भारत की बड़ी जीत: यहां भी हार गया चीन, ड्रैगन के साथ कोई नहीं

लद्दाख में सीमा पर भारत और चीन के बीच तनाव चरम पर है। भारत के खिलाश साजिश रच रहे ड्रैगन हर झटका लद रहा है जिसके कारण वह बौखलाया हुआ है। भारत ने चीन को फिर तगड़ा झटका दिया है।

Published by Dharmendra kumar Published: September 15, 2020 | 9:11 am
Narendra Modi-Xijinping

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और भारत के पीएम नरेंद्र मोदी की फोटो(सोशल मीडिया)

 

नई दिल्ली: लद्दाख में सीमा पर भारत और चीन के बीच तनाव चरम पर है। भारत के खिलाश साजिश रच रहे ड्रैगन हर झटका लद रहा है जिसके कारण वह बौखलाया हुआ है। भारत ने चीन को फिर तगड़ा झटका दिया है। अब संयुक्त राष्ट्र(यूएन) में चीन की हार हुई है।

चीन को मात देकर आर्थिक और सामाजिक परिषद (ECOSOC) की संस्था यूनाइटेड नेशन के कमीशन ऑन स्टेटस ऑफ वूमेन का भारत सदस्य बन गया है। संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टीएस तिरुमूर्ति ने इस बारे में जानकारी दी है।

टीएस तिरुमूर्ति ने बताया कि प्रतिष्ठित ECOSOC निकाय में भारत ने सीट जीती है। भारत को कमीशन ऑन स्टेटस ऑफ वूमेन (सीएसडब्ल्यू) का सदस्य चुन लिया गया है। उन्होंने कहा कि यह हमारे सभी प्रयासों में लैंगिक समानता और महिला सशक्तीकरण को बढ़ावा देने के लिए हमारी प्रतिबद्धता का एक महत्वपूर्ण समर्थन है। हम सदस्य देशों को उनके समर्थन के लिए धन्यवाद देते हैं।

यह भी पढ़ें…सरकारी कर्मचारियों के लिए खुशखबरी, इतने प्रतिशत बढ़ी सैलरी, खुशी की लहर

बता दें कि भारत, अफगानिस्तान और चीन ने कमीशन ऑन स्टेटस ऑफ वूमेन के लिए चुनाव लड़ा था। इसमें भारत और अफगानिस्तान ने 54 सदस्यों के साथ मतदान में जीत हासिल की, तो वहीं चीन की करारी हार हुई। चीन आधे वोट भी नहीं मिल पाए।

United Nations

गौरतलब है कि बीजिंग वर्ल्ड कॉन्फ्रेंस ऑन वूमेन (1995) की इस साल 25वीं सालगिरह है। इस मौके पर चीन को करारा झटका लगा है और भारत के हाथों हारना पड़ा है। इसके साथ ही अब भारत चार साल के लिए कमीशन ऑन स्टेटस ऑफ वूमेन का सदस्य रहेगा। साल 2021 से लेकर 2025 तक भारत यूनाइटेड नेशन के कमीशन ऑन स्टेटस ऑफ वूमेन का सदस्य बन गया है।

यह भी पढ़ें…UGC-NET परीक्षा की बदली डेट, अब इस दिन होगा एग्जाम, ये है वजह

चीन ने की सीमा पर युद्ध जैसी तैयारी

चीन बातचीत के जरिए विवाद सुलझाने की बात करता है तो वहीं दसूरी ओर उकसाने वाली हरकते कर रहा है। चीन ने वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर युद्ध जैसी तैयारी कर रहा है। चीन ने इस क्षेत्र में 50 हजार सैनिक तैनात कर दिए हैं। ड्रैगन ने यहां पर एयरकाफ्ट और मिसाइलों की बड़ी रेंज भी तैनात की है।

यह भी पढ़ें…शौविक करेगा सबूतों से छेड़छाड़! कोर्ट को है शक, सुनाया ये फैसला…

तो वहीं, भारतीय सेना अपने फॉरवर्ड पोस्ट्स की तरफ आने की चीनी सैनिकों की कोशिशों पर नजर रख हुए है। अभी जानकारों का मानना है कि चीन की हरकतें सिर्फ छेड़ने के लिए हैं और चीनी सेना किसी रणनीति के तहत कार्रवाई की तैयारी नहीं कर रही है, लेकिन सीमा पर सशस्त्र झड़प के लिए उनकी तैयारी हो सकती है। चीन ने लद्दाख में एलएसी पर सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइलें, रॉकेट फोर्स और 150 फाइटर एयरक्राफ्ट भी तैनात किए है। यह सब एलएसी पर हमले की रेंज के अंदर तैनात किए। अब चीन की बौखलाहट का अंदाजा उसकी तैयारियों से लगाया जा सकता है।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App