विमान सेवाओं में पहले दिन भारी अव्यवस्था, बगैर सूचना के कई फ्लाइट्स कैंसिल

विमान सेवाओं को शुरू करने का फैसला केंद्र की ओर से राज्य सरकारों पर छोड़ दिया गया था। इस कारण विमान सीमाओं पर काफी असर पड़ा। एक अधिकारी का कहना है कि इसी कारण बड़ी संख्या में फ्लाइट्स या तो रद्द करनी पड़ीं या वे लेट हो गईं।

अंशुमान तिवारी

नई दिल्ली। करीब दो महीने की बंदी के बाद शुरू हुई घरेलू विमान सेवाओं में पहले दिन भारी अव्यवस्थाएं दिखीं। कई यात्रियों की शिकायत थी कि बिना किसी सूचना के फ्लाइट कैंसिल कर दी गई जिसके कारण उन्हें काफी दिक्कत हुई पड़ी। इस बाबत न तो फोन से सूचना दी गई और न कोई एसएमएस आया। ऑनलाइन भी फ्लाइट कैंसिल होने की कोई सूचना नहीं दी गई थी। यात्रा न कर पाने के कारण कई यात्री काफी निराश दिखे।

राज्यों पर फैसला छोड़ने का दिखा असर

विमान सेवाओं को शुरू करने का फैसला केंद्र की ओर से राज्य सरकारों पर छोड़ दिया गया था। इस कारण विमान सीमाओं पर काफी असर पड़ा। एक अधिकारी का कहना है कि इसी कारण बड़ी संख्या में फ्लाइट्स या तो रद्द करनी पड़ीं या वे लेट हो गईं। अधिकारी ने बताया कि दिक्कत का सबसे बड़ा कारण यह है कि कई राज्यों ने फ्लाइट की अनुमति देने से इनकार कर दिया है। अधिकारी ने कहा कि अनुमति न मिलने के कारण पश्चिम बंगाल की सभी फ्लाइट्स रद्द कर दी गईं। कुछ और राज्यों की ओर उड़ान भरने वाली विमान सेवाओं के साथ भी ऐसा ही हुआ है।

यात्रियों की कम संख्या भी बड़ा कारण

एयर इंडिया से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि ऐसी फ्लाइट्स भी रद्द कर दी गई हैं जिनमें जाने वालों की संख्या काफी कम थी। अधिकारी ने बताया कि कई विमानों में टिकट ही नहीं बुक हुए या फिर टिकट बुक कराने वाले लोग समझ से एयरपोर्ट पर नहीं पहुंचे। अधिकारियों ने दावा किया कि इसी कारण अधिकतर फ्लाइट्स लेट हुई हैं। अधिकारी का कहना है कि हैदराबाद से लेकर मुंबई तक विमानों में यात्रा करने वाले यात्रियों की संख्या काफी कम है और इसी कारण विमान सेवाओं को अब कम्बाइन किया जा रहा है। अधिकारी का कहना है की विभिन्न कारणों से विमान सेवाओं पर असर पड़ा है।

ये भी पढ़ेंः लाॅकडाउन में हवाई यात्रा, किराया है इतना सस्ता, जानिए पूरी डिटेल्स

नहीं दी गई फ्लाइट्स रद्द होने की सूचना

दिल्ली से रांची की फ्लाइट पकड़ने पहुंचे मोहम्मद इमरान को एयरपोर्ट पर पहुंचने के बाद यह सूचना दी गई कि उनकी फ्लाइट कैंसिल हो गई है। इमरान का कहना है कि इस बाबत उनके पास न तो कोई एसएमएस आया और न फोन से कोई सूचना दी गई। ऑनलाइन चेक करने पर भी फ्लाइट कैंसिल नहीं दिख रही थी। इसी तरह फ्लाइट पकड़ने पहुंचे एक और यात्री दीपेश गुरुंग कहना है कि उन्हें दार्जिलिंग की फ्लाइट पकड़नी थी मगर फ्लाइट कैंसिल होने के बारे में कोई सूचना नहीं दी गई।

एयरपोर्ट पर दिखा सुरक्षा का लंबा तामझाम

वैसे पूरे देश में कोरोना संकट के कारण एयरपोर्ट पर सुरक्षा का लंबा तामझाम दिखा। विमान यात्रियों को गाइडलाइन के बारे में जानकारी देने के लिए कर्मचारियों की भी तैनाती की गई थी। एयरपोर्ट के अंदर जाने से पहले यात्रियों का लगेज सैनीटाइज किया गया। लाउडस्पीकर से एनाउंसमेंट के जरिए यात्रियों को सोशल डिस्टेंसिंग का सख्ती से पालन करने का संदेश प्रसारित किया गया।

ये भी पढ़ेंः इन दो राज्यों को छोड़ पूरे देश में हवाई यात्रा शुरू, जानिए क्या है नियम

वैसे यात्री भी इस बाबत काफी सतर्क थे और वे चेहरों पर मास्क और हाथों में ग्लव्स पहने हुए थे। तमाम विमान यात्री फ्लाइट के समय से काफी पहले ही है एयरपोर्ट पर पहुंच गए थे। पूरे माहौल पर कोरोना संकट का भारी असर दिख रहा था। एयरपोर्ट पर मास्क, शील्ड और पीपीई किट बेचने वाले काउंटर पर यात्रियों की सबसे ज्यादा भीड़ दिखी।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।