×

फ्राड: यहां कंपनी बनाकर भोले-भाले लोगों से की करोड़ो की ठगी, ऐसे हुआ खुलासा

बहुचर्चित बाइक बोट फर्जीवाड़े में पुलिस अब तक 1500 करोड़ की बात कबूल कर रही थी, लेकिन केस डायरी में केवल पांच बैंकों में ही 2800 करोड़ रुपये जमा करने की...

Deepak Raj

Deepak RajBy Deepak Raj

Published on 26 Jan 2020 10:17 AM GMT

फ्राड: यहां कंपनी बनाकर भोले-भाले लोगों से की करोड़ो की ठगी, ऐसे हुआ खुलासा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नोएडा। बहुचर्चित बाइक बोट फर्जीवाड़े में पुलिस अब तक 1500 करोड़ की बात कबूल कर रही थी, लेकिन केस डायरी में केवल पांच बैंकों में ही 2800 करोड़ रुपये जमा करने की जानकारी दी गई है। पुलिस ने बैंकों के नाम व रकम का जिक्र करते हुए केस डायरी में संबंधित बैंकों को रकम स्थानांतरण की डिटेल देने के लिए नोटिस देने की भी बात लिखी है।

ये भी पढ़ें- राजस्थान की गहलोत सरकार ने सीएए के खिलाफ पास किया प्रस्ताव

वहीं, नोएडा की इंडीपेंडेंट डीटीएच कंपनी की 400 करोड़ की धोखाधड़ी में भी मुख्य आरोपी संजय भाटी पर अलीगढ़ में केस दर्ज किया गया है। इसके बावजूद निवेशक अब तक न्याय और फरार आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं।

देश भर के लोगों को ठगी का शिकार बनाने वाले मामले में सबसे पहला केस फरवरी 2019 में जयपुर के सुनील मीणा ने दादरी कोतवाली में दर्ज कराया था। मीणा ने रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए एसएसपी कार्यालय में तहरीर दी थी।

निवेशकों ने आरोपियों पर एफआईआर दर्ज कराई

इसकी भनक लगते ही गर्वित इनोवेटिव प्रमोटर्स लि. (बाइक बोट) के अधिकारियों ने उनसे संपर्क कर रुपये लौटा दिए थे, लेकिन उन्होंने शिकायत और एफआईआर अब तक वापस नहीं ली, क्योंकि फर्जीवाड़े में कई लाख लोग ठगी के शिकार हो चुके हैं। मीणा के बाद कई निवेशकों ने आरोपियों पर एफआईआर दर्ज कराई।

अकेले दादरी कोतवाली में ही कंपनी के सीएमडी संजय भाटी समेत कई लोगों पर 60 से अधिक केस दर्ज हैं। वहीं, देश के विभिन्न राज्यों दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, मध्यप्रदेश आदि में भी आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज किए गए हैं।

इन बैंकों के खातों में जमा की गई रकम

सुनील मीणा ने बताया कि पुलिस ने केस डायरी में लिखा है कि गर्वित इनोवेटिव प्रमोटर्स लि. (बाइक बोट कंपनी) के नगीना अर्बन कॉपरेटिव बैंक, नगीना बिजनौर में 6.28 करोड़, नोएडा सेक्टर-63 स्थित आईसीआईसीआई बैंक में 678.41 करोड़, नोविल कॉपरेटिव बैंक सेक्टर-22 में 572.52 करोड़, दिल्ली के यमुना विहार बैंक के कई खातों में 163.16 करोड़, सेक्टर-77 स्थित पीएनबी बैंक में 104.43 करोड़ रुपये जमा किए गए हैं। इन रुपयों को कहां स्थानांतरित किया गया है इसके लिए पुलिस ने बैंकों को नोटिस भेजा है।

पूरा ब्योरा लेकर जाएंगे हाईकोर्ट

ये भी पढ़ें- गणतंत्र दिवस पर महाराष्ट्र के लोगों को उद्धव सरकार का बड़ा तोहफा

पहला केस दर्ज कराने वाले सुनील मीणा का कहना है कि संजय भाटी ने चार्जशीट खारिज कराने के लिए हाईकोर्ट में याचिका दी है। इस मामले में उन्हें 18 फरवरी को हाईकोर्ट में पक्ष रखना है। उन्होंने बाइक बोट फर्जीवाड़े से संबंधित दस्तावेज, एफआईआर की प्रति जुटानी शुरू कर दी है। फर्जीवाड़े का पूरा ब्योरा लेकर हाईकोर्ट जाएंगे और अपना पक्ष रखेंगे।

25 हजार के 10 इनामी आरोपी भी फरार

पुलिस इस मामले में जेल में बंद सभी आरोपियों के खिलाफ कई केसों में चार्जशीट दाखिल कर चुकी है। पुलिस की केस डायरी में 38 आरोपियों के नाम हैं। इनमें से 10 पर 25 हजार का इनाम भी घोषित है। इसके बावजूद अभी कई आरोपी पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं।

आठ माह से धरना जारी, पुलिस आयुक्त से करेंगे मुलाकात

बाइक बोट के कोट गांव स्थित दफ्तर पर धरने पर बैठे निवेशक मुन्ना फौजी का कहना है कि वह एक जून से धरना दे रहे हैं। आठ माह बाद भी कई आरोपी फरार हैं। आरोपियों की संपत्ति जब्त नहीं की गई और न ही नए कानून के अंतर्गत कार्रवाई की गई। ये मांग जब तक पूरी नहीं हो जातीं तब तक धरना जारी रहेगा। इस मामले को लेकर जल्द पुलिस आयुक्त से मिलेंगे।

Deepak Raj

Deepak Raj

Next Story