हिंदी दिवस 2019: सबसे जुदा और सबसे अलग है हमारी मातृभाषा  

हिंदी भाषा को लेकर हर साल 14 सितंबर 2019 को पूरे देश में हिंदी दिवस मनाया जाएगा। हिंदी दिवस को मनाने के पीछ सबसे बड़ा कारण यह भी है कि आज के मॉर्डन लाइफस्टाइल पर इंग्लिश का कब्जा बढ़ता जा रहा है। हमारा समाज दिन पर दिन बदल रहा है और इस बदलते हुए समाज में हिंदी की महत्व कहीं न कहीं खत्म होती जा रही है।

नई दिल्ली: भाषा एक मध्यम है जिससे हम अपनी बातें एक दुसरे तक पहुंचाते हैं । भाषा चाहे कोई भी हो देश के चाहे किसी भी कोने में बोली जा रही हो अपने आप में सम्पूर्ण होती है । हमारे देश भारत में कुल कितनी भाषा बोली जाती हैं इसको बता पाना बहुत ही मुश्किल है।

ये भी देखें : पहली रिकॉर्डिंग सुपरस्टार के जीवन का ये रहस्य, जिसके सदमे ने बना दी जिंदगी

क्योंकि यहां पर अनेक भाषाएं ऐसी बोली जाती हैं जिनमें बहुत ही कम अंतर है और इस अंतर के कारण उन्हें एक भाषा माना जाए या दो या तीन, यह कहना बहुत ही मुश्किल होता है । 2011 की जनगणना के अनुसार, भारत में लगभग 122 भाषाएं हैं, जिनमें से 22 भाषाएं भारतीय संविधान के आठवीं अनुसूची में भारतीय गणराज्य की आधिकारिक भाषा के रूप में सूचीबद्ध हैं।

विदेशी भाषा अंग्रेजी की उपयोगिता बढ़ने के कारण…

हिंदी भाषा को लेकर हर साल 14 सितंबर 2019 को पूरे देश में हिंदी दिवस मनाया जाएगा। हिंदी दिवस को मनाने के पीछ सबसे बड़ा कारण यह भी है कि आज के मॉर्डन लाइफस्टाइल पर इंग्लिश का कब्जा बढ़ता जा रहा है। हमारा समाज दिन पर दिन बदल रहा है और इस बदलते हुए समाज में हिंदी की महत्व कहीं न कहीं खत्म होती जा रही है।

लोग हिंदी बोलने वाले को कम पढ़े लिखे समझते हैं साथ ही इंग्लिश बोलना आज के समय में फैशन या यू कहे ट्रेंड सा बन गया है।

लोगों की मानसिकता ही ऐसी बन गई है कि आप कितनी भी अच्छी हिंदी बोलते हैं लेकिन आपको इंग्लिश नहीं आती है तो आप अनपढ़ ही समझे जाते हैं। हिंदी दिवस के मौके पर आपको हिंदी भाषा को लेकर कुछ दिलचस्प बातें बताने जा रहे हैं।

ये भी देखें : एक्ट्रेस का करियर चौपट: तो इस वजह से चली गयी बड़ी-बड़ी फिल्में

संयुक्त अरब अमीरात में मान्यता प्राप्त अल्पसंख्यक भाषा है

आपको बता दें कि हिंदी भाषा भारत की आधिकारिक भाषा और संयुक्त अरब अमीरात में मान्यता प्राप्त अल्पसंख्यक भाषा है। जो भारत में लगभग 4.25 करोड़ लोगों की पहली भाषा हिंदी है और करीब 12 करोड़ लोगों की दूसरी भाषा हिंदी है। हिंदी का नाम फारसी शब्द “हिंद” से लिया गया है, जिसका अर्थ है “सिंधु नदी की भूमि।