Top

इन पांच पॉइंट्स में जानिए गांवों में पहुंचेगा वाई-फाई तो कितना बदल जाएंगे गांव

भारत के कई गांव ऐसे हैं। जहां इन्टरनेट आज तक नहीं पहुंच पाया है। इंटरनेट न होने की वजह से यहां के पढ़ें-लिखें युवाओं को समय पर सरकारी और प्राइवेट भर्तियों के बारें में सूचना नहीं मिल पाती है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 9 Dec 2020 7:21 PM GMT

इन पांच पॉइंट्स में जानिए गांवों में पहुंचेगा वाई-फाई तो कितना बदल जाएंगे गांव
X
गांवों में हाईस्पीड इंटरनेट की सुविधा शुरू होने से ग्रामीण जाति, आय, पेंशन और दूसरों कामों के लिए गांव के लोगों को शहर जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को कहा कि भारत के सभी गांवों को अगले 3 साल में हाई स्पीड इंटरनेट से जोड़ दिया जाएगा।

उन्होंने ये भी कहा कि सरकार के साथ-साथ दूरसंचार क्षेत्र के सभी हितधारकों को पांचवीं पीढ़ी यानि 5जी प्रौद्योगिकी की समय पर लॉन्चिंग सुनिश्चित करने के लिए मिलकर काम करना होगा।

उक्त बातें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इंडिया मोबाइल कांग्रेस (आईएमसी) को संबोधित करते हुए कही। पीएम मोदी के इस बयान के बाद से गांव के लोगों में उत्सुकता बढ़ गई है।

बड़े बुजुर्ग चर्चा कर इस बात को अभी से जानने में जुट गये हैं कि गांव में हाई स्पीड इन्टरनेट(वाई फाई) आने के बाद से कैसे उन तक सरकारी मदद पहुंचेगी और उन्हें और उनके बच्चों को इससे क्या–क्या फायदा मिलने वाला है।

ऐसे में अब उन्हें समझाने का जिम्मा गांव के ही कुछ पढ़ें लिखें युवाओं ने उठा लिया हैं। वे अब बड़े बुजुर्ग को इस बात को समझाने में लग गये हैं कि कैसे इंटरनेट आने के बाद न केवल उनके परिवार का भला होगा बल्कि गांव की तस्वीर भी बदल जाएगी।

pm narendra modi प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फोटो: सोशल मीडिया)

मजदूरों को राहत: इस राज्य में बढ़ी न्यूनतम मजदूरी, केंद्र सरकार से लेंगे सलाह

इन पांच पॉइंट में समझें, इन्टरनेट आने के बाद से कितना बदल जाएंगे गांव

1.रोजगार के अवसर बढ़ेंगे, बेरोजगारी दूर होगी

भारत के कई गांव ऐसे हैं। जहां इन्टरनेट आज तक नहीं पहुंच पाया है। इंटरनेट न होने की वजह से यहां के पढ़ें-लिखें युवाओं को समय पर सरकारी और प्राइवेट भर्तियों के बारें में सूचना नहीं मिल पाती है।

जिसकी वजह से गांव के तमाम पढ़ें –लिखें युवा समय पर इन नौकरियों के लिए आवेदन नहीं कर पाते हैं और योग्य होने के बाद भी नौकरी पाने से वंचित रह जाते हैं।

जिससे गांव के अंदर धीरे-धीरे बेरोजगारों की तादाद बढ़ने लगती हैं। अगर हाई स्पीड इन्टरनेट की शुरुआत होगी तो गांव के युवा भी भर्तियों से अपडेट रहेंगे। इसके लिए समय रहते अप्लाई करेंगे। इस तरह गांवों के अंदर से बेरोजागारी दूर होगी।

Job इन पांच पॉइंट्स में जानिए गांवों में पहुंचेगा वाई-फाई तो कितना बदल जाएंगे गांव (फोटो: सोशल मीडिया)

2. स्वास्थ्य सेवाओं का ज्यादा से ज्यादा लोगों को लाभ मिलेगा, मृत्यु दर में कमी आएगी

गांवों के अंदर आज भी ऐसे तमाम लोग मिल जायेंगे जिनको अपने जिले, मंडल या प्रदेश के अच्छे अस्पतालों के बारें में बिल्कुल भी जानकारी नहीं है। कई बार दलालों या झोलाछाप डॉक्टरों के चक्कर में फंसने से उनकी जान पर भी बन आती है।

इतना ही नहीं प्रदेश सरकार स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़ी कौन-कौन सी स्कीम उनके लिए चला रही हैं। कौन-कौन से असाध्य रोगों के इलाज का खर्च सरकार उठा रही है।

इसकी भी उन्हें तनिक भी जानकारी नहीं होती है। जिसकी वजह से उन्हें इलाज और दूसरे कामों के लिए मोटी रकम खर्च करनी पड़ती हैं।

अगर गांवों में हाई स्पीड इन्टरनेट की सुविधा शुरू हो जाएगी तो ग्रामीण भी स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ ठीक प्रकार उठा पाएंगे। गांवों में शहरों की तुलना में मृत्यु दर में काफी कमी आ सकेगी।

wifi इन पांच पॉइंट्स में जानिए गांवों में पहुंचेगा वाई-फाई तो कितना बदल जाएंगे गांव (फोटो: सोशल मीडिया)

भारत मे शोक: इस प्रसिद्ध लेखक का हुआ निधन, देश को हुई बड़ी क्षति…

3. ऑनलाइन एजुकेशनल सेवाओं का मिलेगा लाभ

हाई स्पीड इन्टरनेट आने से शिक्षा सहित कई क्षेत्रों में उपलब्ध मौकों का फायदा गांव के लोगों को भी मिलेगा। इससे कई लोग अपने घर बैठे उच्च स्तरीय ऑनलाइन एजुकेशनल सेवाओं का लाभ उठा सकेंगे।

उन्हें इसके लिए शहर नहीं जाना पड़ेगा। कोरोना महामारी या किसी आपात स्थिति में गांव के बच्चे की पढ़ाई बाधित नहीं होगी। वे भी शहरी बच्चों की ऑनलाइन क्लास कर सकेंगे।

farmer with money किसान (फोटो): सोशल मीडिया)

4.सरकारी स्कीम का फायदा उठाने के लिए शहर जाने की नहीं होगी जरूरत

गांवों में हाईस्पीड इंटरनेट की सुविधा शुरू होने से ग्रामीण जाति, आय, पेंशन और दूसरों कामों के लिए गांव के लोगों को शहर जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

वाई फाई सुविधा शुरू होने पर ग्राम पंचायत में कॉमन सेंटर खुल सकेंगे। इन सेंटरों के खुलने से ग्रामीण जाति, आय, पेंशन आदि के लिए गांव में ही इंटरनेट के जरिए आवेदन कर सकेंगे। साथ ही आइजीआरएस पोर्टल पर शिकायत भी दर्ज करा सकेंगे।

Village Women इन पांच पॉइंट्स में जानिए गांवों में पहुंचेगा वाई-फाई तो कितना बदल जाएंगे गांव (फोटो:सोशल मीडिया)

5. गांवों की बदलेगी सूरत, पंचायत के मुखिया, पंचायत सेवक एवं राजस्व कर्मचारी होंगे हाईटेक

सरकार की डिजिटल सेवाओं का लाभ आम लोगों को मिलेगा। पंचायत के मुखिया, पंचायत सेवक एवं राजस्व कर्मचारी हाईटेक होंगे। सभी काम ऑन स्पॉट ऑनलाइन होगा। सरकार का पत्र मुखिया और पंचायत सेवक के मेल पर मिला करेगा।

सावधान सरकार! किसानों का नया प्लान, पहले से ज्यादा दमदार, कल से होगा ऐसा

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story