चीन की फिर शैतानी: यहां से सैनिक हटाने से किया इनकार, अब क्या करेगा भारत

लद्दाख में LAC पर जारी डिसएंगेजमेंट प्रक्रिया के दौरान चीन ने केंद्र में स्थित पैगॉन्ग झील से अपने सैनिक हटाने से इनकार कर दिया है।

Published by Shreya Published: August 4, 2020 | 12:14 pm
Modified: August 4, 2020 | 12:26 pm
PLA

PLA

नई दिल्ली: लद्दाख में लाइन ऑफ एक्च्यूअल कंट्रोल (LAC) पर भारत और चीन के बीच तनातनी जारी है। दोनों पक्षों में डिसएंगेजमेंट पर सहमति बनने के बाद भी चीन कई इलाकों में अपने सैनिक हटाने के मूड में नहीं है। अब खबर है कि चीन ने डिसएंगेजमेंट प्रक्रिया के दौरान पैंगोंग झील के पास ग्रीन टॉप से अपने सैनिक हटाने से इनकार कर दिया है। रविवार को पीपुल्स लिबरेशन आर्मी द्वारा मोल्दो स्थित चीनी बेस पर आयोजित वार्ता के दौरान यह बात सामने आई है।

यह भी पढ़ें: राममंदिर का सपना लिए चले गए राम की शरण में, जानिए इन दिग्गजों के बारे में

उच्च स्तरीय वार्ता के बाद भी नहीं निकला हल

सरकारी सूत्रों का कहना है कि लद्दाख में LAC पर जारी डिसएंगेजमेंट प्रक्रिया के दौरान चीन ने केंद्र में स्थित पैगॉन्ग झील से अपने सैनिक हटाने से इनकार कर दिया है। पैंगोंग के उत्तरी किनारे से निकली एक चोटी पर झाड़ी से ढका पठार है। यह उन इलाकों में शामिल है, जहां दोनों देशों के बीच हुई उच्च स्तरीय वार्ता के बाद भी गतिरोध हल नहीं हो पाया है।

यह भी पढ़ें: सरकार ने दिया तोहफा: करोड़ों किसानों की बल्ले-बल्ले, इस योजना से हर तरफ खुशियां

विदेश मंत्रालय और NSA की कोशिशों से मिलेगी मदद

वहीं अब भारत को उम्मीद है कि विदेश मंत्रालय और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजीत डोभाल दोनों के राजनयिक प्रयासों से पैंगोंग झील के पास ग्रीन टॉप, गोगरा के पास पैट्रोल प्वाइंट 17 ए और डिपोंग मैदान के पास पैट्रोल प्वाइंट 13 पर जारी विवादों को सुलझाने में मदद मिलेगी। बता दें कि चीन ने दावा किया था कि लद्दाख में ज्यादातर विवादित स्थान से डिसएंगेजमेंट का काम पूरा कर लिया है। लेकिन अभी पैंगौंग झील के फिंगर क्षेत्र में डिसएंगेजमेंट नहीं हुआ है।

यह भी पढ़ें: सुशांत मामले में छिड़ा सियासी घमासान, मुंबई पुलिस और बीएमसी पर उठे सवाल

ग्रीन टॉप पर कब्जा करना चाहते हैं पीएलए के कमांडर्स

सरकारी सूत्रों के मुताबिक, पीएलए के कमांडर्स ग्रीन टॉप पर कब्जा करना चाहते हैं, क्योंकि इससे धन सिंह पोस्ट पर साफ-साफ देखा जा सकता है। ये पैंगोंग झील के आसपास भारतीय टुकड़ी के मूवमेंट्स के लिए अहम जगह है। वहीं पीएलए की तरफ से दावा किया गया है कि भारत की ओर से इलाके में किए गए निर्माण की बजाज ग्रीन टॉप पर उसकी स्थिति वैध है।

यह भी पढ़ें: मुस्लिमों के पूर्वज श्री राम! भक्ति में डुबीं ये महिलाएं, रामचरितमानस का कर रहीं पाठ

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App