यहां MDH के सांभर मसाले में मिला खतरनाक बैक्टीरिया,वापस मंगवाए गए स्टॉक

फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) द्वारा एमडीएच ब्रांड के ‘सांभर मसाला’ में साल्मोनेला बैक्टीरिया का पता लगाने के बाद कंपनी ने अपने आलमारियों से कम से कम तीन लॉट को हटा दिया है।

नई दिल्ली: अमेरिका में फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) द्वारा एमडीएच ब्रांड के ‘सांभर मसाला’ में साल्मोनेला बैक्टीरिया का पता लगाने के बाद कंपनी ने अपने आलमारियों से कम से कम तीन लॉट को हटा दिया है।

आर प्योर एग्रो स्पेशिएलिटीज द्वारा निर्मित और हाउस ऑफ स्पाइसेस (इंडिया) द्वारा वितरित, उत्पाद को एफडीए द्वारा प्रमाणित प्रयोगशाला के माध्यम में जब परीक्षण किया गया तो उसमें साल्मोनेला के बैक्टीरिया पाए गए।

जिसके बाद से यूएस फूड एंड ड्रग अथॉरिटी (यूएसएफडीए) को इस मामले में अपना बयान जारी करना पड़ा है।

एफडीए ने बयान जारी करके कहा है कि एमडीएच के इस प्रोडक्ट को सर्टिफाइड लैब में जांच किया गया, जिस दौरान साल्मोनेला नामक बैक्टीरिया होने के बारे में पता चला है।

ये भी पढ़ें…पतंजलि अपना रहा डबल स्टैंडर्ड, पढ़ें ये ख़ास रिपोर्ट

साल्मोनेला बैक्टीरिया की चपेट में आने के लक्षण

रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि एफडीए को पता चला कि बाजार में कुछ ऐसे प्रोडक्ट्स बेचे जा रहे हैं, जिसमें साल्मोनेला बैक्टीरिया हैं।

इस सूचना के बाद जांच शुरू की गई। इसमें कहा गया है कि डायरिया, पेट में मरोड़ समेत 12 से 72 घंटे के अंदर तेज बुखार आना इस बीमारी के शुरुआती लक्षण हैं।

जब ये खतरनाक स्थर पर पहुंच जाता है तो मरीज को तेज बुखार, सिरदर्द, थकान, पेशाब में खून तक आने लगता है।
यह बीमारी बच्चे, व्यस्क या बूढ़ों को हो सकता है, जिनकी रोग प्रतिरोधाक क्षमता यानी इम्यून सिस्टम कमजोर होता है।

ये भी पढ़ें…खट्टे जूस के साथ दवा खाना हो सकता है नुकसानदायक, जानें कैसे

अमेरिका में पहले भी उठे हैं सवाल

बताते चले कि इससे पहले भी अमेरिका में एमडीएच मसालों पर सवाल खड़े हो चुके हैं। नियामक साल 2016 से 2018 के बीच में करीब 20 बार एमडीएच मसालों के प्रोडक्ट्स के आयात पर प्रतिबंध लगा चुका है।

भारत में भी इस कंपनी के कई मसाले बेचे जाते हैं, हालांकि अभी तक इस बात की पुष्टि नहीं हो पाई है कि एमडीएच प्रोडक्ट्स में साल्मोनेला पाया जाता है या नहीं।

लेकिन जिस तरह से यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन  ने एमडीएच मसाले पर कार्रवाई की है। इसका असर आने वाले दिनों में भारत में भी देखने को  मिल सकता है।

ये भी पढ़ें…अमेरिकी FDA ने बनाया घातक गेम, जो स्कूल के बच्चों में करेगा धूम्रपान के लिए सजग