चिदंबरम के वार पर निर्मला जवाब, पूछा-भूल गए सात पहले का बयान

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बिना नाम लिए पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम पर हमला बोला है. उन्होंने लहसुन प्याज नहीं खाने वाले बयान पर हो रही आलोचना पर कहा कि ये आलोचना इकोनॉमी की है और ये सरकार लगातार बता रही है कि क्या कदम उठाए गए हैं, लेकिन एक आरोप लगाना कि

नई दिल्ली: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बिना नाम लिए पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम पर हमला बोला है। उन्होंने लहसुन प्याज नहीं खाने वाले बयान पर हो रही आलोचना पर कहा कि ये आलोचना इकोनॉमी की है और ये सरकार लगातार बता रही है कि क्या कदम उठाए गए हैं, लेकिन एक आरोप लगाना कि ये सरकार Elisist  है तो इसका जवाब मैं देती हूं। इसके बाद निर्मला सीतारमण ने पी चिदंबरम का 7 साल पुराना बयान याद दिलाया।
उन्होंने गुरुवार को संसद में जानकारी दीं कि कंप्यूटर सॉफ्टवेयर डेवलप करना, खनन का काम करना और किताबें छापने का काम लोवर टैक्स ब्रैकेट के लिए मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर । निर्मला सीतारमण ने कहा कि पूर्व वित्त मंत्री ने कहा था कि जब अर्बन मिडिल क्लास 15 रुपये का मिनरल वॉटर का बोतल खरीद सकता है और आइसक्रीम के लिए 20 रुपये दे सकता है तो वो क्यों कीमतों में उछाल का हल्ला करता है।

यह पढ़ें…प्याज से नहीं, अब तेल बिगाड़ेगा खाने का स्वाद, जानिए क्यों?

वित्त मंत्री का बयान
वित्त मंत्री ने गुरुवार को राज्यसभा में कहा कि ये सरकार लगातार बता रही है कि प्याज की कीमतों को लेकर क्या कदम उठाए गए हैं।लेकिन एक आरोप लगाना कि ये सरकार एलिटीस्ट(Elitist) है तो इसका जवाब मैं देती हूं। उज्ज्वला योजना, जनधन योजना, पीएम आवास योजना, आयुष्मान योजना क्या है. क्या ये Elitist के लिए है । अगर कोई नई उत्पादन कंपनी 15 फीसदी रेट के हिसाब से जरूरतों को पूरा नहीं करती है तो उन्हें 22 फीसदी के टैक्स ब्रैकेट में जाने का भी विकल्प दिया जाएगा.’ इस दौरान उन्होंने यह भी कहा कि अर्थव्यवस्था को बूस्ट करने के लिए सरकार नए रिफॉर्म करती रहेगी।

निर्मला सीतारमण ने आगे कहा कि मैं पूर्व वित्त मंत्री के एक बयान की याद दिलाती हूं। जब कीमतों में उछाल का मुद्दा था।ये मैं 2012 की बात कर रही हूं। महंगाई दर नियंत्रण से बाहर था। मुझपर एलिटीस्ट(Elitist) का आरोप लगाने वाले ने तब क्या बयान दिया था. उन्होंने कहा था कि जब अर्बन मिडिल क्लास 15 रुपये का मिनरल वॉटर का बोतल खरीद सकता है और आइसक्रीम के लिए 20 रुपये दे सकता है तो वो क्यों कीमतों में उछाल का हल्ला करता है।


चिदंबरम का बयान
पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने कहा कि जो सरकार कम प्याज खाने को कहती है, उसे चले जाना चाहिए।गुरुवार को संसद भवन पहुंचे पी चिदंबरम ने  कहा, ‘…जो सरकार लोगों को कम प्याज और लहसुन खाने की सलाह देती है, उसे चले जाना चाहिए. अर्थव्यवस्था के मामले में ये सरकार पूरी तरह से फेल हुई है’।

यह पढ़ें…‘जेम’ पोर्टल पर सर्वोत्तम खरीदार राज्य के लिए यूपी को केंद्र सरकार ने किया पुरस्कृत

पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने कहा कि अगर निर्मला सीतारमण प्याज नहीं खाती हैं तो क्या खाती हैं? क्या वह एवोकाडो खाती हैं?  बता दें कि बुधवार को ही लोकसभा की कार्यवाही के दौरान वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जब भाषण दे रही थीं, तो उन्होंने प्याज को लेकर कमेंट किया था. कांग्रेस नेता की ओर से प्याज का मुद्दा उठाने पर निर्मला सीतारमण ने जवाब दिया था, ‘..’मैं इतना लहुसन, प्याज नहीं खाती हूं जी. मैं ऐसे परिवार से आती हूं जहां अनियन से मतलब नहीं रखते.’
इसी के बाद निर्मला सीतारमण विपक्ष के निशाने पर हैं. सोशल मीडिया पर भी लोगों का गुस्सा फूट रहा है. गौरतलब है कि देश के कई शहरों में प्याज की कीमत 100 रुपये से लेकर 150 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गई है.