ऑपरेशन कश्मीर: अब प्लेन से जाने वाले को लगा झटका, यहां जानें पूरा मामला

आज फ्लाइट्स का किराया सुबह कम था लेकिन जैसे-जैसे कश्मीर में 35 हजार जवानों की तैनाती की खबरें आने लगीं तो कश्मीर में भगदड़ सी मच गई है। एटीएम और पेट्रोल पंपों पर लंबी कतारें लगी हैं। फंसे हुए टूरिस्ट अचानक से श्रीनगर छोड़ कर दिल्ली आना चाह रहे हैं जिसका फायदा विमान कंपनिया उठा रही हैं।

नई दिल्ली: कश्मीर में इस समय माहौल को देखते हुए वहां से पलायन करने की सरकारी सलाह के बाद जम्मू-कश्मीर में टूरिस्टों में खलबली मच गई है जिसका फायदा विमानन कंपनियां पूरा उठा रही हैं। जिसमें श्रीनगर से दिल्ली आने वाली फ्लाइट्स की टिकटों के दाम बहुत ज्यादा बढ़ा दिए गए हैं।

ये भी देखें : उन्नाव कांड: CBI पहुँची ट्रामा सेंटर, नारी सम्मान समिति के लोगों ने दिया धरना

हम आपको बता दें की शुक्रवार को श्रीनगर से दिल्ली का किराया जहां 4 हजार रुपये के करीब था, वह शनिवार को बढ़कर 8 हजार और रविवार को यही किराया 20 हजार रुपये से भी ज्यादा हो गया है।

नीजी विमान कंपनी ‘गो एयर’ की श्रीनगर से दिल्ली आने वाली रविवार सुबह 11.10 बजे की फ्लाइट का किराया 18,289 रुपये तक पहुंच गया है तो वहीं विस्तारा फ्लाइट का रेट दोपहर 1.45 की 17,306 रुपये हो गया है।

‘स्पाइस जेट’ और ‘एयर एशिया’ के दाम भी 10 हजार रुपये से ज्यादा हैं जबकि अमूमन श्रीनगर से दिल्ली फ्लाइट के रेट 4 हजार रुपये के करीब होते हैं।

फंसे हुए टूरिस्ट अचानक से श्रीनगर छोड़ कर दिल्ली आना चाह रहे हैं जिसका फायदा विमान कंपनिया उठा रही हैं

वहीं, आज फ्लाइट्स का किराया सुबह कम था लेकिन जैसे-जैसे कश्मीर में 35 हजार जवानों की तैनाती की खबरें आने लगीं तो कश्मीर में भगदड़ सी मच गई है। एटीएम और पेट्रोल पंपों पर लंबी कतारें लगी हैं। फंसे हुए टूरिस्ट अचानक से श्रीनगर छोड़ कर दिल्ली आना चाह रहे हैं जिसका फायदा विमान कंपनिया उठा रही हैं।

हालांकि एयर इंडिया, इंडिगो और विस्तारा एयरलाइंस ने कैंसलेशन और रीशेड्यूलिंग जम्मू की उड़ानों के लिए चार्ज हटा लिए हैं।

ये भी देखें : जम्मू-कश्मीर: अमरनाथ के बाद अब इस माता की यात्रा पर भी लगी रोक, बढ़ाई सुरक्षा

वहीं, डीजीसीए ने कहा था कि वह श्रीनगर की फ्लाइट्स के टिकटों की कीमतों पर नजर रखेगी लेकिन  इसका असर नीजी विमान कंपनियों पर नहीं हो रहा है। नई फ्लाइट्स की बुकिंग पर नीजी विमानन कंपनिया जमकर फायदा उठा रही हैं।

बता दें कि इस साल 2 अगस्त तक 3 लाख 43 हज़ार 587 यात्रियों ने किए पवित्र अमरनाथ गुफा के दर्शन किए हैं। इससे पहले आतंकी खतरे के मद्देनजर जम्मू-कश्मीर प्रशासन की ओर एक एडवाइजरी जारी की गई थी।

घाटी में अपने ठहराव को कम करें और जितना जल्द हो सके वापस लौटने की कोशिश करें

इसमें लिखा था कि आतंकी खतरे, खास तौर पर अमरनाथ यात्रा को निशाना बनाने के खतरे पर खुफिया विभाग के ताजा इनपुट और कश्मीर घाटी के सुरक्षा हालात को ध्यान में रखते हुए अमरनाथ यात्रियों और पर्यटकों के हित में ये सलाह दी जाती है कि वो तुरंत घाटी में अपने ठहराव को कम करें और जितना जल्द हो सके वापस लौटने की कोशिश करें। इस एडवाइजरी के बाद प्रशासन ने अमरनाथ यात्रा पर जा रहे यात्रियों को वापस बुलाना शुरू कर दिया।