दाइची सांक्यो केस: मलविंदर सिंह और शिविंदर सिंह कोर्ट की अवमानना के दोषी

सुप्रीम कोर्ट ने देश की दिग्गज दवा कंपनी रैनबैक्सी के पूर्व प्रमोटर भाइयों मलिवंदर और शिविंदर सिंह को जापानी कंपनी दाइची सांक्यो केस में दोषी पाया है।

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने देश की दिग्गज दवा कंपनी रैनबैक्सी के पूर्व प्रमोटर भाइयों मलिवंदर और शिविंदर सिंह को जापानी कंपनी दाइची सांक्यो केस में दोषी पाया है। दवा बनाने वाली दाइची सांक्यो ने 3,500 करोड़ रुपये नहीं चुकाने पर सिंह बंधुओं के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की थी।

ये मामला 3,500 करोड़ रुपये के आर्बिट्रेशन अवॉर्ड का है। दाइची की तरफ से कहा गया कि मलविंदर-शिविंदर ने इस रकम का भुगतान नहीं किया। इस साल मार्च महीने में दाइची की तरफ से उच्चतम न्यायालय में दोनों भाइयों के खिलाफ अवमानना याचिका भी दायर की गई थी। उसका कहना था कि दोनों भाई अदालत के आदेश का उल्लंघन कर अपनी संपत्तियों को ठिकाने लगा रहे हैं।

ये भी पढ़ें…सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस जोसेफ ने राफेल घोटाले की जांच के रास्ते खोले: राहुल गांधी

जपानी कंपनी दाइची के द्वारा साल 2008 में रैनबैक्सी को खरीदा गया था। बाद में कहा गया कि मलविंदर-शिविंदर ने रैनबैक्सी के बारे में रेग्युलेटरी खामियों जैसी महत्वपूर्ण जानकारियां छिपाईं।

इस दलील के साथ उसने सिंगापुर ट्रिब्यूनल में शिकायत की थी। ट्रिब्यूनल ने दाइची के पक्ष में फैसला देते हुए मलविंदर-शिविंदर को भुगतान के आदेश दिए थे। दोनों भाइयों ने ट्रिब्यूनल के इस फैसले को भारत और सिंगापुर की अदालतों में चुनौती दी, लेकिन उन्हें राहत नहीं मिली। दिल्ली उच्च न्यायालय ने जनवरी 2018 में आर्बिट्रेशन अवॉर्ड का फैसला बरकरार रखा।

ये भी पढ़ें…राफेल पर मोदी सरकार को बड़ी राहत, सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की पुनर्विचार याचिकाएं

2397 करोड़ रुपये के घोटाले के आरोप में जेल में बंद

दोनों भाई मलविंदर और शिविंदर रेलिगेयर फिनवेस्ट (आरएफएल) कंपनी में 2397 करोड़ रुपये के घोटाले के आरोप में जेल मं बंद है। दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने अक्तूबर में उन्हें गिरफ्तार किया था। मलविंदर को गुरुवार को जेल में ही प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने भी गिरफ्तार कर लिया। रेलिगेयर फिनवेस्ट मामले में ईडी मनी लॉन्ड्रिंग की जांच कर रहा है।

ये भी पढ़ें…मनी लॉन्ड्रिंग केस: डीके शिवकुमार को राहत, सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की ED की याचिका