हिंदू रक्षा दल के कार्यकर्ताओं ने की JNU हिंसा, कहा- दोबारा भी ऐसे ही देंगे जवाब

जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय (JNU Violence) में रविवार देर शाम हुई हिंसा को लेकर अब हिंदू रक्षा दल ने इसकी जिम्मेदारी ली है। उन्होंने इस बारे में बताया कि मारपीट उन्हीं के कार्यकर्ताओं ने की है। वहीं उन्होंने आगे भी ऐसी कार्रवाई करने की चेतावनी दी।

दिल्ली: जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय (JNU Violence) में रविवार देर शाम हुई हिंसा को लेकर अब हिंदू रक्षा दल ने इसकी जिम्मेदारी ली है। उन्होंने इस बारे में बताया कि मारपीट उन्हीं के कार्यकर्ताओं ने की है। वहीं उन्होंने आगे भी ऐसी कार्रवाई करने की चेतावनी दी। इतना ही नहीं बाकी यूनिवर्सिटी में भी ऐसी ही कार्रवाई करने का ऐलान किया।

 हिंदू रक्षा दल ने ली हिंसा की जिम्मेदारी:

जेएनयू विवाद को लेकर दिल्ली पुलिस ने सोमवार को अज्ञात लोगों के खिलाफ दंगा भड़काने और संपत्ति को नुकसान पहुंचाने का केस दर्ज किया है। जिसके बाद हिन्दू रक्षा दल ने इस हिंसा की जिम्मेदारी लेते हुए कहा कि जेएनयू में रविवार को हुई मारपीट उन्हीं के कार्यकर्ताओं ने की है।

ये भी पढ़ें: JNU हिंसा: लड़कियों को ऐसी-ऐसी जगह मारा…, ABVP का बड़ा आरोप

दरअसल, हिन्दू रक्षा दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष पिंकी चौधरी ने एक वीडियो जारी किया, जिसमें उन्होने कहा कि छात्रों की पिटाई करने वाले उनके कार्यकर्ता थे। उन्होंने कहा कि जेएनयू में देश विरोधी गतिविधियां होती हैं जोकि उन्हें बर्दाश्त नहीं है।

वहीं उन्होंने चेतावनी दी कि अगर कोई देश के खिलाफ साजिश रचेगा तो वो उसी तरह जवाब देंगे, जिस तरह रविवार को जेएनयू में दिया गया। इसके साथ उन्होंने कहा कि किसी ने देश विरोधी गतिविधियां करने की कोशिश की तो ऐसी ही कार्रवाई बाकी की यूनिवर्सिटी में भी करवाएंगे। हालांकि अभी यह सिर्फ हिन्दू रक्षा दल का दावा है, इस मामले में पुलिस को कोई भी साक्ष्य नहीं मिले हैं।

यह भी पढ़ें…दिल्ली विधानसभा चुनाव की तारीख का ऐलान: 8 फरवरी को वोटिंग और 11 को नतीजे

छात्राओं ने छोड़ा कैंपस:

वहीं इस हिंसा के बाद कई छात्राएं सुरक्षा के डर से सोमवार को परिसर छोड़ कर जाने लगीं। कुछ अपने घर लौट गईं। उन्हें छात्रावास से अपने बैग लेकर बाहर निकलते देखा गया। दक्षिणी दिल्ली स्थित विश्वविद्यालय परिसर से बाहर निकल रही कई छात्राओं ने नाम गोपनीय रखने का आग्रह किया और कहा कि उनके परिजन रविवार को हुई हिंसा के बाद उनकी सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं।

फ़ाइल फोटो

क्या है मामला:

गौरतलब है कि जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में दो छात्र गुटों में झड़प हो गई। दरअसल, देर रात लाठियों से लैस कुछ नकाबपोश उपद्रवी परिसर के अंदर घूम रहे थे और वहां संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के साथ लोगों पर हमले कर रहे थे। जिसके बाद कानून व्यवस्था बनाये रखने के लिए पुलिस को बुलाना पड़ा।

यह भी पढ़ें…JNU हिंसा पर राजनीति! इन नेताओं ने उठाये सवाल, केंद्र सरकार पर साधा निशाना