Top

दलित नेता की हत्या: तेजस्वी-तेजप्रताप समेत 6 के खिलाफ FIR, ये है बड़ी वजह

रविवार को नकाबपोश अपराधियों ने दलित नेता शक्ति मलिक के घर में घुसकर गोली मारकर उनकी हत्या कर दी। पुलिस अधीक्षक विशाल शर्मा ने इस मामले में तेजस्वी यादव और तेजप्रताप यादव समेत कुल 6 लोगों के खिलाफ केहाट थाने में एफआईआर दर्ज किए जाने की पुष्टि की है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 5 Oct 2020 3:56 AM GMT

दलित नेता की हत्या: तेजस्वी-तेजप्रताप समेत 6 के खिलाफ FIR, ये है बड़ी वजह
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: बिहार में इस महीने से विधानसभा चुनाव होने जा रहा है। चुनाव में जीत के लिए सभी पार्टियों ने जोर लगा दिया। अब बिहार विधानसभा चुनाव से पहले आरजेडी को बड़ा झटका लगा है। आरजेडी के पूर्व दलित नेता शक्ति मलिक की हत्या मामले में पार्टी नेता तेजस्वी यादव, तेजप्रताप यादव और अनिल कुमार साधु समेत 6 लोगों के खिलाफ नामजद प्राथमिकी दर्ज की गई है।

घर में घुसकर की हत्या

केहाट थाना क्षेत्र में रविवार को नकाबपोश अपराधियों ने दलित नेता शक्ति मलिक के घर में घुसकर गोली मारकर उनकी हत्या कर दी। पुलिस अधीक्षक विशाल शर्मा ने इस मामले में तेजस्वी यादव और तेजप्रताप यादव समेत कुल 6 लोगों के खिलाफ केहाट थाने में एफआईआर दर्ज किए जाने की पुष्टि की है।

परिजनों के बयान पर दर्ज हुई FIR

परिवार की तरफ से दर्ज बयान के आधार पर बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव, पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव, एससीएसटी प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष अनिल कुमार साधु पासवान, अररिया के आरजेडी नेता कालो पासवान समेत छह लोगों पर षड़यंत्र के तहत हत्या कराने का आरोप लगाते हुए केहट थाने में एफआईआर दर्ज की गई है। केहाट थानाध्यक्ष सुनील कुमार मंडल ने बताया कि मृतक की पत्नी खुशबू देवी के बयान के आधार पर नामजद एफआईआर दर्ज की गई है। परिजनों का आरोप है कि ये लोग शक्ति को जान से मारने की धमकी दे रहे थे।

यह भी पढ़ें...हिटलर की जासूस थी ये खूबसूरत लड़की, मिली ऐसी मौत, कांप जाएगी रूह

आरजेडी नेताओं पर लगाया था आरोप

दलित नेता शक्ति मलिक को रविवार सुबह 3 नकाबपोश बदमाशोंने घर में घुस कर गोलियों से भून दिया। इसके बाद वे सभी वहां से फरार हो गए। उस समय घर में सिर्फ बच्चे और पत्नी के अलावा ड्राइवर ही था। इसके बाद शक्ति को सदर अस्पताल लाया गया जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

मलिक ने हत्या से पहले आरजेडी नेता तेजस्वी यादव समेत पार्टी के अन्य नेताओं पर टिकट के बदले पैसे मांगने का आरोप लगाया था। इसके साथ ही उन्होंने जातिगत टिप्पणी करने और आरजेडी नेता से अपनी जान का खतरा होने का आरोप लगाया था।

यह भी पढ़ें...BJP नेता को मारी गोलीः हत्या के बाद बंद का एलान, CM से लेकर DGP तक तलब

Rajeev Ranjan

जेडीयू ने तेजस्वी को घेरा, की CBI जांच की मांग

तो वहीं जेडीयू प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने आरोप लगाया कि नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी लगातार दलितों, पिछड़ों, वंचितों की बात करते हैं, लेकिन एक वीडियो वायरल हुआ है और वही नेता प्रतिपक्ष की असलियत है। उनका कहना है कि रानीगंज विधानसभा क्षेत्र के राजनीतिक कार्यकर्ता शक्ति मलिक की हत्या कर दी गई जिन्होंने टिकट के लिए कुछ दिन पहले तेजस्वी यादव पर पैसों के लेनदेन का आरोप लगाया था।

यह भी पढ़ें...हाथरस पीड़िता का सच: सामने आई दो मेडिकल रिपोर्ट, रेप पर हुआ ये बड़ा खुलासा

राजीव रंजन ने आगे कहा कि तेजस्वी ने शक्ति मलिक से 50 लाख रुपये पहले और 20 लाख रुपये टिकट फाइनल हो जाने के बाद मांगें थे और इससे इंकार करने पर शक्ति मलिक को जातिगत टिप्पणी, अपशब्द कहे गए। इसके बाद रविवार सुबह उनकी गोली मारकर हत्या कर दी गई। जेडीयू नेता अजय आलोक ने मांग की कि चुनाव आयोग इस मामले में संज्ञान ले और इस मामले की जांच सीबीआई से कराए।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story