मणिपुर में ब्लास्ट: धमाके से हिल गया शहर, सुरक्षाबलों ने पूरे इलाके को घेरा

मणिपुर की राजधानी इंफाल के नागमपाल रिम्स रोड पर आज सुबह तेज धमाका हो गया। धमाके के बाद क्षेत्र में हड़कंप मच गया। विस्फोट की आवाज सुन लोग घरों से निकल आये।

Published by Shivani Awasthi Published: January 23, 2020 | 8:55 am
Modified: January 23, 2020 | 9:04 am

IED blast occurred at Imphal West in manipur

इंफाल: भारत के मणिपुर (Manipur) में तेज धमाके की गूंज से पूरा इलाका दहल गया। इलाके को सुरक्षाबलों को घेर लिया और जांच शुरू कर दी। बता दें कि जांच में पता चला है कि ये धमाका आईईडी ब्लास्ट (IED Blast) से हुआ था। किसी की जान माल के नुकसान की कोई सूचना अब तक नहीं मिला है। सुरक्षाबल ब्लास्ट की जांच में जुट गये हैं।

इंफाल में IED ब्लास्ट:

मामला मणिपुर की राजधानी इंफाल का है, जहां नागमपाल रिम्स रोड पर आज सुबह तेज धमाका हो गया। धमाके के बाद क्षेत्र में हड़कंप मच गया। विस्फोट की आवाज सुन लोग घरों से निकल आये। आनन फानन पर पुलिस बल और सेना मौके पर पहुंच गयी। ब्लास्ट की खबर पर सुरक्षाबलों ने पूरे इलाके को घेर लिया और जांच शुरू कर दी।

जांच में लगा सुरक्षा बल:

जांच में पता चला कि धमाका इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (आईईडी) ब्लास्ट हुआ है। इस ब्लास्ट में कितने लोगों की जानमाल को नुकसान हुआ है, इसकी जानकारी अब तक नहीं मिल सकी है। स्थानीय लोगों के मुताबिक़, धमाका इतना तेज था कि लोग उठ गए और घरों से बाहर निकल आए। बहरहाल सुरक्षाबल ब्लास्ट की जांच की जा रही है। इस बात की भी जांच की जा रही है कि धमाके के पीछे किसका हाथ है।

ये भी पढ़ें:CAA और कश्मीर पर विरोध करने वाले इस मुस्लिम देश पर भारत ने की कड़ी कार्रवाई

पहले भी हो चुके ब्लास्ट:

बता दें कि इससे पहले पिछले साल नवंबर में भी राजधानी इंफाल के थंगल बाजार में IED ब्लास्ट हुआ था। इस धमाके में चार पुलिसकर्मी और एक नागरिक गंभीर रुप से घायल हो गये थे। गौरतलब है कि उत्तर-पूर्वी राज्यों में मणिपुर में उग्रवाद अपने चरम पर है। हालांकि, सुरक्षा बल और पुलिस कर्मी यहां काफई सक्रिए रहते है इसी कारण यहां की स्थिति सामान्य बनीं रहती है। लेकिन फिर भी आए जिन कोई ना कोई उग्रवादी संगठन राज्य में अपनी पकड़ को मजबूत करने के लिए आए दिन पैर पसारने की कोशिश करता रहता है।

ये भी पढ़ें:केंद्र सरकार की सुप्रीम कोर्ट से मांग, सजा के बाद 7 दिन में हो दोषी को फांसी