Top

सावधान: कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन छोड़ रहा है गहरी छाप

डाक्टरों का कहना है कि ऐसे लोग नादान हैं। ऐसे लोगों को स्थिति की गंभीरता का पता नहीं है। वायरस कब कहां और कैसे हमला करेगा किसी को नहीं पता। डॉक्टर साफ कहते हैं कि कोरोना की ताजा लहर को हलके में नहीं लेना चाहिए।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 25 Feb 2021 5:12 PM GMT

सावधान: कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन छोड़ रहा है गहरी छाप
X
बहुत से लोग सवाल उठाते हैं कि क्या वाकई में कोरोना जैसी कोई चीज है भी नहीं? लोग ये भी कहते हैं कि अभी तक तो कुछ हुआ नहीं सो अब भला क्या होगा।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नीलमणि लाल

लखनऊ: बहुत से लोग सवाल उठाते हैं कि क्या वाकई में कोरोना जैसी कोई चीज है भी नहीं? लोग ये भी कहते हैं कि अभी तक तो कुछ हुआ नहीं सो अब भला क्या होगा। बहुत से लोगों का कहना है कि सब जगह तो लोग आराम से आ-जा रहे हैं तो हम क्यों एहतियात बरतें?

डाक्टरों का कहना है कि ऐसे लोग नादान हैं। ऐसे लोगों को स्थिति की गंभीरता का पता नहीं है। वायरस कब कहां और कैसे हमला करेगा किसी को नहीं पता। डॉक्टर साफ कहते हैं कि कोरोना की ताजा लहर को हलके में नहीं लेना चाहिए। मुंबई के एक कार्डियोलॉजिस्ट का कहना है कि जो लोग अभी तक संक्रमण से बचे हुए हैं उनको ख़ास तौर पर बहुत सावधान रहना चाहिए।

सिर्फ एहतियात ही सुरक्षा दे पाएंगे

क्योंकि इस बार वायरस ज्यादा असर दिखा रहा है। अब जो संक्रमित हुए हैं उनके फेफड़ों में शैडो काफी शुरुआत में ही दिखाई दे रहा है। ऐसे में लोगों से यही सलाह है कि मास्क लगायें और भीड़ भाड़ से यथासंभव दूर रहें। दूसरी ओर संक्रामक रोग एक्सपर्ट्स का कहना है कि सब कुछ इनसान की इम्यूनिटी पर निर्भर करता है। कोई यह नहीं कह सकता कि वह बचा रहेगा क्योंकि हर किसी के संक्रमित होने की पूरी आशंका है। सिर्फ एहतियात ही सुरक्षा दे पाएंगे।

Covid-19

ये भी पढ़ें...सरकार ने कसी नकेल: डिजिटल न्यूज़, सोशल मीडिया और ओटीटी पर सख्ती, बने नियम

सख्ती से कोरोना से बचाव के नियमों का पालन जरूरी

एक्सपर्ट्स ये भी कह रहे हैं कि जो लोग कोरोना संक्रमित होने के बाद ठीक हो चुके हैं उनमें जटिलताएं ज्यादा देखने को मिल रही हैं। ये भी बड़ी चिंता का कारण है। एक्सपर्ट्स का कहना है कि वायरस का नया स्ट्रेन अपने जीनोम में ढेरों बदलाव दिखा रहा है और चाहे नया स्ट्रेन हो या पुराना, सभी लोगों को अभी बेहद सतर्क रहने और सख्ती से कोरोना से बचाव के नियमों का पालन करने की जरूरत है। सतर्कता में लापरवाही से संक्रमण वहां भी फैल सकता है जहां पहले कंट्रोल कर लिया गया था। इसलिए लोगों को मास्क लगाने, दो गज की शारीरिक दूरी के नियम का पालन सख्ती से करना होगा। वैक्सीन लगने के बाद भी सावधानियां पहले की तरह बरतनी होंगी।

ये भी पढ़ें...डिजिटल मीडिया पर रेगुलेटिंग बॉडी रखेगी नजर, जानिए कैसे करेगी काम

एक्सपर्ट्स का मानना है कि हर्ड इम्युनिटी के भ्रम में लोगों ने मास्क लगाना छोड़ दिया है जो बहुत बड़ी भूल है। शरीरिक दूरी के नियम का पालन नहीं हो रहा है, बाजारों में खूब भीड़ हो रही है, सैनिटाइजर का उपयोग कम कर दिया गया है और सफाई पर भी लोगों का ध्यान कम हो गया है। बहरहाल, कोरोना के मामले क्यों बढ़ रहे हैं इसका कोई स्पष्ट जवाब नहीं है। कुछ एक्सपर्ट्स का कहना है कि पाबंदियां हटा लेने और सब कुछ अनलॉक करने से मामले बढ़ रहे हैं।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story