ईडी ने वाड्रा से कई बयानों और दस्तावेजों को लेकर की पूछताछ

मामले के जांच अधिकारी ने उनके कथित सहयोगियों के कम से कम आधा दर्जन बयानों के बाबत उनसे पूछताछ की जो उनके, फरार चल रहे हथियार कारोबारी संजय भंडारी, भंडारी के साथ एवं अन्य के बीच कथित “संबंध” को स्थापित करते हैं।

16 घंटे तक रॉबर्ट वाड्रा के ठिकानों पर छापेमारी के बाद रात 3 बजे लौटी ED

file photo

नई दिल्ली : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बहनोई 50 वर्षीय रॉबर्ट वाड्रा अपने वकीलों के साथ पूर्वाह्न करीब पौने 11 बजे इंडिया गेट के पास स्थित एजेंसी के कार्यालय पहुंचे। उनसे करीब पांच घंटे तक पूछताछ चली। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने रॉबर्ट वाड्रा से उनसे कथित तौर पर जुड़े लोगों के बयानों एवं लंबे वक्त से जुटाए गए कई कागजी सूबतों को लेकर मंगलवार को पूछताछ की। अधिकारियों ने बताया कि वाड्रा विदेश में कथित अवैध संपत्तियां खरीदने से जुड़े धनशोधन के एक मामले में ईडी के समक्ष पेश हुए थे।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि मामले के जांच अधिकारी ने उनके कथित सहयोगियों के कम से कम आधा दर्जन बयानों के बाबत उनसे पूछताछ की जो उनके, फरार चल रहे हथियार कारोबारी संजय भंडारी, भंडारी के साथ एवं अन्य के बीच कथित “संबंध” को स्थापित करते हैं।

ये भी देखें : चुनाव आयोग : जम्मू कश्मीर में साल के अंत तक विधान सभा चुनाव संभव

ऐसा माना जा रहा है कि वाड्रा ने भंडारी या अन्य के साथ किसी तरह का सौदा या संबंध होने से इनकार किया है या अनभिज्ञता जताई। जांच अधिकारी ने उनका बयान धनशोधन निवारण कानून (पीएमएलए) की धारा 50 के तहत दर्ज किया।

अधिकारियों ने कहा कि जांच के तहत कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के पति कारोबारी वाड्रा को उनसे कथित तौर पर जुड़े कई ई-मेल, बैंकिंग एवं वित्तीय दस्तावेज भी दिखा कर पूछताछ की गई।

उनका बयान दर्ज करने से पहले कम से कम चार अवैध संपत्तियों से जुड़े संपत्ति दस्तावेजों को वाड्रा के समक्ष प्रस्तुत किया गया।

वाड्रा ने एजेंसी के समक्ष पेश होने से पहले सोशल मीडिया पर एक बयान जारी कर कहा कि उन्हें “सनसनी एवं अनावश्यक नाटक का” हिस्सा बनाया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि वह ‘‘प्रवर्तन निदेशालय के समक्ष करीब 80 घंटों तक कई प्रश्नों का उत्तर देने के बाद’’ 13वीं बार पूछताछ के लिए पेश हो रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘‘आसपास अनावश्यक नाटक और सनसनी के बीच मैं खुद को शांत रखता हूं और अपना ध्यान नहीं भटकाता।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मेरे स्वास्थ्य संबंधी खबरों को लापरवाही से प्रसारित करना सही नहीं है… लेकिन इससे भी बदतर समस्याओं को झेल रहे लोगों, बीमार, नेत्रहीन लोगों और अनाथ बच्चों को मुस्कुराते देख कर मुझे आगे बढ़ने की ताकत मिलती है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मेरा जीवन अनूठा है और मैंने निराधार आरोपों के खिलाफ करीब एक दशक तक लड़ाई लड़ी। शारीरिक हालात बदल सकते हैं, लेकिन ईमानदार दिमाग नहीं बदल सकता। मैं सच पर अडिग हूं। एक किताब पर काम चल रहा है जिसमें दुनिया मेरा पक्ष पढ़ सकेगी और स्पष्ट तरीके से जान सकेगी।’’

ये भी देखें : ICC World CUP 2019: अफगानिस्तान ने शानदार वापसी करते हुए श्रीलंका को झकझोरा

माना जा रहा है कि पूछताछ के दौरान वाड्रा ने सुमित चढ्ढा (भंडारी के परिवार का सदस्य) और एनआरआई कारोबारी सी सी थंपी से किसी तरह की मिलीभगत से इनकार किया है।

दिल्ली की एक अदालत ने वाड्रा को स्वास्थ्य संबंधी कारणों के चलते छह सप्ताह के लिए विदेश जाने की सोमवार को अनुमति दी थी।

इस मामले के अलावा वाड्रा राजस्थान के बीकानेर में जमीन आवंटन में हुई कथित अनियमितता से जुड़े धनशोधन के एक अन्य मामले में भी कई बार पूछताछ का सामना कर चुके हैं।

ईडी द्वारा वाड्रा के खिलाफ दर्ज मामला लंदन के 12 ब्रायनस्टन स्क्वायर इलाके में 19 लाख पाउंड मूल्य की संपत्ति खरीद में हुए धनशोधन से जुड़ा हुआ है।

इस बीच एजेंसी ने मामले में नया जांच अधिकारी नियुक्त किया है क्योंकि मौजूदा जांच अधिकारी राजीव शर्मा की पदोन्नति होनी है।

 

 

(भाषा)