कोरोना वायरस पर PM मोदी का संबोधन, लगने लगीं ये अटकलें

कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं। इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राष्ट्र को संबोधित करेंगे। भारत में अबतक कोरोना वायरस के कुल 170 पॉजिटिव मामले सामने आ चुके हैं और तीन लोगों की मौत हो गई है। इसके साथ ही लोगों में डर का माहौल बना हुआ है, हर तरफ हलचल है।

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं। इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राष्ट्र को संबोधित करेंगे। भारत में अबतक कोरोना वायरस के कुल 170 पॉजिटिव मामले सामने आ चुके हैं और तीन लोगों की मौत हो गई है। इसके साथ ही लोगों में डर का माहौल बना हुआ है, हर तरफ हलचल है। ऐसे में प्रधानमंत्री अपने संबोधन में क्या बोलते हैं, हर किसी की इसपर नजर है। लोग कयास लगा रहे हैं कि क्या प्रधानमंत्री कुछ बड़ा ऐलान करेंगे और लोगों से घरों में रहने की अपील करेंगे, इस तरह की अटकलें भी लगाई जा रही हैं।

कोरोना पर मोदी ने की बड़ी बैठक

बुधवार शाम को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस (COVID-19) पर बड़ी बैठक की। इस बैठक में वरिष्ठ अधिकारी शामिल हुए, इस दौरान देश में अस्पतालों की व्यवस्था, सैंपल चेकिंग सेंटर, सभी यात्रियों को लेकर चर्चा हुई। इसके बाद प्रधानमंत्री कार्यालय की तरफ से बताया गया है कि गुरुवार रात 8 बजे प्रधानमंत्री देश को संबोधित करेंगे। गौरतलब है कि इसके पहले प्रधानमंत्री ने नोटबंदी के वक्त, स्पेस मिसाइल लॉन्च होने के वक्त भी देश को संबोधित किया था।

यह भी पढ़ें…कोरोना का कहर: मोदी सरकार का बड़ा फैसला, 75 करोड़ लोगों को मिलेगा फायदा

नेशनल इमरजेंसी-लॉकडाउन या फिर कुछ और?

अगर प्रधानमंत्री खुद लॉकडाउन का ऐलान करते हैं और लोगों से सावधान रहने की अपील करते हैं, तो उनकी बात एक बड़े तबके तक पहुंचेगी और लोग इस कोरोना वायरस के खतरे को लेकर गंभीर हो सकेंगे। इसके अलावा इस महामारी को देखते हुए नेशनल इमरजेंसी या हेल्थ इमरजेंसी जैसी स्थिति का भी उपयोग किया जा सकता है।

क्या ट्रंप जैसा फैसला लेंगे प्रधानमंत्री?

अमेरिका में भी कोरोना वायरस की वजह से 8000 से अधिक पॉजिटिव मामले सामने आए हैं। 100 से अधिक की मौत हो गई है। इसके बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कोरोना वायरस की स्थिति को नेशनल इमरजेंसी घोषित कर दिया था, साथ ही लोगों से बाहर ना निकलने-एक स्थान पर 10 से अधिक लोग इकट्ठे ना होने की अपील की थी।

यह भी पढ़ें…कोरोना से डर कर यहां मरीज ने की सुसाइड:अस्पताल की 7वीं मंजिल से लगाई छलांग

इतना ही नहीं अमेरिका ने अपनी सीमा को सील कर दिया है, यूरोप से आने वाले लोगों (ब्रिटेन छोड़कर) पर प्रतिबंध लगा दिया। ऐसे में क्या कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए भारत में भी कुछ ऐसा उपाय किया जा सकता है, ये अब पीएम के भाषण के बाद ही साफ हो पाएगा।

भारत में अब तक के फैसले

गौरतलब है कि देश में कोरोना वायरस के अबतक 170 मामले सामने आ चुके हैं, जबकि तीन लोगों की मौत हो चुकी है। केंद्र सरकार की ओर से विदेश से आने वाले सभी लोगों की स्क्रीनिंग, 15 अप्रैल तक नए वीज़ा पर रोक, कुछ चिन्हित देशों के नागरिकों की एंट्री पर रोक जैसे फैसले लिए हैं, ताकि कोरोना को फैलने से रोका जा सके।

यह भी पढ़ें…पूर्व CJI रंजन गोगोई ने ली राज्यसभा सांसद की शपथ, विपक्ष ने जमकर किया हंगामा

इसके अलावा उत्तर प्रदेश, दिल्ली, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, राजस्थान, बिहार, तेलंगाना, कर्नाटक, केरल, बंगाल, असम, अरुणाचल प्रदेश समेत दर्जनभर से अधिक राज्यों ने अपने यहां स्कूल-कॉलेज को बंद किया है. कुछ राज्यों में मॉल, सिनेमा हॉल, सार्वजनिक सभाओं, रैली, राजनीतिक कार्यक्रम पर भी रोक लगाई हुई है।