लो यहां भी चला हिन्दू-मुस्लिम का खेल, ट्रेंड पर रहा BoycottRedLabel

सोशल मीडिया पर रेड लेबल के एक साल पुराना विज्ञापन ट्रोल हो रहा है। ट्रोल हो रहा ये विज्ञापन विवाद हिंदुस्तान यूनिलीवर की रेड लेबल चाय पत्ती के विज्ञापन के लिए है।

Red label ad.

Red label ad.

नई दिल्ली : धार्मिकता को विषय बनाने के संबंध में सोशल मीडिया पर बीच-बीच में कोई न कोई कंपनी ट्रोल होती रहती है। कुछ दिन पहले होली के समय एक विज्ञापन आया था जिसमें कुछ बच्चे रंग खेलते नजर आ रहे थे और फिर मुस्लिम बच्चों को विज्ञापन में शामिल किया जाता है। ऐसे ही हलाल मीट परोसने को लेकर मैकडॉनल्ड्स, पर भड़क गए थे, और उसे ट्विटर पर ट्रोल कर रहे थे। इसी के साथ फेमस जोमैटो और सर्फ एक्सेल को लेकर भी धर्म के नाम पर ट्रोल कर चुके हैं।

यह भी देखें… मध्य प्रदेश में अभी नए यातायात नियम नहीं होंगे लागू, संशोधन करेगी राज्य सरकार

रेड लेबल चाय पत्ती

लेकिन धार्मिकता को एक बार फिर से आधार बनाया गया है। इस बार ये मामला कुछ अलग है। सोशल मीडिया पर रेड लेबल के एक साल पुराना विज्ञापन ट्रोल हो रहा है। ट्रोल हो रहा ये विज्ञापन विवाद हिंदुस्तान यूनिलीवर की रेड लेबल चाय पत्ती के विज्ञापन के लिए है।

ट्रोल हो रहे इस विज्ञापन में एक व्यक्ति जो हिंदू है वो एक कारीगर से गणेश की मूर्ति खरीदने को इसी लिए तैयार नहीं हो रहा क्योंकि कारीगर मुस्लिम है। फिर कारीगर उस व्यक्ति को चाय पीने के लिए कहता है।

यह भी देखें… अनुच्छेद 370 और 35ए देश के एकीकरण में बाधा था: अमित शाह

लेकिन चाय के लिए पूछने के बाद वो व्यक्ति हिचकता है और कहता है, ‘आज कुछ काम है, मैं कल आता हूं।’ इस पर मुस्लिम कारीगर कहता है कि भाईजान, चाय तो पीते जाओ। चाय पीने के दौरान ही फिर दोनों की अच्छी ताल-मेल हो जाती है। और मूर्ति खरीदने वाला व्यक्ति भगवान गणेश की मूर्ति खरीद लेता है।

आपको बता दें कि रेड लेबल के इस विज्ञापन में हिंदू और मुस्लिम के एकता दिखाने की कोशिश की गई है। लेकिन सोशल मीडिया पर कई यूजर्स को ये पसंद नहीं आ रहा।

सोशल मीडिया पर लोग #BoycottRedLabel के साथ जमकर ट्वीट कर रहे हैं। जिसकी वजह से ये हैशटैग पूरे इंडिया में टॉप ट्रेंड कर रहा है।

यह भी देखें… कश्मीर पर अमेरिका ने दिया बड़ा बयान, जानिए क्या कहा

इस विज्ञापन को लेकर यूजर्स का कहना है कि विज्ञापन में हिंदू समाज की भावनाओं को आहत किया है। ट्रोलर्स ने कंपनी के इस विज्ञापन को हिंदू विरोधी करार देते हुए रेड लेबल टी के बॉयकॉट करने का कैंपेन चलाया है।