Top

भूकंप के झटकों से थर्राया लद्दाख, फिर सहम उठे लोग, तीव्रता रही इतनी

लद्दाख के लेह में आज एक बार फिर भूकंप से धरती थर्रा उठी। इस दौरान तीव्रता रिक्टर स्केल पर 3.5 मापी गई है। हालांकि इस दौरान किसी तरह के जान माल के नुकसान की कोई खबर सामने नहीं है।

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 25 March 2021 4:03 PM GMT

भूकंप के झटकों से थर्राया लद्दाख, फिर सहम उठे लोग, तीव्रता रही इतनी
X
भूकंप के झटकों से थर्राया लद्दाख, फिर सहम उठे लोग, तीव्रता रही इतनी
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लेह: लद्दाख के लेह में आज यानी गुरुवार को एक बार फिर से भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। इसकी जानकारी नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी ने दी है। मिली जानकारी के मुताबिक, लेह में शाम के समय धरती भूकंप के झटके से थर्रा उठी। इस दौरान तीव्रता रिक्टर स्केल पर 3.5 मापी गई है। हालांकि अब तक इससे किसी तरह के जान माल के नुकसान की कोई खबर सामने नहीं है।

मंगलवार को भी महसूस किए गए थे झटके

आपको बता दें कि इससे पहले मंगलवार को लद्दाख में भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। हालांकि उस दौरान भी झटका धीमा था। जिसकी रिक्टर स्केल पर तीव्रता 3.0 मापी गई थी। गौरतलब है कि देश में अब तक कई बार भूकंप आ चुका है। लद्दाख में तो पिछले साल से अब तक भूकंप से धरती की थर्राहट को कई बार दर्ज किया गया। इसी कड़ी में आज 3.5 तीव्रता का भूकंप आया।

यह भी पढ़ें: कोरोना का विकराल रूप: इन राज्यों में बड़ी उछाल, दिल्ली में सामने आए इतने केस

earthquake in leh (फोटो- सोशल मीडिया)

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय ने किया ये फैसला

इस बीच पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय ने देश में भूकंप के लिहाज से संवेदनशील इलाकों की निगरानी को बढ़ाने का फैसला किया है। इसके तहत देश भर में 35 और निगरानी केंद्र खोले जाएंगे। दस महीने के अंदर यह सेंटर्स पूरी क्षमता से काम करने लगेंगे। इन सेंटर्स के खुलने से यह फायदा होगा कि नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी रियल टाइम डाटा एकत्र कर सकेंगे।

यह भी पढ़ें: एंटीलिया केस: सचिन वाजे का बड़ा बयान, कहा- ‘मुझे बनाया जा रहा है बलि का बकरा

क्या होगा इससे फायदा?

नए निगरानी सिस्टम की सहायता कम तीव्रता वाले भूकंप भी मापे जा सकेंगे। यही नहीं भूकंप के लिहाज से संवेदनशील इलाकों की भूगर्भीय स्थितियों का आकलन किया जा सकेगा। आपको बता दें कि नए केंद्रों में सबसे ज्यादा तेज समुद्र के तटीय इलाकों के साथ पिछले दशक में भूकंप की मार झेलने वाले इलाकों को प्राथमिकता दी गई है।

यह भी पढ़ें: वाहनों की नंबर प्लेट में छिपा है राज, क्या आप जानते हैं ये खास बात

दोस्तों देश और दुनिया की खबरों को तेजी से जानने के लिए बने रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलो करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story