×

अब खुद चुनिए अपनी मनचाही बिजली कंपनी और रेट, स्मार्ट मीटर दिखाएगा कमाल

मतलब साफ है कि मीटर देखकर बिजली बिल के भुगतान का सिस्टम खत्म हो जाएगा। घरों में लगने वाले मीटर स्मार्ट मीटर होंगे। इसकी विशेषता यह होगी कि इसकी मदद से सप्लायर और रेट चुनने का विकल्प होगा।

SK Gautam

SK GautamBy SK Gautam

Published on 1 Feb 2020 9:30 AM GMT

अब खुद चुनिए अपनी मनचाही बिजली कंपनी और रेट, स्मार्ट मीटर दिखाएगा कमाल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के लंबे बजट भाषण में एक उल्लेखनीय घोषणा घरों में लगे बिजली मीटरों को लेकर रही। वित्त मंत्री ने कहा कि भविष्य में पूरे देश में प्री पेड मीटर लगेंगे। इसका मतलब साफ है कि मीटर देखकर बिजली बिल के भुगतान का सिस्टम खत्म हो जाएगा। घरों में लगने वाले मीटर स्मार्ट मीटर होंगे। इसकी विशेषता यह होगी कि इसकी मदद से सप्लायर और रेट चुनने का विकल्प होगा।

पूरी तरह हटेंगे पुराने मीटर

अपने बजट भाषण में वित्त मंत्री ने ऊर्जा क्षेत्र को 22 हजार करोड़ रुपए देने का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि सरकारी योजना के तहत घरों में लगे पुराने मीटरों को धीरे-धीरे पूरी तरह हटाया जाएगा। नए प्रस्तावित प्री पेड मीटरों के जरिए उपभोक्ता के सामने पसंद की बिजली कंपनी चुनने की आजादी होगी। इस योजना का ऐलान करते हुए वित्त मंत्री ने राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों से तीन साल में पुराने मीटर बदलकर प्री पेड स्मार्ट मीटर लगाने का आग्रह किया।

ये भी देखें : स्मृति ईरानी को पसंद है अमेठी की ये मिठाई, जानें क्या है इसका राज

मिलेगा सस्ते रेट का फायदा

उन्होंने कहा कि यह मीटर लगवा लेने पर उपभोक्ता अपनी सुविधा के हिसाब से कंपनी और रेट चुन सकती है। यदि उसे किसी कंपनी की बिजली सस्ते रेट पर मिलती है तो वह उसे पसंद कर सकता है। वित्त मंत्री ने कहा कि यह सबको बिजली देने की दिशा में अहम कदम है। उन्होंने कहा कि डिस्कॉम में बदलाव के लिए 22,000 करोड़ रुपये पावर और अक्षय ऊर्जा के लिए प्रस्तावित किए जा रहे हैं।

रुक जाएगी बिजली चोरी

केन्द्र सरकार ने 2022 तक सभी मीटरों को बदलने का लक्ष्य रखा है। इस दिशा में सरकार पहले से ही काम कर रही है। उत्तर प्रदेश सरकार भी इस दिशा में काम कर रही है। इससे बिजली चोरी रोकने में मदद मिलती है। उदाहरण के तौर पर यदि उत्तर प्रदेश को ही लिया जाए तो यहां बड़े पैमाने पर बिजली चोरी की शिकायतें हैं। इसके साथ ही बिजली का उपयोग कर उसका भुगतान न करने की भी खूब शिकायतें हैं।

ये भी देखें : युवाओं के लिए खुशखबरी: सरकार ने रोजगार को लेकर किया ये ऐलान

आखिर क्या है प्री पेड मीटर

प्री मेड मीटर के नाम से ही स्पष्ट है कि इसके लिए आपको पहले ही पेमेंट करना होगा। जैसे डिश टीवी का पहले रीचार्ज करना होता है और बाद में सुविधा मिलती है, ठीक वैसे ही अब बिजली के भी मामले में भी होगा। सामान्य मीटर में पहले बिजली यूज करते हैं, फिर बिल आता है, लेकिन प्री पेड में पहले रीचार्ज करना होगा। इसके बाद ही उपभोक्ता बिजली का इस्तेमाल कर सकेगा।

SK Gautam

SK Gautam

Next Story