Top

गणतंत्र दिवस पर पहली बारः विदेशी मुख्य अतिथि नहीं होंगे शामिल, हो गया एलान

पूरी दुनिया कोरोना संक्रमण से परेशान हैं. जिसके चलते इस साल 26 जनवरी को होने वाले गणतंत्र दिवस कार्यक्रम में किसी भी विदेशी प्रमुख को आमंत्रित नहीं किया गया ।

Monika

MonikaBy Monika

Published on 14 Jan 2021 4:17 PM GMT

गणतंत्र दिवस पर पहली बारः विदेशी मुख्य अतिथि नहीं होंगे शामिल, हो गया एलान
X
कोरोना वायरस के चलते गणतंत्र दिवस पर कोई विदेशी राष्ट्र प्रमुख नहीं होगा मुख्य अतिथि: केंद्र
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: पूरी दुनिया कोरोना संक्रमण से परेशान हैं. जिसके चलते इस साल 26 जनवरी को होने वाले गणतंत्र दिवस कार्यक्रम में किसी भी विदेशी प्रमुख को आमंत्रित नहीं किया गया । विदेश मंत्रालय ने गुरूवार को जानकारी देते हुए कहा कि कोरोना के कारण इस साल के गणतंत्र दिवस पर मुख्य अतिथि के रूप में किसी विदेशी राष्ट्र प्रमुख या सरकार के मुखिया को आमंत्रित नहीं करने का फैसला लिया है।

साल 1966 में हुए था ऐसा

इससे पहले ऐसा साल 1966 में हुआ था, जिसके बाद अब कोरोना की वजह से ऐसा किया जा रहा है जब गणतंत्र दिवस बिना मुख्य अतिथि के मनाया जाएगा। बता दें, कि ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन इस साल गणतंत्र दिवस के लिए आमंत्रित किये गए थे, लेकिन उनको अपना भारत दौरा रद्द करना पड़ा। ब्रिटेन में फैले कोरोना के नए स्ट्रेन के चलते ऐसा किया गया। जिसके बाद सरकार की तरफ से सूरीनाम गणराज्य के राष्ट्रपति चंद्रिकाप्रसाद संतोखी को न्योता दिया गया, जिसे उन्होंने सहर्ष स्वीकार कर लिया।

इस साल गणतंत्र दिवस पर हुए कई बदलाव

इस साल गणतंत्र दिवस परेड में भी काफी बदलाव किये गए हैं। कोरोना महामारी को देखते हुए इस साल गणतंत्र दिवस की परेड में दूरी की हमेशा की तुलना में कम किया गया है। इस साल परेड विजय चौक से शुरू होकर लाल किले के बजाय नेशनल स्टेडियम पर ही खत्म हो जाएगी। साथ ही परेड में सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का भी पालन किया जाएगा। हर बार मार्चिग कंटिजेंट में 144 सैनिक होते थे लेकिन इस बार सिर्फ 96 होंगे। जो परेड 12/12 के साइज़ के कंटिजेंट में होती थी वहीं इस बार 8/12 का मार्चिंग कंटिंजेंट होगा।

ये भी पढ़ें: 15 जनवरी को सेना दिवसः देश हो जाएं तैयार, देखने को मिलेगी आर्मी की ताकत

नहीं दिखेगी भीड़

यही नहीं इस बार राजपथ पर परेड देखने वाले लोगों की संख्या को काफी हद तक घटा दिया है। पहले ले मुकाबले इस साल केवल 25 हज़ार लोग ही परेड देख पाएंगे। सभी कोरोना के प्रोटोकॉल का पालन करेंगे।

आपको बता दें, इसके साथ ही बांग्लादेश मुक्ति संग्राम के 50 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में बांग्लादेश ट्राइ-सर्विस मार्चिंग कंटेस्टेंट और सेरेमोनियल बैंड इस साल गणतंत्र दिवस परेड में नई दिल्ली के राजपथ पर हिस्सा लेंगे।

ये भी पढ़ें: Kisan Andolan: किसानों-सरकार के बीच कल बड़ी बैठक, इन मुद्दों पर होगी चर्चा

Monika

Monika

Next Story