CAA और कश्मीर पर विरोध करने वाले इस मुस्लिम देश पर भारत ने की कड़ी कार्रवाई

कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने और नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ बयान देने वाले मलेशिया पर भारत ने कड़ी कार्रवाई की है। भारत ने मलेशिया से पाम तेल के आयात पर रोक लगा दी है।

नई दिल्ली: कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने और नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ बयान देने वाले मलेशिया पर भारत ने कड़ी कार्रवाई की है। भारत ने मलेशिया से पाम तेल के आयात पर रोक लगा दी है। इसके अलावा माइक्रो प्रोसेसर और कंप्यूटर पार्ट्स के आयात पर भी रोक लगाई है।

दरअसल, भारत ने ये कदम तब उठाया है, जब मलेशिया के प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद कश्मीर मुद्दे से लेकर नागरिकता कानून को लेकर भारत की तीखी आलोचना की है। महातिर ने नागरिकता कानून पर कहा था कि यह पूरी तरह से अनुचित है। इसके अलावा विवादित इस्लामिक धर्मगुरु जाकिर नाइक को शेल्टर देने से भी भारत नाराज है।

यह भी पढ़ें…केंद्र सरकार की सुप्रीम कोर्ट से मांग, सजा के बाद 7 दिन में हो दोषी को फांसी

जम्मू-कश्मीर पर मलेशिया का बयान भारत के लिए एक तरह से बड़ा झटका था, क्योंकि भारत और मलेशिया के बीच बड़े पैमाने पर व्यापार होता है। साल 2019 में मलेशिया के पाम तेल का भारत सबसे बड़ा खरीदार था। पिछले साल भारत ने मलेशिया से 40.4 लाख टन पाम तेल खरीदा था।

यह भी पढ़ें…CAA प्रदर्शन पर CM योगी का तीखा हमला, कहा- रजाई में सो रहे पुरुष, चौराहे पर महिलाएं

इंडोनेशिया के बाद मलेशिया दुनिया का दूसरा बड़ा पाम तेल उत्पादक और निर्यातक देश है, लेकिन अब भारत ने पाम तेल की खरीदारी मलेशिया से बंद करने का फैसला किया है। भारत ने मलेशिया के बजाय अब इंडोनेशिया पाम ऑयल लेने का फैसला किया है। हालांकि पिछले हफ्ते मलेशियाई सरकार भारत से सुलह के लिए बातचीत की पहल कर रही थी।

यह भी पढ़ें…एटलस साइकिल कंपनी की मालकिन ने उठाया ये खौफनाक कदम, मचा हड़कंप

पहले भारत में पाम ऑयल का सबसे बड़ा सप्लायर इंडोनेशिया था, लेकिन रिफाइंड पाम ऑयल पर टैक्स घटाकर मलेशिया 2019 में सबसे बड़ा सप्लायर बन गया। मलेशिया के लिए पाम ऑयल कारोबार इसलिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि इसका वहां की GDP में 2.5 फीसदी और कुल निर्यात में 4.5 फीसदी हिस्सा है।