भारत में आएगी भयंकर तबाही! अगर हो गया ऐसा तो मच जाएगा हाहाकार

भारत देश में कई ऐसे बांध हैं जिनमें अपार जल का भंड़ार है। वैसे तो ये बांध देश के लिये बहुत ही लाभकारी हैं। इनसे बिजली उत्पादन, सिंचाई जैसे कार्य संपन्न होते हैं। इन बांधों के जितने फायदे हैं उतने ही नुकसान भी। लेकिन अगर ये बांध गलती से भी टूट जाएं तो भारी तबाही ला सकते हैं।

नई दिल्ली: भारत देश में कई ऐसे बांध हैं जिनमें अपार जल का भंड़ार है। वैसे तो ये बांध देश के लिये बहुत ही लाभकारी हैं। इनसे बिजली उत्पादन, सिंचाई जैसे कार्य संपन्न होते हैं। इन बांधों के जितने फायदे हैं उतने ही नुकसान भी। लेकिन अगर ये बांध गलती से भी टूट जाएं तो भारी तबाही ला सकते हैं। आज हम भारत के कुछ ऐसे बांधों के बारे में बताने जा रहे हैं जो दुनिया के सबसे खतरनाक बांधों में माने जाते हैं।

(1.) उत्तराखंड का टिहरी बांध-

उत्तराखंड का टिहरी बांध भागीरथी नदी पर है। यह भारत का सबसे ऊँचा तथा विशालकाय बांध है। यह भागीरथी नदी पर 260.5 मीटर की उँचाई पर बना है। यह माना जाता है कि जिस दिन यहां 9 एम.एम. तीव्रता का भूकम्प आयेगा उस दिन यह बांध टूट सकता है और इससे पूरा देश खतरे में आ सकता है। जब इस बांध का निर्माण हो रहा था, तब यह सवाल सभी वैज्ञानिकों के दिमाग में आया कि यदि यह बांध टूटता है तो इससे क्या प्रभाव होगा?

ये भी पढ़ें—शिवभक्त अमरनाथ जाने के लिए हो जाएं तैयार, आ गई तारीख

हर तरफ हो जाएगा पानी ही पानी

एक वैज्ञानिक ने अपनी किताब में लिखा है कि यदि यह बांध टूटा तो इससे जो तबाही मचेगी, उसकी कल्पना करना भी कठिन है। इस बांध के टूटने के बाद पूरा आर्यावर्त और उसकी सभ्यता नष्ट हो सकती है। इसके प्रभाव से प. बंगाल मेरठ, हापुड़, बुलन्दशहर में लगभग 8 से 10 मीटर तक पानी भर जाएगा। हरिद्वार व ऋषिकेश का तो नामोनिशां तक नही रहेगा।

(2.) भाखड़ा नांगल बांध-

यह बांध पंजाब और हरियाणा की बॉर्डर पर बना बहुत बड़ा बांध हैं। यहां करीब 1300 मेगावाट बिजली उत्पादन तो होता ही है और साथ ही पंजाब व हरियाणा के लगभग आधे से ज्यादा खेती की सिंचाई होती है। अधिकांश लोग यही सोचते हैं कि यह एक ही बांध है। लेकिन ये दो अलग-अलग बांध हैं और ये एक दूसरे से लगभग 10 किमी की दूरी पर बने हैं। इन दोनों बांधों का उद्देश्य एक ही है।

ये भी पढ़ें—हाफिज सईद पर पाकिस्तान का ये प्लान: FATF की बैठक के बाद लेगा बड़ा फैसला

दिखेगा तबाही का मंजर

इस बांध कुछ ऊँचाई पर बना हुआ है और नांगल बांध थोड़ा कम ऊँचाई पर है। यदि किसी कारणवश भाखड़ा बांध टूट जाए तो इसे नांगल बांध उसका पानी संभाल लेगा, लेकिन यदि दोनों ही बांध टूट जाएं तो इससे आधे से ज्यादा पंजाब और हरियाणा पानी में बहकर पाकिस्तान चला जायेगा। यह तो कुछ भी नहीं सबसे बड़ी तबाही तो पाकिस्तान में आएगी। वहां के लाखों लोग अपनी जिंदगी से हाथ धो सकते हैं।