Top

हरिद्वार महाकुंभ: शाही स्नान की तारीखों का ऐलान, इस दिन लगाई जायेगी गंगा में डुबकी

प्रयागराज में संगम महाकुंभ के बाद अब हरिद्वार महाकुम्भ के लिए तैयारी शुरू कर दी गयी है। इस महाकुंभ में शाही स्नान की तिथियों को जारी कर दिया गया है।

Shivani Awasthi

Shivani AwasthiBy Shivani Awasthi

Published on 10 Feb 2020 10:49 AM GMT

हरिद्वार महाकुंभ: शाही स्नान की तारीखों का ऐलान, इस दिन लगाई जायेगी गंगा में डुबकी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

हरिद्वार: प्रयागराज में संगम महाकुंभ के बाद अब हरिद्वार महाकुम्भ के लिए तैयारी शुरू कर दी गयी है। इस महाकुंभ में शाही स्नान की तिथियों को जारी कर दिया गया है। दरअसल, अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरि, महामंत्री हरिगिरि, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत और शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने मिल कर शाही स्नान की तिथियां घोषित कीं। तय हुआ कि महाकुंभ का पहला शाही स्नान 11 मार्च को महाशिवरात्रि पर होगा।

कब और कहां आयोजित होगा अगला महाकुंभ:

महाकुंभ पावन नगरी हरिद्वार में साल 2021 में आयोजित होना है। इसके लिए अखाड़ा परिषद, संतों और उतराखंड के मुख्यमंत्री ने तारीख की घोषणा कर दी है।

-पहला शाही स्नान 11 मार्च 2021 को आयोजित होगा। उस दिन महाशिवरात्रि भी है।

-वहीं दूसरा शाही स्नान 12 अप्रैल को सोमवती अमावस्या को होगा।

-14 अप्रैल को बैसाखी मेष पूर्णिमा में श्रद्धालु आस्था की डुबकी लगायेंगे।

ये भी पढ़ें: भगवान विष्णु ने बसाई थी अयोध्या!

-चौथा और आखिरी शाही स्नान 27 अप्रैल को चैत्र पूर्णिमा पर होगा।

गंगा सभा की ओर से होने वाले मुख्य स्नानों की तारीखों की भी घोषणा:

इसके अलावा गंगा सभा की ओर से होने वाले मुख्य स्नानों की तिथियां भी इस दौरान घोषित की गईं। इसका सभी संतों और अधिकारियों ने तालियां बजाकर स्वागत किया।

14 जनवरी - मकर संक्रांति

11 फरवरी -मौनी अमावस्या

ये भी पढ़ें: अपने ही देश में इस जगह जाने की इजाजत नहीं हैं भारतीय पुरुषों को

13 फरवरी - वसंत पंचमी

27 फरवरी -माघ पूर्णिमा

13 अप्रैल - नव संवत्सर

त्रिवेंद्र सिंह रावत सरकार से नाराज दिखे संत:

कुंभ मेले की तैयारियों में सरकार और अधिकारियों की हीलाहवाली और कामों में धीमी गति को लेकर भी अखाडा पार्षद के संतों का गुस्सा बैठक में देखने को मिला।

संतो ने प्रदेश सरकार और अफसरों पर उनके साथ बेरुखी से बर्ताव करने का भी आरोप लगाया। हालाँकि मुख्यमंत्री ने संतों को आश्वासन दिया कि प्रयागराज की तरह यहां भी उन्हें समुचित सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी।

ये भी पढ़ें: इतिहास का काला सच! बैरागी बेटे ने अवैध संबंधों से किया इंकार तो कातिल बन गई मां

Shivani Awasthi

Shivani Awasthi

Next Story