×

370 पर पाक को भारत का जवाब, पीओके भी हमारा, हकीकत को करे स्वीकर

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 खत्म करने के बाद से ही पाकिस्तान बौखलाया हुआ है। इस बीच विदेश मंत्रालय ने जम्मू-कश्मीर के मसले पर पाकिस्तान की बौखलाहटों का जवाब दिया है। विदेश मंत्रालय ने कहा कि पड़ोसी देश इसलिए परेशान है कि अब उसे आतंकवाद का प्रसार करने में मदद नहीं मिलेगी।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 9 Aug 2019 12:32 PM GMT

370 पर पाक को भारत का जवाब, पीओके भी हमारा, हकीकत को करे स्वीकर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 खत्म करने के बाद से ही पाकिस्तान बौखलाया हुआ है। इस बीच विदेश मंत्रालय ने जम्मू-कश्मीर के मसले पर पाकिस्तान की बौखलाहटों का जवाब दिया है और कहा कि पड़ोसी देश इसलिए परेशान है कि अब उसे आतंकवाद का प्रसार करने में मदद नहीं मिलेगी।

कश्मीर मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र(यूएन) में जाने की पाकिस्तान की धमकी पर विदेश मंत्रालय ने कहा कि पीओके भी हमारा है और हमारे आंतरिक मामले को यूएन में उठाने का पाकिस्तान के पास कोई आधार ही नहीं है।

यह भी पढ़ें...आर्टिकल 370: PAK को उसी के प्लान में मात देने के लिए भारत ने तैयार की रणनीति

भारत का आंतरिक मामला है यह

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने शुक्रवार को प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि यह पूरी तरह से भारत का आंतरिक मामला है और पाकिस्तान डर का माहौल फैलाना चाहता है। रवीश कुमार ने कहा कि पाकिस्तान इसलिए परेशान है कि अगर जम्मू और कश्मीर का विकास हुआ तो वह वहां के लोगों को गुमराह नहीं कर पाएगा।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने पाकिस्तान को भारत के आंतरिक मामलों में दखल न देने की नसीहत दी। कुमार ने कहा, 'भारत के संप्रभु मामले में बेवजह के विषयों को पाकिस्तान जोड़ रहा है। हमने कई विदेशी सरकारों और संस्थानों को इस संबंध में बताया है और अपनी स्थिति से अवगत कराया है। हमने बताया है कि कश्मीर में हमने क्या किया है और यह हमारा आंतरिक मामला है। हमने सभी देशों और संगठनों को इस बारे में जानकारी दी है। पाकिस्तान को हकीकत को स्वीकार करना चाहिए और अन्य देशों के मामलों में दखल नहीं देना चाहिए।'

यह भी पढ़ें...धारा 370 पर काशी के संतों ने ठोकी पीएम की पीठ, कांग्रेस को जमकर कोसा

पीओके भी हमारा

रवीश कुमार ने कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान के संयुक्त राष्ट्र में जाने के धमकी पर कहा कि हमारे आंतरिक मामले को संयुक्त राष्ट्र में उठाने का उसे अधिकार ही नहीं है। पीओके भी हमारा हिस्सा है।

रवीश कुमार से जब पूछा गया कि पाकिस्तान अगर यूएन में जाता है तो क्या भारत वहां पीओके और वहां के लोगों पर अत्याचार का मुद्दा उठाएगा, तो कुमार ने कहा कि यह स्ट्रैटिजी सार्वजनिक तौर पर शेयर नहीं की जा सकती। उन्होंने कहा, 'मुझे नहीं लगता कि पाकिस्तान के पास हमारे आंतरिक मामले को संयुक्त राष्ट्र में उठाने का कोई अधिकार है।'

यह भी पढ़ें...झल्लाए पाकिस्तान ने फिर रोकी ट्रेन, लगातार अपनी हरकतों से नही आ रहा बाज

डिप्लोमैटिक चैनल ओपन

रवीश कुमार ने अनुच्छेद 370 पर सरकार के फैसले को जम्मू और कश्मीर के हित में बताया। उन्होंने पाकिस्तान द्वारा भारत के साथ राजनयिक संबंधों को घटाने, व्यापार और समझौता एक्सप्रेस बंद करने को एकतरफा फैसला करार दिया और उससे इस पर पुनर्विचार की अपील की। उन्होंने कहा कि हम उनसे इसकी सिर्फ गुजारिश कर सकते हैं।

अनुच्छेद 370 पर भारत सरकार के फैसले पर इस्लामिक देशों की प्रतिक्रिया से जुड़े सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, 'पिछले 5 सालों में या हालिया वर्षों में हमारा इस्लामिक देशों से इंगेजमेंट काफी रहा। खुद प्रधानमंत्री ने इंगेजमेंट का नेतृत्व किया, कई देशों का दौरा किया। इस्लामिक देशों ने भारत के पक्ष को सही से समझा है। और जब हम कहते हैं कि यह हमारा आंतरिक मामला है तो उन्हें समझना चाहिए।' कुलभूषण जाधव मामले पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि हम उनसे (पाकिस्तान से) लगातार बातचीत कर रहे हैं, डिप्लोमैटिक चैनल ओपन हैं।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story