बिहार मदरसा बोर्ड के चेयरमैन अंसारी जमात में थे शामिल, नहीं कराई कोरोना की जांच

खबर है कि बिहार मदरसा बोर्ड के चेयरमैन कय्यूम अंसारी भी जमात में शामिल होने गए थे। वो मरकज गए थे और जमात में नमाज भी पढ़ी थी।

बिहार मदरसा बोर्ड के चेयरमैन अंसारी जमात में थे शामिल, नहीं कराई कोरोना की जांच

बिहार मदरसा बोर्ड के चेयरमैन अंसारी जमात में थे शामिल, नहीं कराई कोरोना की जांच

पटना: दिल्ली के निजामुद्दीन में स्थित तबलीगी जमात के मरकज में कोरोना संक्रमितों के मिलने से पूरे देश में सनसनी मची हुई है। निजामुद्दीन में आयोजित हुए कार्यक्रम तबलीगी जमात के चलते देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या काफी तेजी से बढ़ी है।

जमातियों को चिन्हित करने का चल रहा अभियान

जब से इस आयोजन में शामिल हुए 700 जमातियों को कोरोना पॉजिटिव पाया गया है, तब से विभिन्न राज्यों ने जमात में शामिल हुए अपने राज्य के नागरिकों को पहचाने के लिए अभियान चला रखा है। जमात में शामिल हुए लोगों की पहचान कर उन लोगों को की जांच कर, उन्हें आइसोलेशन वार्ड में भेजा जा रहा है और साथ ही क्वारनटीन किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: सैय्या जी से आज मैंने ब्रेकअप कर लिया…जानिए वो कारण, जिनसे प्यार में पड़ता है दरार

बिहार मदरसा बोर्ड के चेयरमैन भी हुए जमात में शामिल

इस बीच खबर आई थी कि बिहार के भी 160 से अधिक लोग जमात में हिस्सा लेने के बाद राज्य में वापस लौटे थे। अब खबर ये भी आ रही है कि बिहार मदरसा बोर्ड के चेयरमैन कय्यूम अंसारी भी जमात में शामिल होने गए थे। वो मरकज गए थे और जमात में नमाज भी पढ़ी थी। बताया जा रहा है कि वह 21 मार्च को पटना लौटे थे और उन्होंने सभी से अपने जमात में शामिल होने की बात छिपाई।

अंसारी ने इन खबरों को किया खारिज

वहीं मरकज से वापस बिहार लौटने के बाद कय्यूम अंसारी ने बोर्ड की बैठक भी की थी। हालांकि अंसारी ने खुद को लेकर आ रही इन खबरों को खारिज किया है। उन्होंने अपने 20 मार्च को निजामुद्दीन के मरकज में नमाज पढ़ने की खबरों को खारिज किया है। मदरसा बोर्ड के चेयरमैन का कहना है कि वह 20 मार्च को दिल्ली में थे। उससे एक दिन पहले यानि 19 मार्च को वो देवबंद में थे।

यह भी पढ़ें: नहीं बचेंगे निजामुद्दीन के जमातीः ऐसे इनको ढूंढ लेगी पुलिस

न जांच कराई, न क्वारनटीन हुए

बिहार मदरसा बोर्ड के चेयरमैन अंसारी ने कहा कि 21 मार्च को वो दिल्ली से वापस पटना लौटे थे। गौरतलब है कि अंसारी ने दिल्ली से लौटने के बाद अपनी कोरोना जांच नहीं कराई, न ही उन्होंने खुद को होम क्वारनटीन किया और न ही किसी तरह की सावधानियों का ख्याल रखा। बता दें कि मरकज के 162 जमातियों के बिहार पहुंचने की खबर है।

126 जमातियों को किया गया चिन्हित

वहीं प्रशासन का दावा है कि इन 162 जमातियों में से 126 को चिन्हित कर लिया गया है। बता दें कि तबलीगी जमात के मरकज से 2 हजार से अधिक लोगों को निकाला गया था। इनमें से कईयों को कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। वहीं कई संदिग्ध मरीजों को अलग-अलग आइसोलेशन कैंप में रखा गया है।

यह भी पढ़ें: पीएम की अपील के बाद ग्रिड बचाने की बड़ी चुनौती, देश भर में ब्लैकआउट का खतरा