिविरों को ध्वस्त किया और सेना के पास लीपा घाटी में एक शिविर के बारे में भी सूचना थी। जिसके बाद ये कार्रवाई की गई।