इस्लामोफोबिया नहीं, ये हकीकत है, पाकिस्तान की असेंबली ने बयां किया सच: राजनाथ सिंह

भारत के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने इस्लामिक आतंकवाद व कट्टरता को लेकर पाकिस्तान पर बड़ा प्रहार किया है। उन्होंने कहा कि इस्लामिक कट्टरता को पाकिस्तान से बढ़ावा दिया जा रहा है।

rajnath-singh

इस्लामोफोबिया नहीं, ये हकीकत है, पाकिस्तान की असेंबली ने बयां किया सच: राजनाथ सिंह (Photo by social media)

लखनऊ: भारत के रक्षामंत्री और लखनऊ के सांसद राजनाथ सिंह ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के इस्लामोफोबिया वाले बयान पर कहा कि यह फोबिया नहीं बल्कि हकीकत है।

ये भी पढ़ें:राहत लाया पेट्रोल-डीजल: तुरंत चेक करें ये नए रेट्स, आपके लिए बड़ी खुशखबरी

इस्लामिक आतंकवाद व कट्टरता को लेकर पाकिस्तान पर बड़ा प्रहार किया

भारत के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने इस्लामिक आतंकवाद व कट्टरता को लेकर पाकिस्तान पर बड़ा प्रहार किया है। उन्होंने कहा कि इस्लामिक कट्टरता को पाकिस्तान से बढ़ावा दिया जा रहा है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान का यह कहना कि पश्चिमी देशों को इस्लामोफोबिया हो गया है पूरी तरह गलत है। पाकिस्तान की नेशनल असेंबली में चर्चा के दौरान इसका प्रमाण मिल चुका है कि पाकिस्तान से इस्लामिक कट्टरता को बढ़ावा दिया जा रहा है।

जिस तरह की घटनाएं सामने आ रही हैं वह फोबिया को हकीकत साबित कर रही हैं। इमरान खान ने जो पत्र जारी किया है उसमें भी वह इस्लामोफोबिया की बात कहकर मामले को हल्का करने की कोशिश कर रहे हैं जबकि उनकी सरकार ही इसे बढ़ावा दे रही है। पुलवामा अटैक जैसे कई मामले हैं। पाकिस्तान जानबूझकर इस्लामिक आतंकवाद को बढ़ावा दे रहा है।

pakistan
pakistan (Photo by social media)

फ्रांस में जो कुछ हुआ वह निंदनीय है

फ्रांस में इस्लामी आतंकवाद से जुड़ी घटनाओं पर अपनी प्रतिक्रिया में उन्होंने कहा कि फ्रांस में जो कुछ हुआ वह निंदनीय है। जहां तक ईशनिंदा का मामला है तो किसी को भी किसी दूसरे धर्म के अनुयायी की भावनाओं को आहत नहीं करना चाहिए लेकिन अगर कोई ऐसा करता भी है तो भी उसकी जान नहीं ली जानी चाहिए। किसी को हत्या करने की इजाजत नहीं दी जा सकती।

इस मामले में भारत का स्टैंड स्पष्ट हैं हमने फ्रांस की घटना की निंदा की है। आतंकवाद के मामले में भारत दुनिया के किसी भी देश का साथ देने को तैयार है। मेरा मानना है कि पूरी दुनिया को इस मुद्दे पर एक होकर आतंकवाद का सामना करना चाहिए। धार्मिक कट्टरता और आतंकवाद का मुकाबला सभी को करना होगा।

ये भी पढ़ें:गैस बुकिंग पर बड़ी खबर: जारी हुआ ये नया नंबर, आज से बदले कई नियम

कश्मीर में भारतीय जनता युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं की हत्या की निंदा करते हुए उन्होंने कहा कि पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज आने को तैयार नहीं है लेकिन जिस तरह से स्थानीय युवकों ने इस मामले में पाकिस्तान और आतंकवादियों का विरोध किया है। वह बता रहा है कि अनुच्छेद 370 हटने के बाद वहां बदलाव हुआ है और स्थानीय लोग अब आतंकवादियों व पाकिस्तानियों की चाल में फंसने को तैयार नहीं हैं। महबूबा मुफ्ती और फारुख अब्दुल्ला के बयानों पर टिप्पणी करते हुए कहा कि अब कश्मीर में 370 की वापसी नहीं हो सकती है। वहां की जनता भी जान गई है कि इससे उसे कोई फायदा नहीं मिल रहा था।

अखिलेश तिवारी

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App