×

अब नीतीश सरकार ने दिया ड्रैगन को बड़ा झटका, चीनी कंपनियों से छीना मेगा प्रोजेक्ट

लद्दाख में चीनी सेना के साथ हिंसक झड़प में 20 भारतीय जवानों के शहीद होने के बाद पूरे देश में चीन के खिलाफ गुस्से का माहौल है। झड़प में मारे गए अधिकांश...

Ashiki

AshikiBy Ashiki

Published on 29 Jun 2020 3:01 AM GMT

अब नीतीश सरकार ने दिया ड्रैगन को बड़ा झटका, चीनी कंपनियों से छीना मेगा प्रोजेक्ट
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

अंशुमान तिवारी

पटना: लद्दाख में चीनी सेना के साथ हिंसक झड़प में 20 भारतीय जवानों के शहीद होने के बाद पूरे देश में चीन के खिलाफ गुस्से का माहौल है। झड़प में मारे गए अधिकांश जवान बिहार रेजिमेंट से जुड़े हुए थे और अब बिहार की नीतीश सरकार ने चीन को बड़ा झटका दिया है। नीतीश सरकार ने चीनी कंपनियों से बिहार में बड़ा प्रोजेक्ट छीन लिया है। पटना में गंगा नदी पर महात्मा गांधी सेतु के बगल में बनने जा रहे पुल के निर्माण के लिए चीनी कंपनियों का टेंडर रद्द कर दिया गया है।

ये भी पढ़ें: इस एयरलाइंस को DGCA का नोटिस, फ्लाइट में सुरक्षा को लेकर उठाया बड़ा कदम

अब दोबारा मांगे जाएंगे आवेदन

सरकार का कहना है कि इस प्रोजेक्ट को पूरा करने के लिए चुने गए चार कांट्रैक्टर्स में से दो कांट्रैक्टर के पार्टनर चीनी थे और इसी कारण सरकार ने किया बड़ा कदम उठाया है। बिहार के सड़क निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव ने बताया कि जिंदो कांट्रैक्टर्स के पार्टनर चीनी थे। हमने उनसे अपना पार्टनर बदलने को कहा, लेकिन उन्होंने इस दिशा में कोई कदम नहीं उठाया। इस कारण सरकार ने टेंडर को रद्द करने का फैसला किया है। अब इस नए पुल के निर्माण के लिए दोबारा आवेदन मांगे गए हैं।

ये भी पढ़ें: भारत-चीन विवाद: चीनी सेना ने ऐसे रची गलवान में साजिश, हुआ खुलासा

दिसंबर में मिली थी प्रोजेक्ट को मंजूरी

इस बारे में जानकार सूत्रों ने बताया कि गंगा नदी पर नए पुल के निर्माण के लिए चाइना हार्बर इंजीनियरिंग कंपनी और शानशी रोड ब्रिज ग्रुप कंपनी को भी चुना गया था। पिछले साल दिसंबर में केंद्र सरकार की आर्थिक मामलों की कैबिनेट कमेटी ने इस प्रोजेक्ट को मंजूरी दी थी। अब इन दोनों कंपनियों का टेंडर रद्द करने का बड़ा फैसला किया गया है। सूत्रों का कहना है कि देश में चल रही बॉयकॉट चाइना मुहिम की वजह से सरकार की ओर से यह फैसला किया गया है।

ये भी पढ़ें: बिना मास्क वालों पर ‘तीसरी आंख’ की नजर, अब स्टेशनों पर होगी ये कड़ी व्यवस्था

देश में चीन के खिलाफ गुस्से का माहौल

भारत और चीन के बीच इन दिनों पूर्वी लद्दाख में जबर्दस्त तनातनी का माहौल है। चीनी सेना के साथ हिंसक झड़प में 15 जून को भारतीय सेना के 20 जवान धोखेबाजी का शिकार हुए थे। भारत के 20 सैन्य कर्मियों की शहादत के बाद देश में चीन के खिलाफ काफी गुस्सा है। झड़प में शहीद हुए जवानों में कई बिहार के रहने वाले थे और बिहार के लोगों में चीन के खिलाफ जबर्दस्त नाराजगी है। इससे पहले बीएसएनएल और रेलवे की ओर से भी चीनी कंपनियों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की जा चुकी है जबकि महाराष्ट्र सरकार ने तीन चीनी कंपनियों के साथ में 5000 करोड़ रुपए के समझौते को होल्ड पर रख दिया है। अब बिहार सरकार की ओर से भी चीनी कंपनियों के खिलाफ कड़ा कदम उठाया गया है।

ये भी पढ़ें: भारत में चीन विरोधी माहौल से घबराया ड्रैगन, अब टिड्डियों के हमले से है ये उम्मीद

अब प्रोजेक्ट विलंबित होने के आसार

बिहार की राजधानी पटना में नए पुल का जो प्रोजेक्ट बनाया गया है, वह गंगा नदी और एनएच 19 पर चार लेन के मौजूदा महात्मा गांधी सेतु के साथ-साथ बनाया जाएगा। 29.26 अरब रुपए के इस प्रोजेक्ट के तहत चार अंडरपास, एक रेलवे ओवरब्रिज, 1580 मीटर लंबा पुल, चार छोटे पुल, 13 रोड चौराहे और 5 बस शेल्टर बनने हैं। अब नीतीश सरकार की ओर से इस प्रोजेक्ट में शामिल दो कंपनियों के टेंडर रद्द किए जाने के बाद नए सिरे से टेंडर मांगे गए हैं। इसलिए साढ़े तीन साल में पूरा होने वाला यह प्रोजेक्ट अब थोड़ा विलंबित हो सकता है।

ये भी पढ़ें: भारत-चीन तनाव खत्म करने का ऐसा प्लान, अब हर हफ्ते दोनों देश करेंगे ये काम…

Ashiki

Ashiki

Next Story