भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए खुशखबरी, इस क्षेत्र में भारत चौथे स्थान पर

विश्व में फिलहाल आथ्रिक सुस्ती का दौर जारी है, लेकिन इसके बावजूद भी दुनियाभर की कंपनियां भारत में विकास की बेहतर संभावनाएं मानती है। विश्व के मुख्य…

नई दिल्ली। विश्व में फिलहाल आथ्रिक सुस्ती का दौर जारी है, लेकिन इसके बावजूद भी दुनियाभर की कंपनियां भारत में विकास की बेहतर संभावनाएं मानती है। विश्व के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों (सीईओ) का मानना है कि विकास की तलाश कर रही कंपनियों के लिए अमेरिका, चीन और जर्मनी के बाद भारत चौथा सर्वश्रेष्ठ बाजार है।

विश्व आर्थिक मंच की 50वीं सालाना बैठक के दौरान जारी पीडब्ल्यूसी सीईओ के वार्षिक सर्वे के मुताबिक नौ फीसदी वैश्विक कंपनियों का मानना है कि भारत में भविष्य में उनके विकास के लिए मौके हैं।

ये भी पढ़ें-पाकिस्तान दाने-दाने को मोहताज, मच रहा रोटी पर हाहाकार, लाचार है इमरान सरकार

वहीं, भारतीय कंपनियों के सीईओ का कहना है कि विकास की संभावनाओं को लेकर चीन के 45 फीसदी के मुकाबले भारत 40 फीसदी के साथ दूसरे स्थान पर है।

भारत में विकास की बेहतर संभावनाएं मानती है

विश्व में फिलहाल आथ्रिक सुस्ती का दौर जारी है, लेकिन इसके बावजूद भी दुनियाभर की कंपनियां भारत में विकास की बेहतर संभावनाएं मानती है। विश्व के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों (सीईओ) का मानना है कि विकास की तलाश कर रही कंपनियों के लिए अमेरिका, चीन और जर्मनी के बाद भारत चौथा सर्वश्रेष्ठ बाजार है।

भारत में भविष्य में उनके विकास के लिए मौके हैं

विश्व आर्थिक मंच की 50वीं सालाना बैठक के दौरान जारी पीडब्ल्यूसी सीईओ के वार्षिक सर्वे के मुताबिक नौ फीसदी वैश्विक कंपनियों का मानना है कि भारत में भविष्य में उनके विकास के लिए मौके हैं।

ये भी पढ़ें- सचिन और आनंद को मोदी सरकार ने दिया तगड़ा झटका, जानें पूरा मामला

वहीं, भारतीय कंपनियों के सीईओ का कहना है कि विकास की संभावनाओं को लेकर चीन के 45 फीसदी के मुकाबले भारत 40 फीसदी के साथ दूसरे स्थान पर है।