भारत में फंसे NRI की मदद को आगे आई सरकार, दी टैक्स में छूट

सरकार ने साफ़ कहा कि ये राहत उन लोगों के लिए है जो भारत यात्रा पर आए थे, लेकिन कोरोनावायरस के कारण लगाये गये लॉकडाउन के चलते देश नहीं छोड़ पाए।

नई दिल्ली:   पूरे देश में पिछले कुछ समय कोरोना वायरस का आतंक लगातार जारी है। देश में कोरोना को लेकर अब कई तरह की समस्याएं सामने आ रही हैं। ऐसे में सरकार लगातार अपनी तरफ से लगातार लोगों को सहायत प्रदान कर रही है। एक बार फिर केंद्र सरकार मदद के लिए आगे आई है। अब सरकार ने देश में कोरोना वायरस के चलते एनआरआई लोगों को टैक्स में छूट देने का फैसला किया है। सरकार का कहना है कि जो विदेश से भारत आए एनआरआई कोरोना संकट के चलते देश में लागू लॉकडाउन की वजह से देश से वापस नहीं जा पाएंगे उन्हें टैक्स में छूट दी जायेगी। केंद्र ने कहा कि भारत में लॉकडाउन और क्वारंटाइंड की अवधि को वित्त वर्ष 2019-20 के लिए आवासीय स्थिति के निर्धारण के लिए गिना नहीं जाएगा।

NRI को टैक्स में छूट

सरकार ने एनआरआई लोगों की मदद करते हुए साफ़ कहा कि ये राहत उन लोगों के लिए है जो भारत यात्रा पर आए थे, लेकिन कोरोनावायरस के कारण लगाये गये लॉकडाउन के चलते देश नहीं छोड़ पाए। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड ने एक परिपत्र में कहा कि जैसा कि चिंता व्यक्त की गई थी कि देश में लंबे समय तक रहना उन्हें आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 6 के तहत भारत का निवासी बना सकता है इसलिए इस मामले में विभिन्न अभ्यावेदन के बाद यह निर्णय लिया गया है।

ये भी पढ़ें-    ममता के खिलाफ एक सुर में शाह-कांग्रेस, इस मुद्दे पर बंगाल सरकार को घेरा

सरकार द्वारा देश में जारी कोरोना वायरस के गहरे प्रकोप को देखते हुए इन एनआरआई लोगों को ये राहत प्रदान की गई है। जबकि जाहिर है कि सरकार खुद इस समय आर्थिक संकट से जूझ रही है। जिसके चलते सरकार ने अपने उधारी बजट में बढ़ोत्तरी की है। ऐसे में सरकार को टैक्स लेना चाहिए लेकिन सरकार अपनी जिम्मेदारी को निभाते हुए एनआरआइयों को टैक्स में छोट दे रही।

इन्हें मिलेगी छूट

सरकार द्वारा ये छूट सभी एनआरआई लोगों को नहीं दी जाएगी। सरकार द्वारा ये छूट सिर्फ कुछ शर्तों को पूरा करते हुए निम्न लोगों को दी जायेगी। ये छूट उन्हें मिलेगी जो-

> जो लोग 31 मार्च, 2020 को या उससे पहले भारत छोड़ने में असमर्थ रहे हैं. भारत में उनकी 22 मार्च 2020 से 31 मार्च 2020 तक रहने की अवधि को गिना नहीं जाएगा।

> जिन लोगों को 1 मार्च, 2020 को या उसके बाद नोवेल कोरोना वायरस के कारण भारत में क्वारंटाइंड किया गया है और वे मार्च 31, 2020 को या उससे पहले निकासी

ये भी पढ़ें-   कोरोना के खिलाफ जंग को लगा तगड़ा झटका, यहां डॉक्टर कर रहे जांच में लापरवाही

उड़ानों पर प्रस्थान कर चुके हैं। क्वारंटाइन शुरू होने की तिथि से 31 मार्च को प्रस्थान की तारीख तक के भारत में निवास की अवधि को गिना नहीं जाएगा।

> जो लोग 31 मार्च, 2020 को या उससे पहले एक निकासी फ्लाइट से रवाना हुए थे। 22 मार्च, 2020 से उनके प्रस्थान करने की उनकी अवधि तक भारत में उनके निवास की तारीख को गणना में नहीं लिया जाएगा।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App