×

इस बड़ी कम्पनी में निवेशकों के फंसे 25 हजार करोड़, मैनेजमेंट ने लिया ये बड़ा फैसला

फ्रेंकलिन कम्पनी से जुड़ी एक बड़ी खबर सामने आ रही है। फ्रेंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड ने कहा है कि वह निवेशकों का पैसा जल्द से जल्द लौटाएगी। इसके लिए कम्पनी प्रतिबद्ध है।

Aditya Mishra
Published on: 27 April 2020 1:32 PM GMT
इस बड़ी कम्पनी में निवेशकों के फंसे 25 हजार करोड़, मैनेजमेंट ने लिया ये बड़ा फैसला
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली: फ्रेंकलिन कम्पनी से जुड़ी एक बड़ी खबर सामने आ रही है। फ्रेंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड ने कहा है कि वह निवेशकों का पैसा जल्द से जल्द लौटाएगी। इसके लिए कम्पनी प्रतिबद्ध है।

फ्रेंकलिन टेम्पलटन एसेट मैनेजमेंट (इंडिया) के अध्यक्ष संजय सप्रे ने निवेशकों को भेजे एक संदेश में कहा कि जो योजनाएं बंद की गयी हैं, हम उनके निवेशकों को जल्द से जल्द पैसा लौटाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। साथ ही यह हमारे ब्रांड में निवेश करने वालों के विश्वास को बहाल करने की भी कोशिश है।

कंपनी ने हाल में नकदी संकट के चलते अपनी छह बांड योजनाओं को बंद कर दिया। कंपनी ने कहा कि योजनाओं को बंद करने का मतलब निवेशकों का पैसा डूबना नहीं है।

उन्होंने कहा कि यह निर्णय ग्राहकों के हित को ध्यान में रखकर लिया गया है। सप्रे ने कहा कि फ्रेंकलिन टेम्पलटन ने भारत में बहुत पहले काम शुरू किया था।

ये भी पढ़ें...बैंक खाताधारकों के लिए बड़ी खबर! जमा कर दें ये पेपर वरना…

लॉकडाउन हटाना होगा खतरनाक, अमेरिका में दोबारा लौट सकता है कोरोना: बिल गेट्स

कम्पनी ने इन 6 बांड्स को बंद करने का किया एलान

कंपनी ने यहां 25 साल से अधिक अवधि में दीर्घावधि कारोबार खड़ा किया है। उसके कुल वैश्विक कार्यबल का 33 प्रतिशत से अधिक भारत में रहता है।

कंपनी ने शुक्रवार को फ्रैंकलिन इंडिया लो ड्यूरेशन फंड, फ्रैंकलिन इंडिया डायनेमिक एक्यूरल फंड, फ्रैंकलिन इंडिया क्रेडिट रिस्क फंड, फ्रैंकलिन इंडिया शॉर्ट टर्म इनकम प्लान, फ्रैंकलिन इंडिया अल्ट्रा शॉर्ट बॉन्ड फंड और फ्रैंकलिन इंडिया इनकम अपॉर्चुनिटीज फंड जैसी छह बांड योजनाएं बंद करने की घोषणा की थी।

इन छह योजनाओं में निवेशकों की 25,000 करोड़ रुपये से अधिक की रकम फंसी है। कंपनी ने बांड बाजार में नकदी की कमी का हवाला देते हुए इन योजनाओं को स्वयं से बंद करने की पहल की है।

वाह, लॉकडाउन में घरों पर बोर होने से बचने के लिए बच्चे कर रहे हैं ऐसा काम

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story