×

गणतंत्र दिवस पर महाराष्ट्र के लोगों को उद्धव सरकार का बड़ा तोहफा

ग्राहकों को हर थाली पर सिर्फ दस रुपये देना होगा। लेकिन भोजन की वास्तविक कीमत शहरी केंद्रों में 50 रुपये प्रति थाली और ग्रामीण क्षेत्रों में 35 रुपये प्रति थाली पड़ेगी। शेष राशि को अनुदान के तौर पर जिला कलेक्टरेट को दिया जाएगा।

Shivakant Shukla

Shivakant ShuklaBy Shivakant Shukla

Published on 26 Jan 2020 8:03 AM GMT

गणतंत्र दिवस पर महाराष्ट्र के लोगों को उद्धव सरकार का बड़ा तोहफा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

मुंबई: देश में 71वां गणतंत्र दिवस बड़े ही धूमधाम से मनाया जा रहा है। इस मौके पर महाराष्ट्र के लोगों को बड़ा तोहफा मिला है। महाराष्ट्र में 26 जनवरी यानी आज से गरीब और जरूरतमंद लोगों को सिर्फ 10 रूपए में खाना मिलेगा। सीएम उद्धव ठाकरे की सरकार ने 'शिव भोजना' योजना को पूरे राज्य में आज से लागू कर दिया है।

बता दें कि इस योजना को सरकार ने पिछले महीने मंजूरी दी थी। फिलहाल महाराष्ट्र में 125 सेंटर्स पर 'शिव भोजन' योजना की शरुआत की गई है। 10 रुपये की थाली के लिए सरकार 40 रुपये का अनुदान देगी।

ये भी पढ़ें—71वें गणतंत्र दिवस के मौके पर विधानसभा के सामने निकली गणतंत्र दिवस परेड, देखें तस्वीरें

मुंबई में नायर, केईएम, सायन अस्पताल और धारावी महिला बचत गट में ये योजना शुरू कर दी गई है। कांग्रेस नेता और मुंबई के पालक मंत्री असलम शेख ने इस योजना की यहां शुरुआत की।

खाने में क्या-क्या मिलेगा

‘शिव भोजन’ योजना के तहत राज्य सरकार पायलट परियोजना शुरू करने के लिए 6.4 करोड़ रुपये खर्च करेगी, जो तीन महीने तक चलेगी। पायलट प्रोजेक्ट के तहत हर जिला मुख्यालय में कम से कम एक ‘शिव भोजन’ कैंटीन शुरू किया जाएगा।

ये भी पढ़ें—झंडारोहण में चले थप्पड़: कांग्रेसी नेताओं में दे-दनादन, CM के सुरक्षाकर्मियों ने खदेड़ा

'शिव भोजन' थाली में दो चपाती, एक सब्जी, चावल और दाल होगा। भोजन परोसने वाली कैंटीन दोपहर 12 बजे से दो बजे तक खुलेगी। कहा जा रहा है कि बाद में राज्य के दूसरे हिस्सों में इस योजना का विस्तार किया जाएगा।

हर थाली पर सिर्फ दस रुपये देना होगा

ग्राहकों को हर थाली पर सिर्फ दस रुपये देना होगा। लेकिन भोजन की वास्तविक कीमत शहरी केंद्रों में 50 रुपये प्रति थाली और ग्रामीण क्षेत्रों में 35 रुपये प्रति थाली पड़ेगी। शेष राशि को अनुदान के तौर पर जिला कलेक्टरेट को दिया जाएगा।

Shivakant Shukla

Shivakant Shukla

Next Story