×

कोरोना जेल, नहीं समझे, ये न बोलें, वरना पांच साल के लिए जाएंगे जेल

देश के पूर्वोत्तर इलाकों के लोगों को लेकर इस तरह की कुछ घटनाएं सामने आने के बाद केंद्र सरकार ने एडवाइजरी जारी करने का यह कदम उठाया है। इस संबंध में केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू ने भी कहा है कि इस मुद्दे को गृह मंत्रालय में उत्तर पूर्व डिवीजन के साथ उठाया गया था। वह अरुणाचल प्रदेश के निवासी हैं।

राम केवी

राम केवीBy राम केवी

Published on 18 March 2020 2:38 PM GMT

कोरोना जेल,  नहीं समझे, ये न बोलें, वरना पांच साल के लिए जाएंगे जेल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्लीः कोरोना जेल, नहीं समझे न। अब से हो जाइए सावधान अगर मुंह से ये निकल गया तो जाएंगे जेल। केंद्र सरकार करोना वायरस की राष्ट्रीय आपदा की इस घड़ी में जहां इससे मुकाबले के लिए जी जान से जुटी है और नागरिकों के सहयोग से इस महामारी को तीसरी स्टेज में जाने से रोक रही है। वहीं कुछ लोग एक क्षेत्र विशेष के लोगों के प्रति जातीय टिप्पणी कर माहौल बिगाड़ने में लगे हैं। केंद्र सरकार ने इसे गंभीरता से लेते हुए सोशल मीडिया या किसी भी मंच से माहौल बिगाड़ने के प्रयासों से सख्ती से निपटने के लिए सभी राज्यों को एडवाइजरी जारी की है। इसके तहत घृणा फैलाने वाली नस्ली टिप्पणी पर अब पांच साल तक की सजा हो सकती है।

देश के पूर्वोत्तर इलाकों के लोगों को लेकर इस तरह की कुछ घटनाएं सामने आने के बाद केंद्र सरकार ने एडवाइजरी जारी करने का यह कदम उठाया है। इस संबंध में केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू ने भी कहा है कि इस मुद्दे को गृह मंत्रालय में उत्तर पूर्व डिवीजन के साथ उठाया गया था। वह अरुणाचल प्रदेश के निवासी हैं।

इसे भी पढ़ें

स्पेन में कोरोना वायरस से संक्रमित हुए 13,700 लोग, अब तक 558 लोगों की मौत

केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू ने बुधवार को कहा कि देश के कुछ हिस्सों में उत्तर पूर्व से संबंधित लोगों के खिलाफ नस्लीय टिप्पणी की कुछ घटनाओं के बाद कार्रवाई करने के लिए सभी राज्यों को सख्त सलाह जारी की जा रही है। इसके तहत इस तरह की हरकतें करने वालों को पांच साल तक की जेल हो सकती है।

नस्लीय टिप्पणियां चिंताजनक

रिजिजू ने ट्विट किया कि सांस्कृतिक अज्ञानता, पूर्वाग्रह की मानसिकता और समझ की कमी के कारण #Coronavirus के मद्देनजर उत्तर-पूर्व के लोगों के खिलाफ नस्लीय टिप्पणियों की कुछ घटनाएं भारत के कुछ हिस्सों में सामने आई हैं। इस मामले पर उत्तर पूर्व डिवीजन, एमएचए के साथ चर्चा की जा रही है। राज्यों को सलाह जारी।

इसे भी पढ़ें

UP: कोरोना की वजह से नहीं बंद होगा सचिवालय, जारी रहेगा कामकाज

वास्तव में यह चिंताजनक है इस संकट काल में भी लोग एकजुट होकर आपदा का मुकाबला करने के बजाय इस तरह की विद्वेष पैदा करने वाली हरकतें कर रहे हैं जो कि चिंताजनक है। स्वास्थ्य अधिकारियों के अनुसार, देश में नोबल कोरोनोवायरस के ताजा मामलों के साथ प्रभावितों की कुल संख्या बढ़कर 150 हो गई है। अधिकारियों ने कहा कि ताजा मामलों में 25 विदेशी नागरिक शामिल हैं। दिल्ली, कर्नाटक और महाराष्ट्र के तीन लोगों की मौत हुई है।

राम केवी

राम केवी

Next Story