अभी-अभी बड़ी खबर: सीनियर सिटिजन के लिए ख़ुशी की लहर

स्कीम के अंतर्गत मिनिमम जमा रकम 1,000 रुपये तथा अधिकतम जमा रकम 15 लाख रुपये है। यह अकाउंट 5 साल में मैच्योर होता है। मतलब अब 5 साल से पहले पैसे नहीं निकाल सकते हैं। यह भी जानना आवश्यक है कि नए नियमों का पहले से चल रहे खातों पर कोई असर नहीं पडे़गा।

नई दिल्ली: जिंदगी भर नौकरी करके या व्यापार करके थोड़े-थोड़े पैसे जमा करने वाले जब अपने काम से रिटायर होते हैं तो सीनियर सिटीजन की श्रेणी में आ जाते हैं। जिनके लिए बड़ी खबर है इनसे सम्बंधित स्कीम के रूल्स में कुछ बदलाव किये गए हैं।

बता दें कि केंद्रीय वित्त मंत्रालय ने सीनियर सिटिजन सेविंग स्कीम (SCSS) 2019 (Senior Citizen Saving Scheme 2019) को अधिसूचित कर दिया है, जिसने SCSS Rules 2004 की जगह ले ली है।

ये भी देखें : CAA पर बड़ा फैसला: एक्शन में राष्ट्रपति, मोदी-शाह हो गए भौचक्के!

जानें क्या हुए हैं बदलाव

हम आपको बता दें कि इस स्कीम के अंतर्गत मिनिमम जमा रकम 1,000 रुपये तथा अधिकतम जमा रकम 15 लाख रुपये है। यह अकाउंट 5 साल में मैच्योर होता है। मतलब अब 5 साल से पहले पैसे नहीं निकाल सकते हैं। यह भी जानना आवश्यक है कि नए नियमों का पहले से चल रहे खातों पर कोई असर नहीं पडे़गा।

सीनियर सिटिजन सेविंग स्कीम में मिलता है 8 फीसदी से अधिक ब्याज

सीनियर सिटिजन सेविंग स्कीम के तहत 8 फीसदी से ज्यादा ब्याज मिलता है। वित्त मंत्रालय हर 3 महीने पर इस स्कीम की ब्याज दर की समीक्षा करता है। इस स्कीम में ब्याज का कैलकुलेशन हर तिमाही होता है। इसके तहत खाताधारक के खाते में 1 अप्रैल, 1 जुलाई, 1 अक्टूबर और 1 जनवरी को पैसा डाल दिया जाता है।इस स्कीम की अवधि 5 साल की होती है और इसे आगे और तीन साल के लिए बढ़ाया जा सकता है। अगर आप समय से पहले खाते से निकासी करते हैं तो इसके लिए आपको कुछ शुल्क देना होता है ।

ये भी देखें : फुटबॉल की नर्सरी रुड़का कलां

जानिए निवेश से जुड़ी जरूरी जानकारी

  • 60 साल की उम्र में रिटायर होने वाला कोई भी व्यक्ति इस स्कीम में निवेश कर सकता है। इसके तहत, एकल या फिर जॉइंट खाता खोला जा सकता है ।

 

  • पोस्ट ऑफिस या फिर किसी भी बैंक में इस स्कीम की सुविधा उपलब्ध होती है।

 

  • इस योजना के मुताबिक, जॉइंट या फिर सिंगल खाता खोलकर इसमें 15 लाख तक निवेश किया जा सकता है। हालांकि, इसमें निवेश की गई रकम रिटायरमेंट पर मिलने वाली रकम से ज्यादा नहीं होनी चाहिए।

 

  • इस स्कीम में खाता खोलने के लिए अगर 1 लाख रुपये निवेश कर रहे हैं तो आप इसे कैश में दे सकते हैं। वहीं अगर यह रकम 1 लाख से ज्यादा की है तो आपको इसे चेक के रूप में जमा करना होगा।

 

  • डिपॉजिट की अधिकतम रकम या तो रिटायरमेंट पर मिलने वाली रकम होती है या 15 लाख रुपये या फिर दोनों में से जो कम हो।

ये भी देखें : फूंक दी गई 4 बसें: संभल में हालात बेकाबू, CAA को लेकर हो रहा उग्र पदर्शन

3 साल का एक्सटेंशन भी मिलेगा

SCSS 2019 खाते की मैच्योरिटी के बाद उसके 3 साल के एक्सटेंशन की मंजूरी देता है और आपको ब्याज दर वही मिलेगी, जो खाते के मैच्योर होने के वक्त मिल रही थी।