PM मोदी के साथ चर्चा में पवार ने जमात का उठाया मुद्दा, कहा-ऐसा नहीं होना चाहिए

बुधवार को कोरोना वायरस की महामारी पर पीएम नरेंद्र मोदी ने अलग-अलग दलों के नेताओं के साथ चर्चा की। लॉकडाउन और पीपीई जैसे मुद्दों पर भी इस दौरान बात हुई।इसमें कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद भी शामिल थे। विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद के मुताबिक तबलीगी जमात को लेकर भी पीएम मोदी और बाकी दलों के नेताओं के बीच बातचीत हुई।

Published by suman Published: April 8, 2020 | 7:59 pm

नई दिल्ली : बुधवार को कोरोना वायरस की महामारी पर पीएम नरेंद्र मोदी ने अलग-अलग दलों के नेताओं के साथ चर्चा की। लॉकडाउन और पीपीई जैसे मुद्दों पर भी इस दौरान बात हुई।इसमें कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद भी शामिल थे। विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद के मुताबिक तबलीगी जमात को लेकर भी पीएम मोदी और बाकी दलों के नेताओं के बीच बातचीत हुई।

 

जमात का मसला

इसी बैठक में एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार ने तबलीगी जमात का मसला उठाया। पीएम के साथ बैठक में शरद पवार ने तबलीगी जमात को लेकर मीडिया में चल रही खबरों पर चिंता जाहिर की। कहा कि इस मामले को और बढ़ावा देना ठीक नहीं है।

 

यह पढ़ें…मेरठ में कोरोना के कहर के कारण 7 इलाकों को किया गया सील, लिस्ट हुई जारी

 

चर्चा से देश का माहौल खराब

शरद पवार ने कहा कि हर दिन टीवी चैनलों पर हो रही चर्चा से देश का माहौल खराब होता है और इन परिस्थितियों में हमें इससे बचना चाहिए। दूसरी ओर गुलाम नबी आजाद ने कहा कि इस पर प्रधानमंत्री ने भी शरद पवार से सहमति जताई।

इससे पहले भी निजामुद्दीन मरकज में तबलीगी जमात के धार्मिक आयोजन के लिए अनुमति किसने दी थी। यह कार्यक्रम देश में कोरोना वायरस के बड़ा केंद्र के रूप में उभरा है। इस धार्मिक आयोजन में दो हजार से अधिक लोग एकत्रित हुए थे, बाद में इनमें से कई कोरोना वायरस के संक्रमण के शिकार पा गए। ये कोरोना संक्रमित आयेाजन में भाग लेने के बाद अपने राज्‍यों में पहुंचे जिससे इन राज्‍यों में भी कोरेाना के केसों में इजाफा हुआ।

 

बता दें, लॉकडाउन को लेकर पीएम मोदी ने बुधवार को राजनीतिक पार्टियों के नेता सदन के साथ बातचीत की। वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए पीएम मोदी ने बीजेपी, कांग्रेस, डीएमके, एआईएडीएमके, टीआरएस, सीपीआईएम, टीएमसी, शिवसेना, एनसीपी, अकाली दल, एलजेपी, जेडीयू, एसपी, बीएसपी, वाईएसआर कांग्रेस के फ्लोर लीडर्स के साथ कोरोना और लॉकडाउन पर चर्चा की।

 

यह पढ़ें…इस एयरलाइंस ने सभी इंटरनेशनल फ्लाइट 30 अप्रैल तक की रद्द, ऐसे मिलेगा रिफंड

 

बैठक में पीएम मोदी ने कहा कि राज्य, जिला प्रशासन और विशेषज्ञों ने वायरस के प्रसार को रोकने के लिए लॉकडाउन के विस्तार का सुझाव दिया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि इन बदलती परिस्थितियों में देश को एक साथ अपनी कार्य संस्कृति और कार्यशैली में बदलाव लाने का प्रयास करना चाहिए। कोरोना वायरस के कारण हम गंभीर आर्थिक चुनौतियों का सामना कर रहे हैं और सरकार इससे निपटने के लिए प्रतिबद्ध है।बैठक में विपक्ष के नेताओं ने भी पीएम मोदी से लॉकडाउन बढ़ाने पर सहमति जताई।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App