सरकार का बड़ा फैसला: कॉलेज-यूनिवर्सिटी की परीक्षा पर एलान, पढ़ें पूरी खबर

तेजी से बढ़ते कोरोना वायरस के संकट को देखते हुए दिल्ली सरकार (Delhi Government) ने बड़ा फैसला किया है। कोरोना के चलते दिल्ली में कॉलेज और यूनिवर्सिटीज की परीक्षाएं नहीं होंगी।

exams will not be held in Delhi

exams will not be held in Delhi

नई दिल्ली: तेजी से बढ़ते कोरोना वायरस के संकट को देखते हुए दिल्ली सरकार (Delhi Government) ने बड़ा फैसला किया है। कोरोना के चलते दिल्ली में कॉलेज और यूनिवर्सिटीज की परीक्षाएं नहीं होंगी। अरविंद केजरीवाल सरकार ने राजधानी में सभी कॉलेज और यूनिवर्सिटीज की इस साल आयोजित ना हो सके एग्जाम को ना करवाने का फैसला किया है। सरकार ने इस बारे में SC को भी सूचित किया है।

यह भी पढ़ें: सोना-चांदी पर निवेश: इतना होगा दीवाली तक दाम, जानें-मिलेगा फायदा या नुकसान

दिल्ली सरकार ने SC को किया सूचित

दिल्ली सरकार (Delhi Government) ने सुप्रीम कोर्ट को सूचित किया कि दिल्ली के यूनिवर्सिटीज की परीक्षा रद्द कर दी गई है। UGC ने देशभर के Universities को फाइनल ईयर की परीक्षाएं 30 सितंबर तक आयोजित करवाने का निर्देश दिया था, जिसका 31 छात्रों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर विरोध किया है। छात्रों ने दलील दी है कि कोरोना काल में सभी जगह हर छात्र के लिए एग्जाम्स में शामिल हो पाना संभव नहीं है। इस मामले पर आज SC में सुनवाई होनी है।

यह भी पढ़ें: प्रशासन की खुली पोल: इलाज न मिलने से पिता की मौत! DM के पैर पकड़कर बैठी बेटी

Delhi Government

UGC ने स्कूल-कॉलेज की परीक्षाओं को लेकर जारी की थी गाइडलाइंस

बता दें कि UGC की तरफ से कुछ दिन पहले ही स्कूल-कॉलेज की परीक्षाओं को लेकर गाइडलाइंस जारी की गई थीं। जिसके अनुसार, 30 सितंबर तक परीक्षाएं आयोजित करवानी थी। गृह मंत्रालय की अनुमति के बाद यूजीसी ने संशोधित गाइडलाइन जारी की थी। इसमें जुलाई में एग्जाम करवाने की अनिवार्यता को खत्म कर दिया गया था। इसके अलावा फाइनल ईयर की परीक्षाओं को अनिवार्य बताते हुए, इन्हें सितंबर के आखिरी तक करवाने का निर्देश दिया था।

यह भी पढ़ें: राणा को इस खास अंदाज में अक्षय ने दी बधाई, देखिए शादी की तस्वीरें

Exams

छात्रों को दूसरा मौका देने की कही थी बात

इस गाइलाइन में यह भी कहा गया था कि अगर कोई छात्र उचित कारण बताकर परीक्षा में शामिल नहीं होता है तो उसे फिर बाद में मौका दिया जाना चाहिए। गाइलाइन में खासतौर से लास्ट ईयर की परीक्षाएं करवाने पर जोर दिया गया था। इसके अलावा यूजीसी ने फर्स्ट और सेकेंड ईयर के छात्रों को आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर भी प्रमोट किए जा सकने की बात भी कही थी।

यह भी पढ़ें: UP में अब हारेगा कोरोना: दुकानदारों समेत इन सभी की होगी जांच, मिला निर्देश

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App